कोरोना के ओमिक्रोन वैरिएंट ने दिया टूरिज्म सेक्टर को बड़ा झटका, विदेश यात्रा की तैयारियों पर लगा ब्रेक

पटरी पर लौट रहे विदेशी टूरिज्म सेक्टर को एक बार फिर झटका लगा है। कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रोन की दस्तक के कारण विदेश यात्रा की तैयारी कर रहे भारतीय रेलवे खानपान एवं पर्यटन् निगम (आइआरसीटीसी) को अब कुछ दिन और इंतजार करना पड़ेगा।

Vikas MishraMon, 06 Dec 2021 08:02 PM (IST)
कई टूर एजेंसियों ने भी अपने विदेशी पैकेज को निरस्त करना शुरू कर दिया है।

लखनऊ, जागरण संवाददाता। पटरी पर लौट रहे विदेशी टूरिज्म सेक्टर को एक बार फिर झटका लगा है। कोरोना को नए वैरिएंट ओमिक्रान की दस्तक के कारण विदेश यात्रा की तैयारी कर रहे भारतीय रेलवे खानपान एवं पर्यटन् निगम (आइआरसीटीसी) को अब कुछ दिन और इंतजार करना पड़ेगा। हालांकि अब आइआरसीटीसी जनवरी माह तक ओमिक्रोन की स्थिति की निगरानी करेगा। वहीं, कई टूर एजेंसियों ने भी अपने पैकेज को निरस्त करना शुरू कर दिया है। 

पिछले साल मार्च से कोरोना के कारण घरेलू और इंटरनेशनल टूरिज्म ठप हो गया था। इस साल सितंबर से घरेलू पर्यटन सेक्टर में तेजी आना शुरू हुआ था। विदेश की यात्रा पर जाने वाले पर्यटकों के लिए दुबई ही एकमात्र सबसे बड़ा विकल्प बन गया। पिछले दिनों सरकार ने सिंगापुर सहित कई देशों को नियमित उड़ानों की अनुमति दे दी थी। इसके बाद शहरवासियों ने दिसंबर के अंतिम सप्ताह और जनवरी में सिंगापुर, बैंकाक सहित दक्षिण पूर्वी एशिया के कई देशों में सैर करने के लिए अपने पैकेज की बुकिंग शुरू कर दी।

आइआरसीटीसी ने भी दिसंबर के अंतिम सप्ताह में अपना इंटरनेशनल टूर पैकेज लांच करने की तैयारी की थी। लेकिन कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रोन के कारण अब विदेशी टूर की तैयारियों को रोक दिया गया है। जनवरी के दूसरे सप्ताह की स्थिति का आंकलन करने के बाद इन टूर के पैकेज लांच होंगे। आइआरसीटीसी के वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक एडवांस में कई यात्रियों ने दिसंबर माह की बुकिंग के चेक दे दिए थे। लेकिन अब ओमिक्रोन के कारण उन्होंने इंटरनेशनल टूर पैकेज को स्थगित करने को कहा है।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.