दिल्ली

उत्तर प्रदेश

पंजाब

बिहार

उत्तराखंड

हरियाणा

झारखण्ड

राजस्थान

जम्मू-कश्मीर

हिमाचल प्रदेश

पश्चिम बंगाल

ओडिशा

महाराष्ट्र

गुजरात

Lucknow Coronavirus News: निजी अस्पतालों की मनमानी वसूली पर रोक, जान‍िए क्‍या है एक द‍िन की फीस

सेक्टर और जोनल मजिस्ट्रेट करेंगे अस्पतालों में बिलों की जांच।

शुक्रवार को डीएम अभिषेक प्रकाश ने बैठक में निजी अस्पतालों की लूट पर पूरी सख्ती से शिकंजा कसने के निर्देश दिए। डीएम ने कहा कि प्रत्येक सेक्टर में मजिस्ट्रेट पुलिस अधिकारी व चिकित्सा अधिकारी अपने क्षेत्र के कोविड अस्पतालों की लगातार निगरानी करें।

Anurag GuptaSat, 08 May 2021 07:07 AM (IST)

लखनऊ, जेएनएन। मेयो और सहारा अस्पताल सहित कई निजी अस्पतालों में मनमानी वसूली पकड़े जाने के बाद प्रशासन और सख्त हो गया है। डीएम ने सेक्टर और जोनल मजिस्ट्रेटों को अब अस्पतालों में बिलों की जांच करने के निर्देश दिए हैं। जहां पर भी मरीजों से अधिक वसूली होगी वहां संचालक के खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी। शासन ने कोविड मरीजों के इलाज की दरें तय कर रखी हैं। इसके बावजूद अस्पताल नियम कानून ताख पर रखकर लाखों रुपये वसूल रहे हैं। जांच में कई अस्पतालों को नोटिस भी जारी की जा चुकी है, लेकिन मरीजों का दोहन हो रहा है।

शुक्रवार को डीएम अभिषेक प्रकाश ने बैठक में निजी अस्पतालों की लूट पर पूरी सख्ती से शिकंजा कसने के निर्देश दिए। डीएम ने कहा कि प्रत्येक सेक्टर में मजिस्ट्रेट, पुलिस अधिकारी व चिकित्सा अधिकारी अपने क्षेत्र के कोविड अस्पतालों की लगातार निगरानी करें और जहां पर भी किसी तरह की शिकायत मिलें तत्काल जांच करें। प्रत्येक सेक्टर में प्रशासनिक अधिकारी, पुलिस अधिकारी व चिकित्सा अधिकारी की तीन सदस्यीय टीम बनाई गई। इसके अलावा जनपद स्तर पर भी मॉनीटरिंग टीम गठित की गई है, जिसमें अपर जिलाधिकारी प्रशासन ,अपर पुलिस उपायुक्त प्रोटोकाल तथा मुख्य चिकित्सा अधिकारी को शामिल किया गया है। यह टीम अस्पतालों में ओवर प्राइसिंग के अलावा बेडों की उपलब्धता की भी निगरानी करेगी।

अंतिम संस्कार के लिए नगर निगम देगा वाहन

डीएम के मुताबिक यदि किसी व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है और उसके परिवार में कोई भी व्यक्ति अंतिम संस्कार करने के लिए उपलब्ध नहीं है तो उसके परिवहन एवं अंतिम संस्कार की व्यवस्था नगर निगम द्वारा निश्शुल्क कराई जाएगी।

ए श्रेणी के अस्पताल (एनएचबीएच श्रेणी)

आक्सीजन बेड : दस हजार प्लस पीपीई किट का 1200 रुपये आइसीयू वार्ड : 15 हजार प्लस पीपीई किट 2000 रुपये वेंटीलेटर सुविधा : 18 हजार प्लस पीपीई किट 2000 रुपये

नान एनएचबीएच अस्पताल

आक्सीजन बेड : आठ हजार प्लस किट 1200 रुपये आइसीयू वार्ड : 13 हजार प्लस पीपीई किट 2000 रुपये वेंटिलेटर सुविधा : 15 हजार प्लस पीपीई किट 2000 रुपये

पैकेज में क्या-क्या है शामिल

हाईपरटेंशन व डायबिटीज से पीडि़त कोरोना मरीजों का भी इसी में इलाज बेड, भोजन, नॄसग केयर, इमेजिंग, आवश्यक जांचें, विजिट/कंसलटेंसी, चिकित्सक परीक्षण अल्प अवधि की हिमो डायलीसिस की सुविधा भी शामिल केवल आरटीपीसीआर टेस्ट का अलग से शुल्क देय होगा। 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.