UP: अब कोविड अस्पतालों में भर्ती होंगे डेंगू और वायरल फीवर के रोगी, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दिए ये निर्देश

UP Health Department यूपी में कोरोना से निपटने के लिए तैयार किए गए इंफ्रास्ट्रक्चर का प्रयोग अब डेंगू व वायरल फीवर से मुकाबला करने में किया जाएगा। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश के बाद स्वास्थ्य विभाग ने इसे लेकर तैयारियां तेज कर दी हैं।

Vikas MishraSat, 04 Sep 2021 08:06 AM (IST)
योगी के निर्देश के बाद प्रमुख सचिव (चिकित्सा शिक्षा) ने आगरा व फीरोजाबाद में डेरा डाल दिया है।

लखनऊ, राज्य ब्यूरो। यूपी में कोरोना से निपटने के लिए तैयार किए गए इंफ्रास्ट्रक्चर का प्रयोग अब डेंगू व वायरल फीवर से मुकाबला करने में किया जाएगा। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश के बाद स्वास्थ्य विभाग ने इसे लेकर तैयारियां तेज कर दी हैं। फीरोजाबाद, मथुरा व मैनपुरी समेत कई जिलों में डेंगू व वायरल फीवर के रोगी बड़ी संख्या में मिले हैं। वहीं स्क्रब टाइफस व लेप्टोस्पायरोसिस के भी मरीज सामने आए हैं। ऐसे में अब सभी जिलों में इन संक्रामक बीमारियों से ग्रस्त रोगियों को कोरोना अस्पतालों में भर्ती किया जाएगा। गंभीर रूप से बीमार बच्चों को पीडियाट्रिक आइसीयू (पीकू) व नियोनेटल आइसीयू (नीकू) वार्ड में भर्ती किया जाएगा।

मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद शुक्रवार को प्रमुख सचिव (चिकित्सा शिक्षा) आलोक कुमार ने आगरा व फीरोजाबाद में डेरा डाल दिया है। यहां मरीजों की संख्या और न बढ़े, इसके लिए वह स्वास्थ्य विभाग व जिला प्रशासन के अधिकारियों के साथ रणनीति बनाएंगे। मरीजों के लिए बेड की उपलब्धता बढ़ाने सहित अन्य जरूरी संसाधन की भी व्यवस्था कराएंगे। उधर चिकित्सा एवं स्वास्थ्य महानिदेशक डा.वेद ब्रत ङ्क्षसह ने बताया कि अगर जिले में कोरोना के दो रोगी तक मिलते हैं तो उन्हें मेडिकल कालेज व जिला अस्पताल में बने लेवल टू के अस्पतालों में भर्ती के लिए भेजा जाएगा।

दो से अधिक मरीज मिलने पर ही उन्हें लेवल वन के कोरोना अस्पतालों में भर्ती किया जाएगा। प्रत्येक जिले में चार सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों (सीएचसी) पर आक्सीजन की सुविधा युक्त 10 बेड व बाइपैप की सुविधा वाले दो बेड की व्यवस्था है। हर जिला अस्पताल में आक्सीजन की सुविधा युक्त और बाइपैप की सुविधा वाले 40 बेड हैं। पीकू व नीकू की भी व्यवस्था है। ऐसे में इन सभी का प्रयोग डेंगू व वायरल फीवर के रोगियों के इलाज के लिए किया जाएगा। अब तक 396 अस्पतालों में आक्सीजन प्लांट की व्यवस्था की जा चुकी है। करीब 22 हजार आक्सीजन कंसंट्रेटर उपलब्ध हैं। ऐसे में इन सभी का उपयोग डेंगू व वायरल फीवर के मरीजों के इलाज में किया जाएगा।

रविवार से प्रदेश भर में चलेगा स्वच्छता अभियानः संक्रामक रोगों से लोगों को बचाने के लिए रविवार से प्रदेश भर में विशेष स्वच्छता अभियान चलाया जाएगा। इसके लिए प्रत्येक जिले में नोडल अधिकारी तैनात किए जा चुके हैं। उधर सात सितंबर से स्वास्थ्य विभाग की टीम घर-घर जाकर डेंगू, वायरल फीवर, कोरोना के रोगियों व टीकाकरण से छूट गए लोगों को चिन्हित करेगी।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.