दिल्ली

उत्तर प्रदेश

पंजाब

बिहार

उत्तराखंड

हरियाणा

झारखण्ड

राजस्थान

जम्मू-कश्मीर

हिमाचल प्रदेश

पश्चिम बंगाल

ओडिशा

महाराष्ट्र

गुजरात

Fight Against COVID-19: वैज्ञानिकों का मत हवन से 94 फीसद विषाणुओं का होता है नाश, जानिए किस सामग्रियों का करें इस्तेमाल

वैज्ञानिकों के मुताबिक हवन से 94 फीसद विषाणुओं का हो जाता है नाश।

आयुष मंत्रालय की राष्ट्रीय सलाहकार समिति के सदस्य एवं सीडीआरआइ के पूर्व उपनिदेशक डा. एन.एन. मेहरोत्रा बीते एक वर्ष से हर रोज शाम को हवन करते हैं। इसी तरह राजेंद्र नगर निवासी केके दुबे इन दिनों हर रोज अपने घर में हवन करते हैं।

Rafiya NazSun, 09 May 2021 04:59 PM (IST)

लखनऊ [रूमा सिन्हा]। यज्ञ यानी हवन हमारी सनातन वैदिक परंपरा का हिस्सा हैं। विशेष पर्व और तिथियों के साथ ही यह हमारी दैनिक पूजन में भी शामिल है। इससे वातावरण शुद्ध होता है और विषाणुओं का नाश होता है। इसी परंपरा का पालन करते हुए आयुष मंत्रालय की राष्ट्रीय सलाहकार समिति के सदस्य एवं सीडीआरआइ के पूर्व उपनिदेशक डा. एन.एन. मेहरोत्रा बीते एक वर्ष से हर रोज शाम को हवन करते हैं। इसी तरह राजेंद्र नगर निवासी केके दुबे इन दिनों हर रोज अपने घर में हवन करते हैं। उनका मानना है कि हवन से होने वाला धुआं वातावरण को शुद्ध करता है। केवल यही नहीं, शहर में ऐसे बहुत से लोग हैं जो वातावरण की शुद्धि के लिए हवन का प्रयोग कर रहे हैं। दरअसल, वैज्ञानिकों का भी यह मानना है कि हवन में प्रयोग की जाने वाली सामग्री वातावरण को शुद्ध कर जीवाणुओं का नाश करती है।

दुबे बताते हैं कि वह हवन के लिए गोबर के कंडे का प्रयोग करते हैं इसमें हवन सामग्री के साथ साथ नीम, बेल, लोबान आदि का प्रयोग भी करते हैं। वह कहते हैं कि इससे कुछ ही देर में वातावरण शुद्ध हो जाता है।

प्रतिमा बताती हैं कि वह अपने एक मित्र से खासतौर पर तैयार की गई हवन सामग्री लेती हैं और हर शाम उससे हवन करती हैं। उनका कहना है कि केवल वही नहीं बहुत सारे लोग हर रोज अनिवार्य रूप से हवन कर वातावरण को शुद्ध करने का प्रयास कर रहे हैं।

डा. मेहरोत्रा बताते हैं कि यह बहुत आसान है। हवन का महत्व वेदों में भी बताया गया है और प्राचीन समय से हम इसका प्रयोग करते आ रहे हैं। उन्होंने बताया कि हवन के लिए गोबर के उपले या आम की लकड़ी जो भी आसानी से उपलब्ध हो जाए उसका प्रयोग किया जा सकता है।

विभिन्न शोध अध्ययनों में भी इस बात के प्रमाण मिलते हैं कि हवन से 94 प्रतिशत तक बैक्टीरिया का नाश हो जाता है। वैज्ञानिकों के अनुसार यदि आधे घंटे हवन में बैठा जाए तो हवन के धुएं का शरीर से संपर्क होने पर टाइफाइड जैसे जानलेवा रोग फैलाने वाले जीवाणु तक खत्म हो जाते हैं।

वैज्ञानिक मानते हैं कि जिस तरीके से इनहेलर के माध्यम से दवा सीधे फेफड़ों तक पहुंचाई जाती है ठीक उसी विधि से हवन द्वारा भी धुआं सीधे श्वसन मार्ग से होता हुआ शरीर में प्रवेश कर सीधे रक्त प्रवाह में पहुंच जाता है। मुख द्वारा दी जाने वाली औषधि का कुछ अंश ही रक्त में पहुंचता है जबकि शेष मल-मूत्र मार्ग से शरीर के बाहर निकल जाता है।

राष्ट्रीय वनस्पति अनुसंधान संस्थान के वैज्ञानिक डा. पुनीत सिंह चौहान बताते हैं कि वर्ष 2009 में उन्होंने निदेशक डा. सीएम नौटियाल के निर्देश पर हवन का जीवाणुओं पर क्या प्रभाव पड़ता है। इसका वैज्ञानिक आकलन किया था देखा गया कि हवन करने से 96 प्रतिशत तक बैक्टीरिया समाप्त हो जाते हैं।

हवन में इस्तेमाल की जाने वाली सामग्री: उपले या आम की लकड़ी, बेल, नीम, पलाश, कलीगंज, गूलर की छाल और पत्ती, देवदार की जड़, पीपल की छाल, बेर, चंदन की लकड़ी, जामुन की पत्ती, अश्वगंधा की जड़, कपूर, लौंग, चावल, ब्राह्मी, मुलेठी, बहेड़ा का फल, हर्र, जौ, गुगल, लोबान, इलायची आदि का बूरा प्रयोग किया जाता है।

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.