सामान्य डेंगू बुखार में सिर्फ पैरासिटामॉल और लिक्विड से हो जाएंगे ठीक, जान‍िए क्‍या कहते हैं व‍िशेषज्ञ

डेंगू की पुष्टि कार्ड यानि रैपिड (एनएस1) टेस्ट से या फिर एलाइजा (आइजीएम) से हो चुकी है और सामान्य डेंगू है तो घबराने की जरूरत नहीं है। इसमें सिर्फ बुखार आने पर पैरासिटामॉल की डोज लें। साथ ही नारियल पानी सब्जियों व फलों का जूस इत्यादि अधिक मात्रा में लें।

Anurag GuptaThu, 21 Oct 2021 04:37 PM (IST)
बलरामपुर अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डा. आरके गुप्ता ने दी जानकारी।

लखनऊ, जागरण संवाददाता। यह डेंगू और वायरल बुखार का सीजन चल रहा है। बिना जांच के बता पाना मुश्किल है कि किसको कौन सा बुखार है। क्योंकि डेंगू-मलेरिया, टायफाइड और अन्य वायरल बुखार के शुरुआती लक्षण लगभग मिलते जुलते हैं। अगर डेंगू की पुष्टि कार्ड यानि रैपिड (एनएस1) टेस्ट से या फिर एलाइजा (आइजीएम) से हो चुकी है और सामान्य डेंगू है तो घबराने की जरूरत नहीं है। इसमें सिर्फ बुखार आने पर पैरासिटामॉल की डोज लें। इसके साथ ही लिक्विड जिसमें पानी, नारियल पानी, सब्जियों व फलों का जूस इत्यादि अधिक मात्रा में लें। इससे चार-पांच दिनों में अपने आप ठीक हो जाएंगे। यह बातें गुरुवार को दैनिक जागरण के हेलो डाक्टर में लोगों के सवालों का जवाब देते बलरामपुर अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डा. आरके गुप्ता ने कही। पेश हैं कुछ अन्य प्रमुख सवाल और उनके जवाब...

सवाल: दो-तीन दिन से बुखार जाड़े के साथ आ रहा है और भूख भी कम लग रही। डेंगू तो नहीं?

जवाब: बिल्कुल यह डेंगू का लक्षण हो सकता है। यदि 100 डिग्री से ऊपर बुखार आए तो सिर्फ पैरासिटामॉल 500 एमजी लें। बुखार के साथ उल्टी दस्त या जोड़ों में दर्द बढ़े तो डेंगू जांच कराएं। लिक्विड (पानी, नारियल पानी, सब्जियों और फलों का जूस) अधिक मात्रा में लें। सामान्य डेंगू चार-पांच दिनों में अपने आप ठीक हो जाता है।

सवाल: मेरी डेंगू रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। चार-पांच दिन में बुखार तो उतर गया। प्लेटलेट्स काउंट एक लाख नौ हजार है?-आरपी त्रिपाठी, हरिहर नगर, लखनऊ।

जवाब: एक लाख नौ हजार प्लेटलेट्स होने पर घरबाने की कोई जरूरत नहीं है। यह एक-दो दिन में कवर हो जाएगा। बुखार उतर गया तो अब आप ठीक हो रहे हैं। पानी, जूस अधिक मात्रा में लें।

सवाल: कैसे समझें कि किसी को डेंगू हुआ है... उपचार क्या है?- डीके शर्मा, गोमती नगर , लखनऊ

जवाब: डेंगू होने पर तेज हड्डी तोड़ बुखार आता है। यह चढ़ता उतरता रहता है। कई बार इसमें प्लेटलेट्स डाउन हो जाती है। उल्टी-मितली, चक्कर, कमजोरी, थकान जोड़ों में दर्द होने लगता है। आसपास साफ-पानी जमा है तो उसे सुखा दें या फिर केरोसिन अथवा जला तेल डाल दें। साफ-सफाई रखें। सोते समय मच्छरदानी या मच्छररोधी क्रीम, अगरबत्ती लगाएं। डेंगू का एडीज मच्छर दिन में काटता है। इस मौसम में पूरी बांह के कपड़े पहनें। बुखार आने पर सिर्फ पैरासिटामॉल और लिक्विड लें।

