सपा में जातीय समीकरण तय करेंगे प्रत्याशियों के टिकट, अखिलेश यादव ने मंगाया विधानसभाओं से ब्यौरा

यूपी विधानसभा चुनाव में इस बार सपा अपने प्रत्याशी का चयन करते समय क्षेत्र के जातीय समीकरण को केंद्र बिंदु में रखेगी। लखनऊ में ग्रामीण क्षेत्र की चार और शहर की पांच विधानसभा सीटों के जातीय आंकड़ों का अध्ययन किया जा रहा है।

Dharmendra MishraPublish:Wed, 01 Dec 2021 12:30 PM (IST) Updated:Wed, 01 Dec 2021 12:30 PM (IST)
सपा में जातीय समीकरण तय करेंगे प्रत्याशियों के टिकट, अखिलेश यादव ने मंगाया विधानसभाओं से ब्यौरा
सपा में जातीय समीकरण तय करेंगे प्रत्याशियों के टिकट, अखिलेश यादव ने मंगाया विधानसभाओं से ब्यौरा

लखनऊ,निशांत यादव।  यूपी विधानसभा चुनाव में इस बार सपा अपने प्रत्याशी का चयन करते समय क्षेत्र के जातीय समीकरण को केंद्र बिंदु में रखेगी। लखनऊ में ग्रामीण क्षेत्र की चार और शहर की पांच विधानसभा सीटों के जातीय आंकड़ों का अध्ययन किया जा रहा है। पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने लखनऊ की सभी नौ विधानसभा सीटों का जातीय आंकड़ा नगर और जिला इकाई से मांगा है।

इसी बीच पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव इंद्रजीत सरोज दो दिसंबर को मलिहाबाद, सरोजनीनगर, बख्शी का तालाब और मोहनलालगंज विधानसभा सीटों की समीक्षा करेंगे, जबकि चार दिसंबर को लखनऊ शहर की पूर्वी, उत्तर, मध्य, कैंट और पश्चिम विधानसभा क्षेत्र के हर बूथ का मंथन होगा।

लखनऊ में आठ विस सीटों के लिए 103 आवेदकः

इस बार प्रत्याशियों के चयन के लिए राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने फरवरी में आवेदकों से आवेदन मांगे थे। लखनऊ की नौ में से आठ विधानसभा सीटों के लिए 103 आवेदकों ने आवेदन किया था। मोहनलालगंज में पार्टी का विधायक होने के कारण यहां से आवेदन नहीं मांगे गए थे। सपा हर विधानसभा क्षेत्र में प्रत्याशी के लिए फीडबैक भी ले रही है। वहीं, पिछले दिनों राष्ट्रीय उपाध्यक्ष किरनमय नंदा ने भी बूथ व सेक्टर प्रभारियों और विधानसभा अध्यक्षों के साथ बैठक कर एक बंद लिफाफे में उनके सुझाव मांगे थे।

इस बीच अब सभी विधानसभा सीटों का जातीय आंकड़ा भी एकत्र किया जा रहा है। सपा की जिला व महानगर इकाई सभी विधानसभा क्षेत्र से इस आंकड़े को एकत्र कर आलाकमान को भेजेंगी। इस बीच इंद्रजीत सरोज भी नगर और जिला संगठन के साथ बैठक कर उनकी तैयारियों पर मंथन करेंगे।