ब्लैक फंगस पीड़ितों की संख्या यूपी में बढ़ी : वाराणसी, गोरखपुर व लखीमपुर खीरी में 4 और मरीजों की मौत

उत्तर प्रदेश में ब्लैक फंगस बीमारी से चार और लोगों की मौत हो गई है।

Black Fungus Update कोरोना महामारी के इस दौर में ब्लैक फंगस से जीवन खतरे में पड़ गया है। उत्तर प्रदेश में शनिवार को इससे महिला समेत चार लोगों की मौत हुई। इनमें गोरखपुर के दो और वाराणसी व लखीमपुर खीरी के एक-एक मरीज शामिल हैं।

Umesh TiwariSun, 16 May 2021 01:55 AM (IST)

लखनऊ, जेएनएन। कोरोना महामारी के इस दौर में ब्लैक फंगस (म्यूकरमाइकोसिस) से जीवन खतरे में पड़ गया है। उत्तर प्रदेश में शनिवार को इससे महिला समेत चार लोगों की मौत हुई। इनमें गोरखपुर के दो और वाराणसी व लखीमपुर खीरी के एक-एक मरीज शामिल हैं। इसके अलावा विभिन्न जिलों में ब्लैक फंगस से पीड़ित मरीजों की संख्या बढ़ रही है। कई मरीजों का उपचार जारी है। इसके पूर्व लखनऊ व मेरठ में इस बीमारी से एक-एक और झांसी में दो लोग दम तोड़ चुके हैं।

वाराणसी में ब्लैक फंगस से पीड़ित महिला की शनिवार को बीएचयू में मौत हो गई। वह कोरोना से भी पीड़ित थी। बीएचयू के कोविड हास्पिटल में भर्ती थीं। 54 वर्षीय तनिमा मित्रा मूलत: बिहार की निवासी थीं। पिछले बुधवार को ही उसका ब्लैक फंगस का सफल आपरेशन हुआ था। ऐसा कहा जा रहा कि कोरोना से रिकवरी के बाद उन्हें नकली जबड़ा, सिलिकान के गाल और पत्थर की आंख लगाई जानी थीं। बनारस में ब्लैक फंगस से पीड़ित वह एकमात्र मरीज थीं जिनकी मौत हो गई। बीएचयू में शनिवार को भी ब्लैक फंगस के छह गंभीर मरीज आए, जिनमें फंगस का संक्रमण पाया गया है।

गोरखपुर में ब्लैक फंगस के लक्षण वाले दो मरीजों की शनिवार को निजी अस्पताल में मौत हो गई। कोरोना संक्रमण के बाद दोनों को सांस में परेशानी के चलते भर्ती कराया गया था। डाक्टरों ने मौत की वजह कोरोना संक्रमण बताई है। शहर में अब तक 30 से ज्यादा मरीजों में ब्लैक फंगस के लक्षण मिल चुके हैं।

लखीमपुर खीरी के मुहल्ला संतोषनगर में कोरोना संक्रमण से उबरे गजेंद्र जैन को जानलेवा बीमारी ने शिकार बना लिया है। इसकी पुष्टि उनके भाई उपेंद्र जैन ने की है। उन्हें लखनऊ के निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. रवि प्रकाश दीक्षित ने बताया कि खीरी जिले में ब्लैक फंगस का यह मामला पहला है।

बरेली में ब्लैक फंगस के चार मरीज मिले हैं, जिनका श्री राममूर्ति स्मारक मेडिकल कालेज में इलाज चल रहा। शनिवार को इनमें एक का आपरेशन कर दिया गया। मेडिकल कालेज के ईएनटी विभाग के हेड डा. रोहित शर्मा ने बताया कि तीन दिन के अंदर चार मरीजों में ब्लैक फंगस के लक्षण दिखाई दिए थे, जिनका ट्रीटमेंट शुरू किया गया। इनमें से तीन बरेली के ही रहने वाले हैं, जबकि एक खटीमा (उत्तराखंड) निवासी हैं।

गाजियाबाद के लोनी में गोपाल हास्पिटल के संचालक डाक्टर सचिन शर्मा ने बताया कि शनिवार को टेस्ट की रिपोर्ट आने पर पता चला कि महिला काला फंगस की चपेट में आ गई हैं। उन्होंने महिला को उपचार के लिए सेंट स्टीफन अस्पताल रेफर किया है। बता दें कि इससे पूर्व जिले में काला फंगस के चार अन्य मरीज मिल चुके हैं।

नोएडा में कोरोना से ठीक होने के बाद ब्लैक फंगस इंफेक्शन लोगों को निशाना बना रहा है। यथार्थ अस्पताल में इलाज के दौरान एक 38 वर्षीय युवक की मौत हो गई। प्रबंधन का कहना है कि यथार्थ ग्रुप के तीन अस्पतालों में आठ मरीज ब्लैक फंगस के आए हैं। कैलाश अस्पताल प्रबंधन के मुताबिक जिले में ब्लैक फंगस के अबतक 9 मामले मिले हैं। आठ मामले यथार्थ और एक कैलाश अस्पताल में मिला है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.