top menutop menutop menu

Lucknow Coronavirus News Update: पूर्व मंत्री समेत कोरोना से छह मरीजों की मौत, राजधानी में फिर फूटा कोरोना बम एक दिन में 308 मामले-मृतकों की संख्या 43 पहुंची

लखनऊ, जेएनएन। शहर में कोरोना भयावह हो गया है, एक बार फिर राजधानी में कोरोना का रिकार्ड टूट गया है। गुरुवार को अब तक 308 कोरोना के मामले आ चुके हैं। वहीं सुबह तक ये आंकड़ा केवल 50 तक था।कोरोना वायरस आक्रामक हो गया है। हर रोज सैकड़ों को चपेट में ले रहा है। वहीं कई मरीजों को असमय मौत का शिकार भी बना रहा है। गुरुवार को अस्पतालों में छह मरीजों की मौत हुईं। इसमें एक पूर्व मंत्री की भी सांसें थम गईं। मृतकों में तीन लखनऊ के हैं।

सपा सरकार में मंत्री रहे जगदीश पुर बलिया निवासी घूरा राम 63 वर्ष की अचानक तबियत बिगड़ गई। उन्हें सांस लेने में तकलीफ होने लगी। बुधवार को 11 बजे के करीब उन्हें केजीएमयू लाया गया। जांच में कोरोना की पुष्टि हुई। संस्थान के प्रवक्ता डॉ. सुधीर सिंह के मुताबिक गुरुवार सुबह चार बजे मरीज की मौत हो गई। उन्हें डायबिटीज की भी समस्या थी। आइसीयू के डॉक्टरों ने जिंदगी बचाने का पूरा प्रयास किया । मगर, रेस्परेटरी फेल्योर हो गया। फेफड़ों ने काम करना पूरी तरह बंद कर दिया । ऐसे में मरीज की मौत हो गई। वहीं जलालपुर अं बेड कर नगर निवासी 55 वर्षीय महिला 13 जुलाई को भर्ती की गई। वेंटिलेटर पर इलाज चल रहा था। कार्डियो पल्मोनरी अरेस्ट होने से मरीज की सांसें थम गईं। लोहिया संस्थान के प्रवक्ता डॉ. श्रीकेश ने 52 वर्षीय बाराबंकी निवासी पुरुष की कोविड अस्पताल में मौत की पुष्टि की। इसके अलावा लखनऊ के आदिल नगर निवासी 70 वर्षीय बुजुर्ग की बीकेटी के आरएसएम अस्पताल में कोरेाना से मौत हो गई। स्वास्थ्य विभाग ने लखनऊ में तीन मरीजों की कोरोना से मौत होने का दावा किया है। लखनऊ में कोरोना से मृतकों की संख्या 43 पहुंच गई है।

गोंडा के धानेपुर थाने का सिपाही कोरोना पॉजिटिव, महकमे में खलबली

गोंडा: जिले के धानेपुर थाने में तैनात एक सिपाही कोरोना पॉजिटिव पाया गया। रिपोर्ट में इसकी पुष्टि होने पर महकमे में खलबली है। वहीं, थाने के प्रवेशद्वार पर बैरीकेडिंग कर जांच के बाद ही फरियादियों को प्रवेश मिल पा रहा है। गुरुवार को आने वाले फरियादियों की थर्मल स्क्रीनिंग की गई। थाने में तैनात पुलिसकर्मी बचाव के तरीके अपना रहे हैं। गत सोमवार को थाने के15 पुलिसकर्मियों की एहतियातन सैंपलिंग कराई गई थी। बुधवार देर शाम एक सिपाही की रिपोर्ट पॉजिटिव आ गई। इस कारण उसे लेवल वन हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया।

थाने के मुख्य द्वार पर फरियादियों की थर्मल स्क्रीनिंग व साबुन से हाथ धुलाई कराने के बाद ही परिसर में दाखिल होने की अनुमति मिल रही है। थानाध्यक्ष से मिलने के लिए शारीरिक दूरी का पालन किया जा रहा है। थानाध्यक्ष संतोष कुमार तिवारी ने बताया कि संबंधित सिपाही में किसी प्रकार के लक्षण नहीं थे। एहतियातन सुरक्षा के तौर पर जांच कराई गई थी। स्वास्थ्य विभाग की टीम को बुलाया गया है। सिपाही के संपर्क में आने वाले लोगों की लिस्ट तैयार की जा रही है। जरूरत पड़ने पर सैंपलिंग भी कराई जाएगी।

लखनऊ में म‍िले संक्रम‍ित मरीज 

अलीगंज में दस, मौलवीगंज में एक, रायबरेली रोड के तीन, हुसैनगंज के एक बालागंज में पांच, गोमती नगर के 18, अर्जुनगंज में चार, ठाकुरगंज के दो, इंदिरा नगर के सात, सीतापुर रोड के चार, पिकनिक स्पाट रोड के तीन, राजेंद्र नगर के दो, राजाजीपुरम के पांच, आलमबाग के छह, कल्याणपुर के तीन, बसंत पूर के एक, जानकीपुरम के चार, कैंट में पांच, तेलीबाग के तीन, हजरतगंज में एक, चौक में दो, कृष्णा नगर में एक, कुर्सी रोड के दो, कैंट रोड के तीन, रकाबगंज के एक, एलडीए कानपुर रोड के पांच, अमीनाबाद के एक, चिनहट के सात, फैजाबाद रोड के एक,नगराम के दो ,बादशाह नगर के तीन ,पारा रोड के दो, राजाजीपुरम के तीन ,नगर निगम के 11, ऐशबाग के तीन, महानगर का एक, चारबाग का एक, सर्वोदय नगर का एक, गोमती नगर विस्तार के दो मरीज पॉजिटिव पाए गए। इसके अलावा अन्य मरीज विभिन्न क्षेत्रों के हैं। वहीं, विभिन्न अस्पतालों के 56 रोगियों को स्वस्थ होने के बाद डिस्चार्ज कर दिया गया है। इसके अलावा 80 क्षेत्रों को कन्टेनमेन्ट जोन बनाने व 14 को कन्टेनमेन्ट जोन हटाये के लिए डीएम को पत्र भेजा गया है। जाने हेतु जिलाधिकारी महोदय को पत्र प्रेषित किया गया।

