केजीएमयू ऐशबाग में बनाएगा बच्चों का अस्पताल

केजीएमयू ऐशबाग में बनाएगा बच्चों का अस्पताल
Publish Date:Fri, 30 Oct 2020 01:47 AM (IST) Author: Jagran

लखनऊ, जेएनएन।

एलडीए ऐशबाग में अपने बड़े-बड़े भूखंडों को चिकित्सा शिक्षा विभाग के जरिये किंग जार्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी के हवाले करेगा। इस इलाके में एलडीए के पास करीब 100 बीघा जमीन है, जिसको लेकर केजीएमयू के अधिकारियों और एलडीए अफसरों का एक संयुक्त निरीक्षण हो चुका है। तय किया गया है कि इस इलाके में बच्चों का अस्पताल, ओपीडी और रेजीडेंट हाउसिंग सोसाइटी बनाई जाएगी। यहा तीन पुलों के बनने से आवागमन भी आसान हो गया है, जिससे केवल 10 से 15 मिनट में केजीएमयू और इस इलाके का सफर पूरा हो जाएगा। प्राधिकरण इस बात पर सहमत है कि अगर केजीएमयू की ओर से भूमि को लेकर औपचारिक प्रस्ताव आएगा तो वे उसको संस्तुत कर शासन को बढ़ा देंगे। प्राधिकरण ने पिछले करीब डेढ़ साल में विभिन्न सरकारी और निजी संस्थानों से ऐशबाग में औद्योगिक पट्टे के बड़े-बड़े प्लॉट खाली करवाए हैं, जिनका उपयोग सरकारी स्तर पर किया जा सकता है। पिछले दिनों केजीएमयू के रजिस्ट्रार ने कुछ विभागों को विस्तार देने के लिए जमीन की माग की थी। केजीएमयू प्रशासन अपने परिसर के एकदम निकट ही जमीन चाहता था, मगर एलडीए के पास केजीएमयू परिसर के पास भूमि उपलब्ध नहीं है। इसलिए ऐशबाग के खाली भूखंड एलडीए की टीम और केजीएमयू की टीम ने देख लिए हैं। कुल 12 भूखंड दिखाए गए

इस इलाके में एलडीए के कब्जे के कुल 12 भूखंड केजीएमयू की टीम को दिखाए गए हैं। भूखंड संख्या 10 बी, 10 ए, 9 ए और नौ के अलावा सड़क के ठीक दूसरी ओर 68सी, 68एफ, 68बी, 68जे, 68के, 68 जी, 68-6, 68-1, 68-2 के अतिरिक्त अन्य भूखंड दिखाए गए। इनमें शुरुआती तीन भूखंड एक साथ और बाकी भूखंड सड़क के दूसरी ओर एक साथ हैं। बनाएंगे पीडियाट्रिक हॉस्पिटल, ओपीडी और आवास इस इलाके में पीडियाट्रिक हॉस्टपिटल, ओपीडी और रेजीडेंट डॉक्टरों के लिए आवास के अलावा कुछ और निर्माण करवाए जाने की योजना है। इससे ये इलाका मिनी मेडिसिटी के तौर पर विकसित हो जाएगा। इलाके में पुल बन जाने से केजीएमयू तक आसान पहुंच हो गई है।

---

शुरुआती बातचीत शुरू हुई है। भूखंड केजीएमयू प्रशासन को दिखाया गया है। केजीएमयू से कोई भी प्रस्ताव आएगा तो हम सकारात्मक कदम उठाएंगे। ऐशबाग में इस तरह के परिसर शहर के लिए बहुत फायदेमंद होंगे। पवन कुमार गंगवार, सचिव, लविप्रा

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.