सवाल: डेंगू होने पर खान-पान से लेकर इलाज में क्या सावधानी बरतें? -गोबिंद रस्तोगी, रायबरेली और गंगाराम यादव, अयोध्या

जवाब: सभी डेंगू बुखार गंभीर नहीं होता। उल्टी होने, बीपी गिरने या प्लेटलेट्स कम होने पर अस्पताल में जाकर दिखाएं। अगर आप सामान्य महसूस कर रहे हैं तो बुखार आने पर सिर्फ पैरासिटामॉल और लिक्विड लें। घर पर ही एक हफ्ते तक आराम करें। मच्छरों से हर हाल में बच्चें। खाने में हल्का भोजन दाल, दलिया, खिचड़ी इत्यादि लें।

सवाल:मेरी बेटी ढाई साल की है। महीने भर से कभी-कभी बुखार आता है। पैरासिटामॉल और डोलो देने पर भी कम नहीं हो रहा। सिर गर्म बना रहता है?- अनुभव सिंह, किला बाजार, रायबरेली

जवाब: अगर ऐसा है तो आप जिला अस्पताल या लखनऊ में आकर किसी बाल रोग विशेषज्ञ को दिखा लें। यह डेंगू नहीं है। बुखार 100 से कम आए तो सिर्फ गीले कपड़े से पोंछ दें। सिर गर्म रहने से कोई दिक्कत नहीं है

सवाल: डेंगू का पता कैसे चलता है। लक्षण क्या हैं?- रामसेवक, बाराबंकी

जवाब: डेंगू समेत अन्य वायरल बुखार के लक्षण शुरुआत में मिलते जुलते हैं। सही से जांच के बाद ही डेंगू या अन्य बुखार का निर्धारण हो पाता है। इसमें एनएस1 और आइजीएम दो तरह की जांच होती है। डेंगू होने पर हड्डी तोड़ बुखार, जोड़ों और हड्डियों में दर्द, उल्टी-दस्त होने के साथ प्लेटलेट्स डाउन हो सकती है।

सवाल: पांच साल पहले मेरे दो लड़कों को डेंगू हो गया था। तब से उनको कमजोरी हो रही है। तंदुरुस्त नहीं हो पा रहे?- सत्येंद्र, गोंडा, राजपुर

जवाब: पांच साल तक डेंगू का असर किसी में नहीं रहता। कमजोरी के खान-पान समेत कुछ अन्य कारण पेट में कीड़े, कृमि इत्यादि हो सकते हैं। इसके लिए नजदीकी अस्पताल में जांच कराएं। फिर किसी बालरोग विशेषज्ञ को दिखा लें।

सवाल: हमारे गांव में दो-तीन लोगों में महीने से भर से बुखार पैरासिटामॉल लेने से भी नहीं उतर रहा। - विपिन शर्मा, लखीमपुरखीरी

जवाब: यदि माह-दो माह से किसी को बुखार आ रहा है तो यह किसी दूसरी पुरानी और गंभीर बीमारी का लक्षण हो सकता है। मगर यह डेंगू नहीं है। जांच कराकर तब इलाज कराएं।

सवाल:डेंगू होने पर पपीते की पत्ती और बकरी का दूध देने का क्या फायदा है। क्या इससे वाकई प्लेटलेट्स बढ़ सकती है?- संदीप मोदनवाल, मोतिगरपुर, सुलतानपुर

जवाब: डेंगू में पपीते -और बकरी का दूध देने से प्लेटलेट्स के बढ़ने का कोई वैज्ञानिक आधार उपलब्ध नहीं है। इसलिए एलोपैथी किसी को इसकी सलाह नहीं देती। इस बारे में आयुर्वेद के डाक्टर से परामर्श ले सकते हैं।