डफरिन अस्पताल के डॉक्टर समेत पांच मरीजों की कोरोना से मौत

वीरांगना आवंतीबाई महिला अस्पताल (डफरिन) में डॉ. अजीजुद्​दीन बाल रोग विशेषज्ञ थे। वह करीब पांच वर्ष से संविदा पर कार्यरत थे। 23 जून को उनमें कोरोना की पुष्टि हुई। इसके बाद उन्हें लोकबंधु अस्पताल में शिफ्ट किया गया। हालत गंभीर होने पर केजीएमयू में भर्ती कराया गया। सप्ताह भर पहले उन्हें पीजीआइ ले जाया गया। यहां बुधवार को उनका निधन हो गया। पीजीआइ निदेशक डॉ. आरके धीमान ने चिकित्सक की मौत की पुष्टि की। वहीं, सीएमओ डॉ.नरेंद्र अग्रवाल ने शहर में कुल तीन मरीजों की कोरोना से मौत की पुष्टि की।

इसके अलावा बलिया निवासी 60 वर्षीय बुजुर्ग को बुखार-जुकाम था। उसमें कोरोना की पुष्टि हुई। 13 जुलाई को मरीज को केजीएमयू में भर्ती कराया गया। यहां सांस लेने में तकलीफ होने पर वेंटिलेटर पर शिफ्ट किया गया। मरीज हृदय रोग की दिक्कत से पीडि़त था। धमनी में समस्या के साथ-साथ उच्च रक्तचाप बना हुआ था। अचानक मरीज रेस्पिरेटरी फेल्योर में चला गया। फेफड़ों ने काम करना बंद कर दिया। उसकी मौत हो गई। संस्थान के प्रवक्ता डॉ. सुधीर सिंह के मुताबिक, रात में मरीज की मौत हो गई।

वहीं, लोहिया संस्थान के प्रवक्ता डॉ. श्रीकेश ने कोविड अस्पताल में भर्ती फैजाबाद निवासी 50 वर्षीय महिला की मौत की पुष्टि की। महिला का इलाज वेंटिलेटर पर चल रहा था। इसके अलावा लोहिया, पीजीआइ व केजीएमयू में राजधानी के मरीजों का इलाज भी वेंटिलेटर पर चल रहा है। इनकी हालत गंभीर बनी हुई है। 

केजीएमयू के र‍िसर्च व‍िभाग, कुल सच‍िव कार्यालय में पहुंचा वायरस

केजीएमयू-लोह‍िया संस्थान में डॉक्टर-कर्मी संक्रम‍ित हो गए। कोरोना की पुष्टि‍ होने पर संबंधि‍त व‍िभाग को सैनि‍टाइज कर बंद कर दि‍या गया है। वहीं एक कर्मचारी नेता में वायरस मि‍लने से कई में खतरा बना हुआ है।केजीएमयू के कुलसचि‍व कार्यालय में यूजी-पीजी सेल में तैनात कर्मी में कोरोना की पुष्टि‍ हुई। इसके अलावा ब्लड ट्रांसफ्यूजन मेडि‍सि‍न वि‍भाग में तैनात कर्मी भी कोरोना संक्रमि‍त पाया गया। यह संक्रमि‍त कर्मी कर्मचारी नेता भी हैं। ऐसे में कइयों में संक्रमण का खतरा मंडरा रहा है। वहीं सेंटर फॉर एडवांस रि‍सर्च वि‍भाग में कार्यरत एक डॉक्टर में वायरस की पुष्टि‍ हुई है। केजीएमयू के प्रवक्ता डॉ. सुधीर के मुताबि‍क कुल सचि‍व कार्यालय को सैनि‍टाइज कर बंद कर दि‍या गया है। ऐसे में संपर्क में करीब 22 लोगों को क्वारंटीन कि‍या गया है। वहीं लोहिया संस्थान के रेडि‍योलॉजी व‍ि‍भाग की एक रेजीडेंट व कोवि‍ड हॉस्पि‍टल की नर्स में वायरस पाया गया। संस्थान के प्रवक्ता डॉ. श्रीकेश ने मरीजों में कोरोना की पुष्टि‍ की।

पीजीआइ की तर्ज पर लिंब सेंटर में बनेगा कोविड अस्पताल

केजीएमयू के कार्यवाहक कुलपति प्रो. आर के धीमान ने पीजीआइ की तर्ज पर लिंब सेंटर बनाने का फैसला किया है। इसमें करीब 300 बेड होंगे। स्क्रीनिंग एरिया, होल्डिंग एरिया व आइसीयू भी बनेगा। इससे गंभीर मरीजों को समय पर इलाज मिल सकेगा।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.