Indian Railway: प्रशासनिक फेरबदल कर विश्वस्तरीय स्टेशन प्रोजेक्ट को गति देने की तैयारी

Indian Railway:चारबाग और गोमती नगर रेलवे स्टेशन को विश्वस्तरीय बनाने के प्रोजेक्ट की धीमी रफ्तार रेलवे बोर्ड के निशाने पर।

Indian Railway चारबाग और गोमती नगर रेलवे स्टेशन को विश्वस्तरीय बनाने के प्रोजेक्ट की धीमी रफ्तार रेलवे बोर्ड के निशाने पर। रेलवे बोर्ड ने वरिष्ठ अधिकारी सुधीर कुमार सिंह को आरएलडीए में चीफ प्रोजेक्ट मैनेजर के पद पर किया तैनात।

Publish Date:Sat, 28 Nov 2020 02:21 PM (IST) Author: Divyansh Rastogi

लखनऊ, जेएनएन। Indian Railway: चारबाग स्टेशन और गोमती नगर रेलवे स्टेशन को विश्वस्तरीय बनाने के महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट की धीमी रफ्तार औऱ इसमें आ रही बाधाएं आखिर रेलवे बोर्ड के निशाने पर आ गई हैं। रेल मंत्री पीयूष गोयल की प्राथमिकता वाले इस महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट को गति देने के लिए बड़े पैमाने पर प्रशासनिक फेरबदल की तैयारी है। रेलवे बोर्ड ने अब दोनों स्टेशनों को विश्वस्तरीय बनाने में अहम जिम्मा निभाने वाली रेल भूमि विकास प्राधिकरण के पद पर सुधीर कुमार सिंह की तैनाती कर दी है। भारतीय रेलवे इंजीनियरिंग सेवा के वरिष्ठ अधिकारी सुधीर कुमार सिंह को प्राधिकरण का चीफ प्रोजेक्ट मैनेजर बनाया गया है। 

दरअसल, रेलवे बोर्ड के सीईओ और चेयरमैन विनोद कुमार यादव ने पिछले दिनों ही गोमतीनगर और चारबाग़ स्टेशन को विश्वस्तरीय बनाने की योजना की समीक्षा की थी। इस बैठक में एनबीसीसी के चारबाग़ स्टेशन से पीछे हटने और गोमतीनगर की रेलवे की जमीन के लीज पर देने की प्रक्रिया में हो रही देरी से योजना प्रभावित होने पर सीआरबी ने नाराजगी जताई थी। बैठक में ही सीआरबी ने सुधीर कुमार सिंह को उत्तर रेलवे लखनऊ में वरिष्ठ मण्डल अभियंता (समन्वय) के पद से हटाकर आरएलडीए में चीफ प्रोजेक्ट मैनेजर के पद पर तैनाती करने के आदेश दे दिए। 

माना जा रहा है कि सुधीर कुमार सिंह को उनकी अब तक की उपलब्धियों के कारण यह महत्वपूर्ण जिम्मेदारी दी गई है। उनके आगे चारबाग़ स्टेशन के लिए एनबीसीसी की तरह किसी बड़ी एजेंसी का चयन करना बड़ी चुनौती होगी। जो कि रेलवे कॉलोनी की जमीन को लीज पर देकर चारबाग़ को विश्वस्तरीय बनाने के करीब एक हजार करोड़ का फंड जुटा सके। वही गोमतीनगर स्टेशन के काम मे तेजी और यूपी सरकार के विभागों साथ बेहतर समन्वय बनाकर दो साल में पहले फेस का काम पूरा करा सकें। इसलिए चुना गया सुधीर कुमार सिंह को भारतीय रेलवे इंजीनियरिंग सेवा के 1999 बैच के अधिकारी सुधीर कुमार सिंह के नाम रेलवे में कई बड़े प्रोजेक्ट को समय पर पूरा करने का अनुभव है।

सुधीर कुमार सिंह ही थे, जिन्होंने बंंद हो गई लखनऊ-सुलतानपुर-जफराबाद और उतरेटिया-रायबरेली-प्रतापगढ़ रेल दोहरीकरण योजना को शुरू किया। साथ ही सुलतानपुर होकर जफराबाद तक डबलिंग पूरी करा दी। जंघई-जफराबाद रेलखंड आरसीसी ब्रिजों की स्थापना भी करायी। सुधीर सिंह ने ही फैजाबाद सेक्शन को 120 किमी के लिए अपग्रेड भी कराया। पिपराघाट पर बनकर 10 साल से तैयार नए पुल को बनाने के साथ उसको। कमीशंड भी सुधीर कुमार सिंह की टीम ने किया।

 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.