बिजली बिल का मामला कोर्ट में होने पर भी मिलेगी सरचार्ज में छूट, जानिए बिजली विभाग उपभोक्‍ताओं को दे रहा है क्‍या छूट

दैनिक जागरण लखनऊ द्वारा आयोजित प्रश्न प्रहर में मध्यांचल विद्युत वितरण निगम के प्रबंध निदेशक सूर्य पाल गंगवार से उपभोक्ताओं ने ओटीएस के बारे में जानकारी ली और बिजली से जुड़ी समस्याओं से भी अवगत कराया। साथ ही लोगों को विभाग से दी जाने वाली छूट के बारे में बताया।

Rafiya NazWed, 27 Oct 2021 02:01 PM (IST)
दैनिक जागरण के प्रश्‍न पहर कार्यक्रम में प्रबंध निदेशक सूर्य पाल गंगवार ने दिए प्रश्‍नों के उत्‍तर।

लखनऊ, जागरण संवाददाता। अगर आप बिजली बिल से संतुष्ट नहीं है और मामला न्यायालय में चल रहा है या फिर स्थायी, अस्थायी कनेक्शन विच्छेदित हो चुका है और वसूली के लिए रिकवरी सर्टिफिकेट आरसी जारी हो चुकी है, फिर भी आप एक मुश्त समाधान योजना (ओटीएस) का लाभ ले सकते हैं। बिजली विभाग द्वारा पहली बार ऐसे उपभोक्ताओं को भी सरचार्ज का लाभ देने का निर्णय किया गया है। ओटीएस का लाभ उपभोक्ता 30 नवंबर 2021 तक उठा सकते हैं। खासबात है कि योजना में एलएमवी एक, एलएमवी पांच और पांच किलोवॉट विद्युत भार तक के एलएमवी टू श्रेणी के उपभोक्ताओं को विलंबित भुगतान अधिभार की छूट का लाभ मिलेगा। दैनिक जागरण द्वारा आयोजित प्रश्न प्रहर में मध्यांचल विद्युत वितरण निगम के प्रबंध निदेशक सूर्य पाल गंगवार से उपभोक्ताओं ने ओटीएस के बारे में जानकारी ली और बिजली से जुड़ी समस्याओं से भी अवगत कराया। उन्होंने बताया कि ऐसे नियमित विद्युत संयोजन वाले उपभोक्ता भी ओटीएस का लाभ ले सकते हैं जिनके परिसर के दौरान अनियमितता पाए जाने पर उनके विरुद्ध राजस्व निर्धारण कर बिल निर्गत किया गया हो। हालांकि शासन को जमा की जाने वाली शमन शुल्क की धनराशि का लाभ योजना से आच्छादित नहीं रहेगा। वहीं प्रश्न प्रहर में मध्यांचल एमडी से पूछे गए प्रश्न व उत्तर कुछ इस प्रकार रहे।

प्र. सर मैं सरोसा भरोसा उपकेंद्र से पोषित उपभोक्ता हूं। मेरा बिजली का अकाउंट नंबर 9731393000 है। मेरे सारे बिल जमा है, आप जांच करा ले। मुझे उपकेंद्र पर बुलाकर लाइनमैन द्वारा बंधकर बनाकर मारा गया और मोबाइल छीन लिया। यही नहीं दो बार गलत बिल बनाकर भेजे गए।मुझसे लगातार सुविधा शुल्क की डिमांड की जाती रही, स्थानीय अभियंता की मिलीभगत है।

लालता प्रसाद, राजाजीपुरम, पारा

उत्तर . आप बिल्कुल परेशान न हो, आपकी समस्या का निराकरण मैं करता हूं। आपकी डिटेल नोट कर ली है। अगर गलत हुआ है तो दोषियों पर कार्रवाई होगी।

प्र. पिछले तीन माह से चेक मीटर के लिए भटक रहा हूं। रजनी खंड में उपकेंद्र के अभियंता रिस्पांस नहीं दे रहे हैं। सिर्फ आज कल लगा हुआ है। मेरा बिजली का अकाउंटर नंबर 1693768429 है। मेरा ओमेक्स में मकान है ओर चार किलोवॉट कनेक्शन है।

नितिन शर्मा, ओमेक्स सिटी, लखनऊ।

उ. फीस जमा करने के बाद बिजली विभाग की जिम्मेदारी बन जाती है। आपको संबंधित अधिशासी अभियंता से अब तक मिलना था, अगर ऐसी बात है। फिर भी इसे मैं करवाता हूं। समस्या हल होगी ।

प्र. मीटर रीडर तो आता है लेकिन बिल नहीं आता। ऐसे में बिल जमा करने में परेशानी हो रही है।

अमर पाल, पूर्वा, उन्नाव।

उ. मैने आपका मोबइल नंबर नोट कर लिया है और अन्य डिटेल भी। आपसे अधीक्षण अभियंता फोन करके बात करेंगे और समस्या का समाधान कराएंगे।

प्र. बिजली कर्मियों ने अपने घर किराए पर दे रखे हैं। घरों में निर्धारित सीमा से अधिक एसी लगा रखे हैं। इससे राजस्व की हानि हो रही है। बिजली कर्मियों के घरों में मीटर क्यों नहीं लगते। एक फिक्स यूनिट का लाभ मिलना चाहिए।

