Lucknow Coronavirus News Update: 348 नए मरीज म‍िले, अब एक कोरोना मरीज मिलने पर 50 घरों की होगी स्क्रीनिंग

तीन की अस्पताल में मौत हो गई। 188 रोगियों को वायरस ने हराया, सैंपलिंग बढ़ी।

शहर में कंटेनमेंट जोन का नियम बदल गया है। अब कहीं भी केस मिलने पर सौ मीटर के बजाए घरों को दायरे में लिया जाएगा। क्षेत्र में एक मरीज मिलने पर आस-पास के 50 घरों में स्क्रीनिंग-टेस्टि‍ंंग की जाएगी।

Publish Date:Thu, 26 Nov 2020 09:29 PM (IST) Author: Anurag Gupta

लखनऊ, जेएनएन। शहर में कोरोना संक्रमण बढ़ गया है। गुरुवार को तीन सौ अधिक मरीज पाए गए। वहीं तीन की अस्पताल में मौत हो गई। राजधानी में 24 घंटे में 348 कोरोना मरीज पाए गए। वहीं तीन शहरवासी की बीमारी से मौत हो गई। 188 मरीजों ने वायरस को हराने में कामयाबी हासिल की। इस दौरान सर्वाधिक केस इंदिरा नगर में 28, गोमती नगर में 26, रायबरेली रोड के 18, आलमबाग में 21, चौक में 20, मड़ियांव में 12, आशियाना में 19, सरोजिनी नगर में 15, महानगर में 16, विकास नगर में 17, जानकीपुरम में 15, ठाकुरगंज में 13, तालकटोरा में 16, अलीगंज में 15, अमीनाबाद में 14 रोगी पाॅजिटिव रोगी पाए गए। वर्तमान में होम आइसोलेशन में 2445 रोगी हैं। हेल्थ टीम ने सर्विलांस व कान्टेक्ट ट्रेसिंग के आधार पर 11099 लोगों के सैम्पल लिए। इन्हें जांच के लिए केजीएमयू, लोहिया संस्थान, पीजीआइ की लैब भेजा गया। 

कंटेनमेंट जोन का बदला नियम, क्षेत्रवार होगी मैपिंग

शहर में कंटेनमेंट जोन का नियम बदल गया है। अब केस मिलने पर सौ मीटर के बजाए घरों को दायरे में लिया जाएगा। क्षेत्र में एक मरीज मिलने पर आस-पास के 50 घरों में टे स्क्रीनिंग-टे िस्टंग की जाएगी। एसीएमओ डॉ. एमके सिंह के मुताबिक पहले केस मिलने पर100 मीटर का एरिया कंटेनमेंट जोन घोषित कर कांटेक्ट ट्रेसिंग-टेस्टि‍ंंग की कार्रवाई की जाती थी। वहीं अब एक केस मिलने पर 50 घर, दो केस मिलने पर 100 घरों में कांटेक्ट ट्रेसिंग, स्क्रीनिंग व कोरोना टेस्टि‍ंंग की जाएगी।

वर्तमान में 207 कंटेनमेंट जोन हैं। इसके अलावा शहर के कोरोना क्लस्टर एरिया की मैपिंग होगी। अभी सर्वाधिक केस अलीगंज, आलमबाग, इंदिरानगर, चिनहट व गोमतीनगर क्षेत्र के कुछ हिस्से हैं। इनमें पाए जाने वाले कोरोना केस की मैपिंग होगी। वहीं अभियान चलाकर क्षेत्र में स्क्रीनिंग की जाएगी। इसके अलावा शहर की सीमा से लगे अन्य टोल प्लाजा पर भी हेल्थ टीम तैनात होगी। साथ ही रैपिड रिस्पांस टीम की संख्या में भी इजाफा किया जाएगा। 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.