शोहदों पर Mission Shakti की लगाम, लखनऊ में महिला संबंधी अपराध के ग्राफ में आई कमी

उत्‍तर प्रदेश में मुख्यमंत्री के मिशन शक्ति योजना से शोहदों में दहशत।

लखनऊ में पुलिस और मुख्यमंत्री द्वारा शुरू की गई मिशन शक्ति योजना और पुलिस की सक्रियता से महिलाओं युवतियों से छेड़छाड़ दुष्कर्म महिला हिंसा और घरेलू हिंसा संबधी अपराधों में काफी कमी आयी है। इसके साथ ही पॉक्सो एक्ट में भी काफी कमी आयी है।

Rafiya NazTue, 23 Feb 2021 01:29 PM (IST)

लखनऊ [सौरभ शुक्ला]। राजधानी में पुलिस और मुख्यमंत्री द्वारा शुरू की गई मिशन शक्ति योजना और पुलिस की सक्रियता से महिलाओं, युवतियों से छेड़छाड़, दुष्कर्म, महिला हिंसा और घरेलू हिंसा संबधी अपराधों में काफी कमी आयी है। बीते दो सालों में महिला अपराध के 36 फीसद मामले कम हुए हैं और निस्तारण की संख्या बढ़ी है। इसके साथ ही पॉक्सो एक्ट में भी काफी कमी आयी है।

पिंक पुलिस और थाना पुलिस की सक्रियता से घटे मामले

राजधानी में पिंक पुलिस और थाना पुलिस की सक्रियता से महिला अपराध के मामले घटे हैं। मिशन शक्ति शुरू होने के बाद से लगातार शहरी इलाकों से लेकर ग्र्रामीण इलाकों की गलियों तक स्कूटी और कार सवार पिंक पुलिस की महिला पुलिस कर्मियों की गश्त बढ़ी है। यह सार्वजनिक स्थानों पर गश्त करती रहती हैं। जहां भी मनचलों और शोहदों को देखा तो तुरंत कार्यवाही करती हैं।

कुटुंब योजना, महिला हेल्प डेस्क से भी आयी कमी

महिला संबंधी अपराधों में कमी लाने के लिए कुटुंब योजना और महिला हेल्प डेस्क का भी अहम रोल है। कुटुंब योजना के लिए एक अलग सेल बनाई गई है। यहां घरेलू हिंसा सबंधित मामलों की सुनवाई होती है। छोटे-छोटे विवाद दोनों पक्षों को बुलाकर ही समझा दिए जाते हैं जिससे परिवार टूटने से बचते हैं और वहीं पर बात खत्म हो जाती है। मुकदमा दर्ज करने की नौबत ही नहीं आती है।

सार्वजनिक स्थानों पर कैमरे लगने से भी शोहदे नजर में

सार्वजनिक स्थानों पर पुलिस के अत्याधुनिक कैमरे लगे हैं। यह कैमरे पुलिस कंट्रोल रूम से कनेक्ट हैं। इस कारण शोहदे सार्वजनिक स्थानों पर महिलाओं से छेड़छाड़ के मामलों में बचते हैं। उनमें पुलिस द्वारा पकड़े जाने को लेकर भय है।

112 से 1090 कनेक्ट होने के कारण मौके पर जल्दी पहुंचती है पुलिस

पुलिस कंट्रोल रूम 112 को वूमेन पॉवर लाइन 1090 को कनेक्ट कर दिया गया है। इस लिए जो भी कॉल वूमेन पॉवर लाइन और कंट्रोल रूम को छेड़छाड़ से संबंधित आती है तो दोनों विभागों को तत्काल सूचना मिल जाती है। जिससे छेड़छाड़ के मामलों में त्वरित कार्यवाही होती है।

महिला संबंधी अपराध

वर्ष           कुल अपराध   निस्तारित हुए मामले      लंबित

2020-21            1921    1552                        369

2019-20            2761    1440                       1321

2018-19            3010    2074                        936

पॉस्को एक्ट

वर्ष             कुल अपराध   निस्तारित हुए मामले   लंबित

2020-21        234            207                         27

2019-20        234           130                         104

2018-19        286           184                         102

डीसीपी क्राइम अगेंस्ट वूमेन रुचिता चौधरी ने कहा कि मुख्यमंत्री के द्वारा शुरू की गई मिशन शक्ति योजना से महिलाओं और छात्राओं को जागरूक किया जा रहा है। इसके अलावा स्कूलों, सार्वजनिक स्थानों पर पिंक पुलिस की ड्यूटी लगाई गई है। पिंक पुलिस लगातार गश्त करती रहती है। कुटुंब योजना समेत कई अन्य बिंदुओं पर महिला अपराधों में कमी लाने का प्रयास किया जा रहा है। काफी हद तक हमें सफलता मिली है। भविष्य में महिला अपराध से संबंधित आंकड़ा और कम होगा।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.