घर-दफ्तर और दुकान को आग से सुरक्षित करेगा फायर बाल, जान‍िए खास‍ियत और कैसे करेगा काम

एक फायर बाल से चार से पांच मीटर का एरिया कवर होगा। खास बात यह है कि घर-दफ्तर और दुकान में लगी छोटी मोटी आग को बुझाने के लिए आपको पहले फायर एस्टिंगुशर का इस्तेमाल करना होता है। आप एस्टिंगुशर के स्थान पर फायर बाल का प्रयोग कर सकते हैं।

Anurag GuptaWed, 22 Sep 2021 06:05 AM (IST)
एस्टिंगुशर के स्थान पर फायर बाल का प्रयोग होगा आसान।

लखनऊ, [सौरभ शुक्ला]। अब घर-दफ्तर और दुकान की अग्नि सुरक्षा फायर बाल (गेंद) करेगा। फुटबाल के आकार से थोड़ा कम इस गेंद आग लगने पर उस एरिया में आप दूर से ही फेंकना होगा। आग की लपटों में गिरते ही यह गेंद फट जाएगी और इससे निकलने वाले पाउडर-रासायनिक कणों से आग बुझ जाएगी। राज्य आपदा मोचन बल (एसडीआरएफ) में इस फायर बाल का प्रयोग किया जा रहा है। एसडीआरएफ की यूनिट में इस बाल को खरीदा गया है। लोग इस बाल को सुरक्षा के दृष्टिगत घर, दुकान और दफ्तर में भी रख सकते हैं। एक फायर बाल की कीमत करीब 1300 रुपये है।

चार से पांच मीटर का कवर करेगी एरिया : एक फायर बाल से चार से पांच मीटर का एरिया कवर होगा। खास बात यह है कि घर-दफ्तर और दुकान में लगी छोटी मोटी आग को बुझाने के लिए आपको पहले फायर एस्टिंगुशर का इस्तेमाल करना होता है। आप एस्टिंगुशर के स्थान पर फायर बाल का प्रयोग कर सकते हैं। बहुत ही सामान्य तरीके से इसका प्रयोग अग्नि सुरक्षा के दृष्टिगत किया जाता है। वहीं, एस्टिंगुशर से आग पर काबू पाते समय फायर फाइटिंग कर रहे व्यक्ति को पहले प्रहार करके उसकी नाब पर लगी कैप हटानी पढ़ती है। एस्टिंगुशर को आग के करीब ले जाकर फायर फाइटिंग करनी होती है। वहीं, फायर बाल को आप दूर से ही फेंक देंगे तो आग बुझ जाएगी।

आग बढ़ने से रोकेगा : अगर घर और दफ्तर में आग लगी तो शुरुआती दौर में ही आप इसका प्रयोग कर आग को बढ़ने से बचा सकते हैं। अथवा जब तक दमकल घटनास्थल पर पहुंचे आप इसका प्रयोग करके आग को तब तक कंट्रोल रख सकते हैं। बड़ा अग्निकांड होने पर इससे अधिक मदद नहीं मिल सकेगी। उसके लिए दमकल की ही जरूरत होगी। एसडीआरएफ में यह बाल इसलिए रखी गई हैं कि किसी आपदा के दौरान अगर किसी कारण से आग लगे तो आपदा दल दमकल पहुंचने से पहले तक आग को कंट्रोल कर सके।

घर-दफ्तर और दुकान में चार से पांच मीटर स्क्वायर एरिया में यह फायर बाल बहुत कारगर है। अग्निकांड के दौरान शुरुआती दौर में इसका प्रयोग करके आग को कंट्रोल में रखा जा सकता है। आग लगने पर इसे आप दूर से ही उस स्थान पर फेंक दें। बाल फटते ही इससे निकलने वाले पाउडर और रासायनिक कणों से आग बुझ जाएगी। -डा. सतीश कुमार, कमांडेंट एसडीआरएफ

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.