लखनऊ में मानसिक मंदित महिला को बंधक बनाकर सामूह‍िक दुष्कर्म-चार गिरफ्तार, मह‍िला समेत पांच आरोप‍ितों की तलाश

आलमबाग बीजी रेलवे कालोनी में हुई घटना आटो और रिक्शा चालकों ने की दुस्साहसिक वारदात। कृष्णानगर से बहला-फुसलाकर आटो में महिला को बिठाया था महिला समेत पांच आरोपित फरार। एक आरोपित महिला समेत पांच की तलाश में पुलिस की टीमें दें रहीं दबिश।

Anurag GuptaMon, 27 Sep 2021 03:26 PM (IST)
रेलवे से रिटायर्ड हेड क्लर्क की बेटी है पीड़ित महिला।

लखनऊ, जागरण संवाददाता। राजधानी में महिलाएं सुरक्षित नहीं हैं। इसका ताजा मामला आलमबाग में प्रकाश में आया। जहां आटो और रिक्शा चालकों समेत आठ दरिंदों ने एक मानिसक मंदित महिला को बंधक बनाकर बीजी रेलवे कालोनी में सामूहिक दुष्कर्म किया। विरोध पर उसके कपड़े फाड़ दिए और जमकर पीटा। वारदात को अंजाम देकर आरोपित फरार हो गए। पीड़िता की तहरीर पर पुलिस ने चार आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया है। जबकि महिला समेत पांच की गिरफ्तारी के लिए पुलिस की कई टीमें दबिश दे रही हैं।

जानकारी के मुताबिक पीड़िता कृष्णानगर इलाके की रहने वाली है। उसके पिता रेलवे से हेड क्लर्क के पद से सेवानिवृत्त हैं। उन्होंने बताया कि बेटी बीती 23 सितंबर की शाम घर से निकली थी। उसकी काफी खोजबीन की गई पर कुछ पता न चला। रात करीब 9ः30 बजे कृष्णानगर कोतवाली में बेटी की गुमशुदगी दर्ज कराई गई। परिवारीजन रातभर बेटी की खोजबीन करते रहे। अगले दिन 24 सितंबर की सुबह आलमबाग कोतवाली से फोन आया कि बेटी वहां है। कोतवाली पहुंचे तो बेटी की हालत देखकर पैरों तले जमीन खिसक गई। बेटी बदहवाश हालात में थी। उसके पकड़े अस्त-व्यस्त और फटे हुए थे। चोटिल भी थी। बेटी ने बताया कि कृष्णानगर स्थित आरती जूस कार्नर से उसे आटो चालक ने घर छोड़ने के बहाने बहला-फुसलाकर बैठाया था। इसके बाद वह आलमबाग की ओर लेकर गया। जहां एक रेलवे कालोनी में ले जाकर उसने आठ लोगों ने दुष्कर्म किया।

वारदात में एक महिला भी शामिल थी। इंस्पेक्टर अरमनाथ विश्वकर्मा ने बताया कि वारदात में शामिल आरोपित शिवनंदन निवासी बीजी कालोनी उसके साथी सोने लाल, अशोक कुमार और गिरजेश कुमार को रविवार रात गिरफ्तार कर लिया गया है। एसीपी आलमबाग विक्रम सिंह ने बताया कि पीड़िता के बयानों के आधार पर आरोपित महिला और चार अन्य युवकों की तलाश में पुलिस की टीमें दबिश दे रही हैं। आटो चालक शिवनंदन और सोने लाल, महिला को बहला फुसलाकर आटो में बिठाकर बीजी कालोनी ले गए थे।

दुपट्टे और रस्सी से हाथ पैर बांधकर की दरिंदगी : पीड़िता के पिता ने बताया कि आरोपितों ने दरिंदगी की सारी हदें पार कर दी थीं। बेटी ने बताया कि वह बीजी कालोनी स्थित एक मकान में लेकर गए थे। वहां पर एक महिला भी मिली। महिला और कई पुरुषों ने दुपट्टे और रस्सी से हाथ पैर बांध दिए। इसके बाद आठ लोगों ने दुष्कर्म किया। विरोध पर पीटा और कपड़े फाड़ दिए। बेटी ने बताया कि वह अचेत हो गई। सुबह आंख खुली तो वह कमरे में पड़ी थी और सभी आरोप‍ित फरार थे। किसी तरह से थाने पहुंचकर उसने पुलिस कर्मियों को घटना की जानकारी दी।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.