उप मुख्यमंत्री डॉ दिनेश शर्मा ने कहा कोरोना गाइडलाइन का पालन करें लोग, रोग प्रतिरोधक क्षमता का करें विकास

उप मुख्यमंत्री ने डॉ दिनेश शर्मा ने गोमती प्रवाह पंचांग का विमोचन किया।

उप मुख्यमंत्री डॉ दिनेश शर्मा ने रविवार को अपने आवास पर गोमती प्रवाह के 22वें पंचांग का विमोचन किया । उप मुख्यमंत्री ने कहा कि लखनऊ का पहला पंचांग अपने 22 वर्ष पूर्ण कर रहा है और उसका वितरण निश्शुल्क किया जाता है।

Rafiya NazSun, 11 Apr 2021 02:35 PM (IST)

लखनऊ, जेएनएन। उप मुख्यमंत्री डॉ दिनेश शर्मा ने रविवार को अपने आवास पर गोमती प्रवाह के 22वें पंचांग का विमोचन किया । उप मुख्यमंत्री ने कहा कि लखनऊ का पहला पंचांग अपने 22 वर्ष पूर्ण कर रहा है और उसका वितरण निश्शुल्क किया जाता है। उन्होंने कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए गाइड लाइन का पालन कर संक्रमण को रोकने में सहयोग की अपील भी की।

पंचांग के संपादक ऋद्धि किशोर गौड़ ने इस बार अपने लेख में लोगों से अपना आहार और विहार बदलने का निवेदन किया है। उन्होंने बताया कोरोना वायरस बहुत तेजी से बढ़ा रहा है इससे लडऩे के लिए हमें अपने शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करना होगा । सुबह के समय योग प्राणायाम और सूर्य स्नान का समय अवश्य निकालें । खानपान में अजवाइन, हल्दी ,हींग ,जीरा, गिलोय ,तुलसी, अदरक ,काली मिर्च ,लौंग, दालचीनी आदि का उपयोग अवश्य करे । भीड़ वाले इलाकों में जाने से बचें, शरीरिक दूरी और मास्क का प्रयोग अवश्य करें । पंचांग में चैत्र नवरात्र 2021 से 2022 चैत्र नवरात्र तक के तीज त्यौहार विवाह मुहूर्त, समय, शुद्धि बताने का प्रयास किया गया है। आनंद नाम संवत्सर में इस वर्ष राजा और मंत्री दोनों ही मंगल हैं। वहीं भारतीय नव वर्ष की पूर्व संध्या पर श्री खाटू श्याम मंदिर घाट पर होने वाला दीपदान निरस्त कर दिया गया है। नव वर्ष चेतना समिति अध्यक्ष डा. गिरीश गुप्ता की अध्यक्षता में हुई बैठक में यह निर्णय लिया गया। बैठक में मुख्य संरक्षिका रेखा त्रिपाठी,कोषाध्यक्ष ओम प्रकाश पांडेय,अजय सक्सेना व अरुण मिश्रा समेत कई पदाधिकारी शामिल हुए।

भारतीय नव वर्ष का स्वागत: ब्राह्मण परिवार के अध्यक्ष शिव शंकर अवस्थी ने भारतीय संस्कृति को बचाने के लिए भारतीय नववर्ष का आयोजन घरों में करने का आह्वान किया है। उन्होंने आनलाइन आयोजन के साथ ही परिवार के सदस्यों को नव वर्ष का प्रसार करने की अपील की है। ऊं ब्राह्मण महासभा के संयोजक धनंजय द्विवेदी ने कि भारतीय संस्कृति को बचाने के लिए नया साल सभी को मनाना चाहिए। ब्रह्म समाज के सदस्य अभिषेक पांडेय ने बताया कि इसे लेकर पदाधिकारियों की आनलाइन बैठक भी हुई है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.