उत्तराखंड एमपी और जम्मू-कश्मीर की तर्ज पर यूपी में पर्यटन को लगेंगे पंख, राज्यों ने दी प्रस्तुति

घरेलू पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए गोमतीनगर स्थित पर्यटन भवन में चल रहे तीन दिवसीय ट्रैवेल्स कॉन्क्लेव में शनिवार को जम्मू कश्मीर और मध्य प्रदेश राज्य से आए पर्यटन विभाग के अधिकारियों ने अपना प्रस्तुतिकरण दिया। इस आयोजन में नौ राज्य भाग ले रहे हैं।

Dharmendra MishraPublish:Sun, 05 Dec 2021 01:39 PM (IST) Updated:Sun, 05 Dec 2021 01:39 PM (IST)
उत्तराखंड एमपी और जम्मू-कश्मीर की तर्ज पर यूपी में पर्यटन को लगेंगे पंख, राज्यों ने दी प्रस्तुति
उत्तराखंड एमपी और जम्मू-कश्मीर की तर्ज पर यूपी में पर्यटन को लगेंगे पंख, राज्यों ने दी प्रस्तुति

लखनऊ, जागरण संवाददाता।  घरेलू पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए गोमतीनगर स्थित पर्यटन भवन में चल रहे तीन दिवसीय ट्रैवेल्स कॉन्क्लेव में शनिवार को जम्मू कश्मीर और मध्य प्रदेश राज्य से आए पर्यटन विभाग के अधिकारियों ने अपना प्रस्तुतिकरण दिया। इस आयोजन में नौ राज्य भाग ले रहे हैं।

इसमें पर्यटकों के लिए विभिन्न डेस्टिनेशन प्वाइंट और उनके आसान पैकेज की ओर ट्रैवेल एजेंटों का ध्यान आकृष्ट कराया गया। ट्रैवेल एजेंटों को कोरोना काल के बाद नई तैयारियों के बारे में बताया गया। आयोजक इंडिया ट्रैवेल मार्ट प्रबंध निदेशक अजय गुप्ता ने मौजूदा परिवेश में घरेलू पर्यटन को बढ़ाए जाने की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि इन दिनों डेस्टिनेशन वेडिंग, वेलनेस टूरिज्म और कान्फ्रेंस से जुडे़ टूरिज्म चलन में हैं।

उन्होंने कहा कि आजकल लोगों मनपसंद जगहों को वेडिंग के लिए चुनते हैं। यही डेस्टिनेशन वेडिंग, घरेलू पर्यटन को आगे ले जाता है। वेलनेस टूरिज्म में लोग फिट रहने के लिए पहाड़ी क्षेत्राें और अन्य रमणीक स्थलों को चुनना पसंद करते हैं। यहां योग और धार्मिक पर्यटन की रुचि रखने वालों को जोड़ा जा सकता है। टूर आपरेटरों को उत्तराखंड राज्य, यूपी, मध्य प्रदेश आदि पर्यटन स्थलों के पैकेजों की उन्होंने जानकारी दी।

मध्य प्रदेश टूरिज्म बोर्ड के असिस्टेंट मैनेजर सौरभ पांडेय ने मध्य प्रदेश से जुडे़ पर्यटन स्थलों का महत्व और पर्यटकों को साथ लाने के लिए तरीके सुझाए। उन्होंने आकर्षक पैकेजों की जानकारी दी। पर्यटकों को एमपी की ओर खींचने वाली तमाम योजनाओं को टूर आपरेटरों के समक्ष रखा। कई पौराणिक महत्व वाले स्थानों का जिक्र कर उन्होंने योजनाएं और तैयारियों की जानकारी दी। जम्मू कश्मीर राज्य की ओर से आईं संयुक्त निदेशक नताशा कलसोत्रा ने आफ बीट डेस्टिनेशन प्वाइंट की जानकारी ट्रेवेल एजेंट के समक्ष रखी। कहा कि कोई एडवेंचर तो कोई रमणीक स्थल यानी साइट सीन को पसंद करते हैं। पर्यटकों को इसके लिए जम्मू कश्मीर राज्य में बहुत अवसर हैं।

उप निदेशक डा.अलयाज अहमद ने कहा कि वैसे तो पर्यटकों की पहली पसंद जम्मू कश्मीर राज्य ही रहता है। गुलमर्ग हो या फिर पहलगाम, श्रीनगर की ओर पर्यटकों का रुझान रहता है। लेकिन तमाम ऐसे पर्यटन स्थल हैं जो लोगों की नजर में नही हैं। विभाग ने वेरीनाग, गुरेज, बंगस्वेली, नत्था टाप, बाबा दानशर आदि कई नए पर्यटन स्थलों के बारे में जानकारी दी।