Mission Shakti: लखनऊ में जब दो घंटे की प्रभारी बनी चांदनी, प्रकाश से फरियादियों के आंखों में चमक

लखनऊ : मलिहाबाद कोतवाली का लिया चार्ज, एक एफआइआर के निर्देश, कई शिकायतों का निष्तारण।

Mission Shakti सब्जी विक्रेता की बिटिया बनी दो घंटे की कोतवाल। मलिहाबाद कोतवाली का लिया चार्ज एक एफआइआर के निर्देश कई शिकायतों का निष्तारण। कुछ बेटियों की समस्याएं सुनीं। साथ ही यह भी कहा कि महिलाओं की समस्याएं सुन उनका निस्तारण करने से बहुत सुकून मिला।

Publish Date:Sat, 24 Oct 2020 09:26 PM (IST) Author: Divyansh Rastogi

लखनऊ, जेएनएन। Mission Shakti: राजधानी स्थित मलिहाबाद के सब्जी विक्रेता राकेश कुमार की बीटिया चांदनी ने दो घंटे की कोतवाल बन ऐसा प्रकाश बिखेरा कि कई फरियादियों के आंखों में चमक आ गई। हाई स्कूल की टॉपर चांदनी ने वर्दी पहन कुर्सी पर बैठ चुटकियों में समस्याएं निस्तारित कीं। भाई रामकृष्ण को दुर्घटना में घायल करने का मामला दर्ज कराने के लिए कई दिन से कोतवाली के चक्कर काट रहे रहीमाबाद निवासी हरिकृष्ण को भी राहत मिली। चांदनी ने उनकी फरियाद सुन तत्काल एफआइआर के निर्देश दिए।

कुछ बेटियों की समस्याएं सुनीं। साथ ही यह भी कहा कि महिलाओं की समस्याएं सुन उनका निस्तारण करने से बहुत सुकून मिला। बताया कि पुलिस अफसर बनकर महिलाओं के मामले प्राथमिकता पर देखेंगी। 

दरअसल, शनिवार को चांदनी को दो घंटे के लिए मलिहाबाद कोतवाल बनाया गया था। प्रभारी बनने के बाद चांदनी एक प्रशिक्षित कोतवाल की तरह कार्य करती हुईं दिखीं। थाने में एफआइआर दर्ज करने से लेकर अपराध रजिस्टर, बीट रजिस्टर, शास्त्रागार, मालखाना, महिला हेल्प डेस्क सहित कोतवाली परिसर की साफ-सफाई और रखरखाव का निरीक्षण भी किया। जिम्मेदारों को जरूरी दिशा निर्देश दिए। साथ ही महिला सिपाहियों को ड्यूटी के प्रति समर्पित और वफादार रहने का पाठ पढ़ाया।

दो घंटे का प्रभारी बनने पर हुई खुशी

महिलाओं के प्रति अपराध में सक्रियता बरतने के लिए निर्देश दिए। चांदनी ने अपना अनुभव साझा कर बताया कि दो घंटे का प्रभारी बनने पर उसे आज बहुत खुशी हुई। इसके साथ ही महिलाओं से अपील की कि उन्हें डर और संकोच छोड़कर जरूरत पड़ने पर पुलिस की मदद लेनी चाहिए। पुलिस 24 घंटे महिलाओं  की समस्या निस्तारण के लिए तत्पर हैं। कहीं से भी 1090,1076 या 112 नंबर मिलाकर शिकायत कर सकती हैं।

हाई स्कूल में किया था टॉप

चांदनी ने राजकीय बालिका इंटर कॉलेज मलिहाबाद से वर्ष 2019-20 में हाइस्कूल में 76 प्रतिशत अंक प्राप्त कर महिला वर्ग में टॉप किया। 

अफसर बनकर बीटिया करेगी नाम रोशन 

चांदनी के पिता कस्बा मुंशीगंज निवासी राकेश कुमार सब्जी विक्रेता हैं। उनके चार बच्चों में चांदनी तीसरे नंबर पर है। बड़ी बेटी गुड़िया की शादी कर चुके हैं। बड़ा बेटा आकाश और छोटा विकास भी पिता का हाथ बटाने के साथ पढ़ाई करते हैं। राकेश की पत्नी राजपति गृहणी हैं। राकेश ने बताया कि सब्जी की दुकान से परिवार का पालन पोषण कर चांदनी को अफसर बनते देखना चाहते हैं। उनका कहना है बीटिया करेगी नाम रोशन। राकेश बच्चों को अच्छी शिक्षा देने के लिए प्रयासरत हैं। होनहार चाँदनी ने का भी मन है कि वह भविष्य में पुलिस अफसर बन देश की सेवा करे। 

महिलाओं को बढ़ावा देने के लिए कर रहे ऐसे कार्यक्रम

सीओ योगेंद्र सिंह ने बताया कि महिलाओं को जागरूक करने के उद्देश्य को लेकर यह जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। जिससे महिलाओं में झिझक और संकोच को समाप्त किया जा सके। वह अपनी बात एक निश्चित प्लेटफार्म तक पहुंचा सके।

इन बेटियों ने भी संभाला चार्ज

माल में वीरांगना ऊदा देवी विद्यालय की दसवीं की छात्रा अनुष्का दो घंटे के लिये थानाध्यक्ष बनी। थाना प्रभारी के रूप में अनुष्का ने फरियादियों की समस्याओं को सुनकर उन्हें सुरक्षित महसूस करने का अहसास दिलाया। उधर इटौंजा में कक्षा 12वीं की छात्रा चौगंवा निवासी आंसी मोरिया को समस्त थाना स्टाफ की मौजूदगी में थानाध्यक्ष बनाया गया। मिशन शक्ति के तहत एसएनटी इंटर कॉलेज की टॉपर छात्रा प्रभारी के रूप में पहुंची। छात्रा ने थाने में आ रहे मामलों को समझा और उनका निस्तारण किया। उधर काकोरी थाने में तैनात महिला एसआई रीना वर्मा ने बताया कि जैसे ही मेरे पास पीड़ित पीआरडी महिला दरखास्त लेकर आई गहनता से जांच कर पीड़िता की तहरीर को देखते हुए रिपोर्ट के निर्देश दिए।

निगोहां थाने में मिशन शक्ति के तहत एसएनटी इंटर कॉलेज की  टॉपर छात्रा को एक दिन का  थाना प्रभारी बनाया गया। प्रभारी के रूप में पहुंची छात्रा ने थाने में आ रहे मामलों को समझा और उनका निस्तारण किया, साथ ही थाने की कार्यप्रणाली को भी समझा और जाना। महिला शक्ति मिशन के तहत उच्चाधिकारियों के दिशानिर्देश पर निगोहां कस्बे में स्तिथ सत्यनारायण इण्टर कॉलेज की टॉपर छात्रा संभवी सिंह को एक दिन के लिए थाना प्रभारी बनाया गया, जहां महिला हेल्प डेस्क में आये तीन मामलों को छात्रा प्रभारी ने थाने की कार्यप्रणाली को  समझा।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.