सीमेंट को ‘बाहुबली’ बनाएगी पॉलिथीन, मध्‍य प्रदेश की फैक्‍ट्री में शुरू हुआ प्रयोग

 लखनऊ [अजय श्रीवास्तव]। पर्यावरण के लिए खतरा मानी जाने वाली पॉलिथीन अब विकास कार्यो में भागीदार बनेगी। जिस पॉलिथीन को खपाने की चिंता सरकार से लेकर पर्यावरणविद को सता रहा थी, अब उसकी मांग हाथोंहाथ हो रही है। पॉलिथीनन अब सिर्फ सड़क बनाने में ही उपयोगी नहीं हो रही है, बल्कि वह आने वाले समय में सीमेंट को भी और बाहुबली बनाएगी। मध्य प्रदेश की फैक्ट्री में यह प्रयोग शुरू हो रहा है, जिसके बाद जल्द ही इमारतों में उसकी छाप दिखेगी।

पॉलिथीन पर प्रतिबंध के बाद समूचे उप्र में इसकी बंपर बरामदगी हुई। करीब 111 टन का आंकड़ा पहुंच गया। पॉलिथीन जब्त तो कर ली, उसका किया जाए? यह बड़ा सवाल प्रशासन और सरकार के सामने था, जिसका तोड़ मिल गया है। करीब 450 टन पॉलिथीन मध्य प्रदेश की एक नामचीन सीमेंट फैक्ट्री को भेजी जा रही है। लखनऊ के साथ ही अयोध्या और बनारस से एक सप्ताह से पॉलिथीन मध्य प्रदेश को रवाना की गई है।

पॉलिथीन का कार्बन मजबूत बनाएगा सीमेंट : स्वच्छ भारत मिशन में प्लास्टिक वेस्ट मैनेजमेंट की उत्तर प्रदेश की प्रभारी भूमिका पुरी ने बताया कि पॉलिथीन में कार्बन होता है। इससे सीमेंट को मजबूती मिलेगी। मध्य प्रदेश की सीमेंट फैक्ट्री में पॉलिथीन मिलाकर इसका उपयोग भी किया जा चुका है। अयोध्या, वाराणसी, लखनऊ से पॉलिथीन को मध्य प्रदेश की सीमेंट फैक्ट्री को भेजा जा चुका है। अभी 450 टन पॉलिथीन दी जा रही है। दरअसल, चार माह पूर्व प्रदेश के सभी नगरीय निकायों में 111 टन पॉलिथीन और उससे बने अन्य उत्पाद जब्त किए गए थे। उसके बाद से सरकार अभी तक कोई नीति नहीं बना सकी थी कि जब्त पॉलिथीन का करना क्या है।

ऐसे आ रही काम : लखनऊ में पॉलिथीन से करीब 30 किमी की सड़क बनाने का प्रयोग सफल हो चुका है। इसके साथ ही मथुरा नगर निगम ने पॉलिथीन को रिफाइनरी को भेजा है, जहां से तैयार फ्यूल ऑयल का उपयोग जनरेटर चलाने में होगा। भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण भी सड़क बनाने के लिए पॉलिथीन की मांग कर रहा है।

ऐसे हुई थी कार्रवाई : हाईकोर्ट के आदेश के बाद सरकार ने प्रतिबंधित पॉलिथीन के खिलाफ कार्रवाई का आदेश दिया था। 12 विभागों को प्रतिबंधित प्लास्टिक, प्लास्टिक कैरी बैग, थर्माकोल से निर्मित कप, ग्लास, प्लेट, चम्मच जब्त करने का निर्देश दिया गया था। दो अक्टूबर से सिंगिल यूज प्लास्टिक पूरी तरह से प्रतिबंधित कर दी गई थी।

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.