प्रकाश बजाज का आरोप- दूसरा सेट ही गायब, हाई कोर्ट-सुप्रीम कोर्ट जहां भी न्याय मिलेगा वहां जाऊंगा

प्रकाश बजाज का आरोप मेरे नामांकन पत्र का दूसरा सेट ही गायब कर दिया गया।
Publish Date:Thu, 29 Oct 2020 11:14 PM (IST) Author: Umesh Tiwari

लखनऊ [राज्य ब्यूरो]। उत्तर प्रदेश के राज्यसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी के समर्थन से निर्दलीय पर्चा भरने वाले प्रकाश बजाज ने कहा कि हाई कोर्ट, सुप्रीम कोर्ट जहां भी न्याय मिलेगा वहां जाऊंगा। मेरे साथ नाइंसाफी हुई है। मेरे नामांकन पत्र का दूसरा सेट ही गायब कर दिया गया। इसका मेरे पास प्रमाण भी है। पता नहीं किस दबाव में मेरा नामांकन खारिज हुआ। 

प्रकाश बजाज गुरुवार को अपने पिता प्रदीप बजाज के साथ सपा मुख्यालय में अखिलेश यादव से भी मिले। इसे शिष्टाचार भेंट बताते हुए उन्होंने कहा कि अखिलेश ने उनके नामांकन में मदद की जिसके लिए धन्यवाद देने आए थे। अखिलेश ने उन्हें नाइंसाफी के खिलाफ कानूनी लड़ाई में अपना साथ देने का भरोसा दिया है। बजाज ने बताया कि बसपा व भाजपा ने उनके नामांकन पत्र में जो आपत्तियां की थीं उनका लिखित जवाब आरओ को दे दिया था। प्रस्तावक में एक विधायक का नाम नवाब जान के बजाय नवाब शाह लिख गया था। यह लिपिकीय त्रुटि थी, जबकि विधायक के हस्ताक्षर ठीक थे।

उन्होंने बताया कि मैंने रिप्रजेंटेशन ऑफ पीपुल्स एक्ट का हवाला देते हुए अपना लिखित पक्ष रखा। लेकिन आरओ ने इसे नहीं माना। वहीं, हलफनामा में एक कॉलम न भरा होने पर आपत्ति की गई थी। इस मामले में आरओ को नामांकन पत्रों की जांच से पहले उनके द्वारा तय समय पर प्रमाण दे दिए थे। साथ ही सुप्रीम कोर्ट के जजमेंट का हवाला भी दिया गया। उन्होंने बताया कि वे अपने लीगल पेपर तैयार करवा रहे हैं। जल्द ही चुनाव आयोग से लेकर सु्प्रीम कोर्ट तक का दरवाजा खटखटाएंगे।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.