दिनेश, गोमती नगर

उ. आपका प्रश्न सही है। आप पता बताए मैं स्थलीय निरीक्षण करवा लेता हूं। निर्धारित संख्या से ज्यादा एसी घर में नहीं लगा सकते। आप बिजली चोरी की शिकायत टोल फ्री नंबर 1912 पर शिकायत कर सकते हैं। वहीं फिक्स यूनिट करने का मामला नीतिगत है।

प्र.मैं एक माह से चक्कर लगा हूं। मैने चार किलोवॉट का वाणिज्यिक कनेक्शन के लिए चार लाख तेरह हजार रुपये भी जमा कर चुका हूं। 28 सितंबर से आज तक परेशान हूं। जब जाओ तो चिनहट के एसडीओ व जेई आज कल कहकर टरका देते हैं।

राधेश्याम, अमराई गांव, चिनहट।

उ. मैं इसे दिखवाता हूं। आपका कनेक्शन अगर नियमानुसार सही है तो वह जल्द होगा। संबंधित अभियंता आपसे संपर्क करेंगे। टालमटोल क्यों की जा रही है, इस पर जवाबदेही तय होगी।

प्र. पुराना मीटर खुलकर गया था, उसकी रीडिंग बनाकर बिल नहीं मिला और नए मीटर की मीटर रीडिंग भी 18 सितंबर से नहीं हुई। कई बार स्थानीय स्तर पर अभियंताओं से आग्रह कर चुका हूं। मेरा बिजली का अकाउंट नंबर 3738311303 है।

चंद्रभान सिंह, मधु।बन विहार, आइआइएम रोड

उ. मैं इसे तुरंत दिखवाता हूं। आपके मोबाइल पर बिल का मैसेज आ जाएगा। पुराने मीटर की जांच कराकर बिल बनवाने का आदेश संबंधित अभियंता को कर रहूा हूं।

प्र. मुहल्ले में लो वोल्टेज की समस्या जबरदस्त है। जहां हम लाेग रहते हैं, उस पॉकेट में कोई ट्रांसफार्मर नहीं है।

दीपक कुमार द्विवेदी, ग्वारी, सरोजनीनगर

उ. मैने आपसे पूरी जानकारी नोट कर ली है। मौके पर अभियंता पहुंचकर स्थिति देखेंगे, जो बेहतर होगा, वह किया जाएगा, जिससे लो वोल्टेज की समस्या खत्म हो जाए।

प्र. जानकीपुरम सहारा स्टेट गेट नंबर एक से दो को जाने वाली सड़क पर बिजली के पोल है, अगर इन्हें किनारे कर दिया जाए, तो दुर्घटनाएं कम हो जाएंगी।

केके सक्सेना, जानकीपुरम

उ. ठीक है, मैं इसे दिखवाता हूं, जो संभव होगा, वह की जाएगी और पोल किनारे कराए जाएंगे।

प्र. लो वोल्टेज की समस्या है, बिजली की आवाजाही दिनभर में कई बार रहती है। औसतन एक दिन में ढाई से चार घंटे कटौती होती है।

तरुण अग्रवाल, सतरिख, चिनहट

उ. ठीक है, समस्या दिखवाते हैं, वैसे बिजली चौबिसों घंटे मिल रही है, मैं स्वयं इसकी मानीटरिंग कर रहा हूं।

यह उपभोक्ता भी उठा सकते हैं लाभ: ओटीएस योजना के अंतर्गत स्थाई रूप से विच्छेदित बकाएदारों के प्रकरण भी समाधान के लिए अर्ह होंगे। इन उपभाेक्ताओं के स्थाई विच्छेदन फाइनल बिल के सापेक्ष वितरण निगम द्वारा योजना अवधि में छूट की गणना मैन्यूअली की जाएगी। उसी के आधार पर अधिभार की छूट के उपरांत भुगतान योग्य धनराशि का ऑनलाइन भुगतान एकमुश्त कराते हुए शेष धनराशि का अपलेखन कर ऑनलाइन फाइनल किया जा सकता है।

कुछ इस तरह छूट दे रहा बिजली विभाग: एलएमवी वन (घरेलू) यानी दो किलोवॉट विद्युत भार वाले उपभोक्ताओं को एकमुश्त समाधान और दूसरा विकल्प छह किश्तों में भुगतान करना होगा और सौ फीसद अधिभार में छूट मिलेगी। एलएमवी वन (घरेलू) में दो किलोवॉट से अधिक विद्युत भार वाले उपभोक्ता को पचास फीसद छूट का लाभ ओटीएस में मिलेगा। वहीं एलएमवी टू (वाणिज्यिक) में दो किलोवॉट के विद्युत भार तक एकमुश्त भुगतान करने पर सौ फीसद की छूट और एलएमवी टू (वाणिज्यिक) दो से अधिक लेकिन पांच किलोवॉट विद्युत भार तक पचास फीसद की छूट सरचार्ज में मिलेगी। इसी तरह एलएमवी पांच (समस्त विद्युत भार) पर एक मुश्त भुगतान करने पर सौ फीसद का लाभ बिजली विभाग दे रहा है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
You have used all of your free pageviews.
Please subscribe to access more content.
Dismiss
Please register to access this content.
To continue viewing the content you love, please sign in or create a new account
Dismiss
You must subscribe to access this content.
To continue viewing the content you love, please choose one of our subscriptions today.