सवाल: करीब एक महीने से मेरे हाथ-पैर में दर्द और बुखार है?- संतोष त्रिपाठी, गणेशगंज,आर्य समाज रोड लखनऊ

जवाब: यह डेंगू नहीं है। इसकी जांच करा लें कुछ और हो सकता है। डेंगू में इतना लंबा बुखार कभी नहीं रहता।

सवाल: हल्का बुखार, छींक और जुकाम क्या डेंगू का लक्षण हो सकता है?- सुरेश खुराना, एलडीए कालोनी, कानपुर रोड, लखनऊ

जवाब: हल्का बुखार व छींक, जुकाम और दर्द है तो पहले तीन-चार दिनों तक बुखार के लिए पैरासिटामॉल लें। पानी जूस अधिक लें। चार-पांच दिन बाद आराम नहीं मिलने पर डेंगू जांच करवा लें।

सवाल: डेंगू में भर्ती करना और प्लेटलेट्स चढ़ाना कब जरूरी हो जाता है?- जयपाल सिंह, रायबरेली लालगंज

जवाब: डेंगू होने पर यदि मरीज को उल्टी-दस्त अधिक हो रहा। वह कमजोरी, चक्कर के साथ प्लेटलेट्स 30 हजार से कम हो जाए या फिर शरीर में रेशे चक्कते निकलने अथवा नाक, कान, मुंह, मलद्वार कहीं से रक्तस्राव होने लगे तो प्लेटलेट्स 50 हजार से ऊपर होने पर भी भर्ती की जरूरत पड़ती है। ब्लीडिंग होने पर मरीज को तत्काल प्लेटलेट्स भी चढ़ाई जाती है। मगर यदि मरीज के अन्य पैरामीटर स्थिर हैं तो 10 हजार से नीचे प्लेटलेट्स होने पर ही चढ़ाई जाती है। कई बार पांच-सात हजार प्लेटलेट्स वाले भी बिना इसके चढ़ाए ही रिकवर हो जाते हैं।

सवाल: यदि एक माह अथवा उससे कम उम्र के नवजात में डेंगू हो जाए तो कैसे पहचान करें, क्या सावधानी रखें?- अनुराग पांडेय, गोंडा

जवाब: यदि कई दिनों से 104 डिग्री तक बुखार आ रहा है। साथ में उल्टी दस्त हो रहा हो। चेहरे पर रेशे या चक्ते आ रहे हों तो यह डेंगू का लक्षण हो सकता है। किसी नजदीकी अच्छे अस्पताल में जाकर बालरोग विशेषज्ञ को दिखवा लें।

सवाल: यदि तीन-चार दिनों से डेंगू बुखार हो तो क्या करें?- सोनू, गोमतीनगर, लखनऊ

जवाब: यदि और कोई दिक्कत नहीं है तो बुखार 100 डिग्री से अधिक होने पर सिर्फ पैरासिटामॉल लें। मच्छरों से बचें। लिक्विड अधिक मात्रा में लें। प्लेटलेट्स व बीपी डाउन होने अथवा उल्टी होने पर अस्पताल जाएं।

सवाल: डेंगू में प्लेटलेट्स कम होने पर कैसे बढ़ाएं?- विक्रम सिंह, हरदोई, हरिहरपुर

जवाब: प्लेटलेट्स कम होने के अलावा कोई दूसरी दिक्कत न हो तो घबराना नहीं चाहिए। 10 हजार तक प्लेटलेट्स चढ़ाने की जरूरत सामान्य मरीजों में नहीं पड़ती। पानी, जूस, नारिलयल पानी, फल, कीवी, चुकंदर, गाजर इत्यादि लेने से प्लेटलेट्स अपने आप बढ़ जाती है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
You have used all of your free pageviews.
Please subscribe to access more content.
Dismiss
Please register to access this content.
To continue viewing the content you love, please sign in or create a new account
Dismiss
You must subscribe to access this content.
To continue viewing the content you love, please choose one of our subscriptions today.