रिटायर्ड ज्वाइंट कमिश्नर की पत्‍‌नी-बेटी से लूट, जेवरात समेत उड़ा ले गए नकदी

लखनऊ(जेएनएन)। राजधानी में बाइक सवार लुटेरे बेखौफ होकर लूटपाट की घटनाओं को अंजाम दें रहे हैं। गोमतीनगर थाना क्षेत्र में दो बाइक सवार लुटेरों ने रिटायर्ड ज्वाइंट कमिश्नर की पत्‍‌नी-बेटी से राह चलते लूटपाट की। मां - बेटी को घेर कर करीब साढ़े चार लाख रुपये के जेवरात व 14 हजार की नकदी उड़ा ले गए। वहीं, पुलिस ने दो अज्ञात लुटेरों के खिलाफ एफआइआर दर्जकर उनकी तलाश शुरू कर दी है।

ये है पूरा मामला:

दरअसल, गोमतीनगर थाना क्षेत्र स्थित जुगौली क्रॉसिंग से मिठाई लाल चौराहे की ओर रिक्शे से महिला रेखा वाजपेयी और बेटी रिचा घर जा रही थी। तभी बाइक सवार दो लुटेरों ने उनकी पर्स लूट ली। पर्स में जेवरात, नकदी के साथ मोबाइल फोन समेत अन्य सामान था। घटना के बाद मा-बेटी ने मिलकर शोर मचाया, लेकिन तब तक लुटेरे भाग चुके थे। इंस्पेक्टर गोमतीनगर डीपी तिवारी के मुताबिक, घटना सीसी कैमरे की फुटेज में दो लुटेरे कैद हुए हैं। दोनों टीवीएस स्पोर्ट्स बाइक से थे। बाइक चला रहे लुटेरे ने हेलमेट लगा रखी थी और पीछे बैठे लुटेरे ने चेहरे को रूमाल से ढक रखा था। विश्वासखंड निवासी रेखा वाजपेयी अपनी बेटी रिचा के साथ सोमवार को ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स लॉकर से सोने के जेवरात निकालने गईं थीं। मा-बेटी जेवर पर्स में रखकर रिक्शे से घर लौट रही थीं। रास्ते में बाइक सवार दो लुटेरे पीछे से आए और बैक सीट पर बैठे लुटेरे ने झपट्टा मारकर पर्स लूट ली। घटना के बाद रिचा ने पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने घटनास्थल का निरीक्षण किया, क्षेत्र में नाकेबंदी कराई, लेकिन तब तक लुटेरे भाग चुके थे। रिचा के पिता आरएस वाजपेयी श्रम विभाग से सेवानिवृत्त ज्वाइंट कमिश्नर हैं। वर्तमान में हागकाग में रहकर नौकरी करते हैं। पुलिस की गश्त पर फिर उठे सवाल:

गोमतीनगर जैसे पॉश इलाके में लूटपाट से पुलिस की गश्त प्रणाली पर भी सवाल उठ रहे हैं। दो बाइक सवार लुटेरे दिनदहाड़े लाखों रुपये के जेवर व 14 हजार की नकदी लूट ले गए और पुलिस को घटना की भनक तक न लगी। जब तक पुलिस को सूचना मिली लुटेरे भाग चुके थे।

रिक्शे से गिरने से बचीं:

घटना के दौरान मा बेटी रिक्शे से गिरने से बाल-बाल बच गईं। लुटेरे ने पर्स पर झपट्टा मारा, तभी रिक्शे का बैलेंस बिगड़ गया। लेकिन रिक्शा चालक ने उसे संभाल लिया। फिलहाल रिक्शा चालक भी पुलिस के रडार पर है। इसके अतिरिक्त पुराने लुटेरों की भी कुंडली खंगाली जा रही है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.