लखनऊ पहुंचते ही तेवर में द‍िखे ज‍ित‍िन प्रसाद, ब‍िना नाम ल‍िए कांग्रेस, सपा और बसपा पर कसे तंज

भाजपा का दामन थामने के बाद पहली बार प्रदेश मुख्यालय पहुंचे पूर्व केंद्रीय मंत्री। जितिन ने खुले मन से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित केंद्र सरकार और भाजपा संगठन की तारीफ की। जितिन से वादा किया कि यहां हम सभी मिलकर आपके सम्मान और प्रतिष्ठा की रक्षा करेंगे।

Anurag GuptaSat, 19 Jun 2021 07:06 PM (IST)
भाजपा का दामन थामने के बाद पहली बार प्रदेश मुख्यालय पहुंचे पूर्व केंद्रीय मंत्री।

लखनऊ, [राज्य ब्यूरो]। कांग्रेस में लंबी राजनीतिक पारी खेलने के बाद भाजपा का दामन थामने वाले जितिन प्रसाद खुद बोले कि वह ज्यादा बोलने में विश्वास नहीं रखते, लेकिन शनिवार को पहली बार भाजपा प्रदेश मुख्यालय पहुंचकर उन्होंने कुछ शब्दों में ही बिना नाम लिए अपनी पीड़ा जाहिर कर दी कि कांग्रेस क्यों छोड़ी? 'सिर्फ भाजपा में ही कार्यकर्ताओं की भावनाओं का ख्याल रखा जाता है।' इस पंक्ति का स्पष्ट संदेश था कि कांग्रेस में हो रही उपेक्षा से वह आहत थे। इसी तरह सपा और बसपा का नाम लिए बिना कह दिया कि क्षेत्रीय दल व्यक्ति विशेष के ही इर्दगिर्द घूमते रहते हैं।

कांग्रेस की सरकार में केंद्रीय राज्यमंत्री रहे जितिन प्रसाद ने बीती नौ जून को दिल्ली में भाजपा की सदस्यता ली और शनिवार को पहली बार भाजपा प्रदेश मुख्यालय पहुंचे। यहां प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सि‍ंह ने पटका पहनाकर उनका स्वागत किया और संक्षिप्त परिचय देते हुए योग्य, ईमानदार व प्रतिष्ठित बताया। जितिन से वादा किया कि यहां हम सभी मिलकर आपके सम्मान और प्रतिष्ठा की रक्षा करेंगे। इससे अभिभूत जितिन ने खुले मन से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित केंद्र सरकार और भाजपा संगठन की तारीफ की। दोहराया कि देश में सिर्फ भाजपा ही राष्ट्रीय पार्टी बची है। यहां कार्यकर्ताओं की भावनाओं के अनुरूप नीति निर्धारण होता है। साधारण कार्यकर्ता भी शीर्ष पद पर पहुंच सकता है। पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा कि क्षेत्रीय दलों को बनाया तो बड़े नेताओं ने, लेकिन दल छोटे रह गए। यह व्यक्ति विशेष की पार्टियां हैं और उन्हीं के इर्दगिर्द घूमती हैं। जितिन बोले कि उन्होंने कांग्रेस छोडऩे का निर्णय लंबे विचार मंथन, कार्यकर्ताओं और जन भावना के आधार पर ही लिया।

ब्राह्मण चेतना परिषद में नहीं करते थे राजनीतिक चर्चा

एक सवाल पर जितिन ने कहा कि वह ब्राह्मïण चेतना परिषद के संरक्षक थे। काफी कार्यक्रमों में भाग लिया, लेकिन वहां यह चर्चा कभी नहीं हुई कि किस पार्टी को वोट देना है? वहां समाज को एकजुट करने की बात ही होती थी। वह गैर राजनीतिक संगठन है। जितिन ने कहा कि समाज को अब ज्यादा मजबूती से एकजुट कर सकेंगे।

योगी की जमकर तारीफ, मुलाकात भी की

मूलत: शाहजहांपुर निवासी पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा कि अब वह अपने गृह प्रदेश से नई राजनीतिक पारी शुरू कर रहे हैं। योगी सरकार की तारीफ करते हुए कहा कि सरकार की जो भी जनहितकारी योजनाएं हैं, उन्हें पूरी मेहनत से जन-जन तक पहुंचाने का वादा करता हूं। इसके बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सरकारी आवास पर पहुंचकर उनसे मुलाकात भी की। इससे पहले प्रदेश मुख्यालय में प्रदेश महामंत्री संगठन सुनील बंसल से भी मिले।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.