लखनऊ में फंदे से लटका मिला हेड कांस्टेबल का शव, फारेंसिक टीम ने किया मौके का निरीक्षण

लखनऊ में मड़ियांव क्षेत्र के अजीजनगर में सोमवार देर शाम पुलिस रेडियो विभाग में तैनात में हेड कांस्टेबल अरविंद कुमार का शव घर के अंदर कमरे में फंदे पर लटका मिला। पुलिस ने फारेंसिक टीम से मौके का निरीक्षण कराया कराया और घटना से संबंधित साक्ष्य जुटाए।

Vikas MishraTue, 03 Aug 2021 02:52 PM (IST)
अरविंद मूल रूप से हरदोई अतरौली के रहने वाले थे। यहां पत्नी डाली और बेटे के साथ रहते थे।

लखनऊ, जागरण संवाददाता। मड़ियांव क्षेत्र के अजीजनगर में सोमवार देर शाम पुलिस रेडियो विभाग में तैनात में हेड कांस्टेबल अरविंद कुमार का शव घर के अंदर कमरे में फंदे पर लटका मिला। पुलिस ने फारेंसिक टीम से मौके का निरीक्षण कराया कराया और घटना से संबंधित साक्ष्य जुटाए। इंस्पेक्टर मड़ियांव मनोज कुमार सिंह ने बताया कि अरविंद मूल रूप से हरदोई अतरौली के रहने वाले थे। यहां पत्नी डाली और बेटे के साथ रहते थे।

पत्नी 15 दिन पहले मायके चली गई थीं। अरविंद शराब पीने के आदी थे। इस कारण उनका पत्नी से झगड़ा भी होता रहता था। सोमवार देर शाम नौकरानी अरविंद के घर पहुंची। वहां कमरे में फंदे पर अरविंद का शव लटका देखकर चीख पड़ी। नौकरानी ने अरविंद के भाई अमित को सूचना दी। अमित ने पुलिस को जानकारी दी। मौके पर पहुंची पुलिस टीम ने घटनास्थल का फारेंसिक टीम से निरीक्षण कराया। फारेंसिक टीम ने मौके से साक्ष्य जुटाए। इंस्पेक्टर ने बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आधार पर आगे की कार्यवाही की जाएगी।

जमीन से रगड़ रहे थे पैर, जांच की मांगः परिवारीजनों ने मामले में जांच की मांग की है। अरविंद के घर के मुख्य गेट से से लेकर कमरे तक के दरवाजे खुले पड़े थे। उनका पैर नीचे जमीन से रगड़ रहे थे। इस पर परिवारीजन ने जांच की मांग की है। इंस्पेक्टर ने बताया कि पूरे मामले की पड़ताल की जा रही है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने पर अथवा परिवारीजन की तहरीर के आधार पर आगे की कार्यवाही की जाएगी।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.