लखनऊ में तेजी से फैल रहा डेंगू और वायरल, अस्पतालों की इमरजेंसी फुल; इन बातों का रखें ध्यान

शहर में डेंगू और वायरल तेजी से फैल रहा है। ओपीडी में बुखार के मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। 250 से ज्यादा बुखार पीड़ित ओपीडी में पहुंच रहे हैं। वहीं अस्पतालों में 200 से ज्यादा बुखार पीड़ित भर्ती हैं।

Vikas MishraSat, 04 Sep 2021 09:15 AM (IST)
लखनऊ के डिप्टी सीएमओ डा केपी त्रिपाठी के अनुसार घर का बना हुआ ताजा भोजन ही करें।

लखनऊ, जागरण संवाददाता। शहर में डेंगू और बुखार तेजी से फैल रहा है। ओपीडी में बुखार के मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। 250 से ज्यादा बुखार पीड़ित ओपीडी में पहुंच रहे हैं। वहीं, अस्पतालों में 200 से ज्यादा बुखार पीड़ित भर्ती हैं। शुक्रवार को भी बुखार के कई मरीजों की खून की जांच कराई गई। 28 से ज्यादा नए बुखार के मरीजों को भर्ती किया गया है। बलरामपुर, सिविल, लोहिया, रानी लक्ष्मीबाई, भाउराव देवरस समेत अन्य अस्पतालों की ओपीडी में बुखार के मरीजों के आने का सिलसिला जारी है।

ओपीडी में बुखार पीड़ितों की संख्या बढ़ी है। प्राइवेट अस्पताल व क्लीनिक में भी बुखार के मरीज आ रहे और तमाम मरीज भर्ती भी हैं। अस्पतालों की इमरजेंसी फुल हो गई है। ट्रॉमा सेंटर, लोहिया संस्थान, सिविल अस्पताल की इमरजेंसी में सभी बेड भरे हैं। इनमें पांच से सात प्रतिशत मरीजों को बुखार समेत दूसरी बीमारियों ने जकड़ रखा है। स्वास्थ्य विभाग की तरफ से स्थानीय लोगों से सावधानी बरतने की अपील की गई है।

ऐसे रखें ध्यानः डिप्टी सीएमओ डा केपी त्रिपाठी के अनुसार घर का बना हुआ ताजा भोजन ही करें। खुले में बिक रहे खाने के सेवन से बचें। मास्क लगाकर ही घर से बाहर निकलें। शारीरिक दूरी के नियम का पालन करें। हाथों को समय-समय पर धोएं। बुखार आने पर खुद से कोई इलाज न करें। नजदीक के स्वास्थ्य केंद्र पर जाकर जांच कराएं। डॉक्टर की सलाह पर ही दवाएं लें। सर्दी-जुकाम व बुखार की जांच कराएं। मरीज तौलिया, साबुन अलग कर लें। एयर कंडीशन का कम से कम इस्तेमाल करें। ठंडा पानी व कोल्ड ड्रिंक पीने से परहेज करें। घर का ताजा व हल्का भोजन लें। अधिक से अधिक तरल पदार्थ का सेवन करें। उल्टी या फिर डायरिया होने पर नमक, चीनी का घोल बनाकर पी सकते हैं। 

डेंगू से निपटने की तैयारी तेज: बलरामपुर अस्पताल व कानपुर रोड स्थित लोकबंधु राज नारायण अस्पताल में डेंगू मरीजों को बेहतर इलाज मुहैया कराने की तैयारी पुख्ता कर ली गई है। यहां मच्छरदानी में डेंगू मरीज भर्ती किए जाएंगे। डेंगू वार्ड के सभी बेड पर मच्छरदानी लगा दिए गए हैं। लोकबंधु अस्पताल में डेंगू मरीजों के लिए अलग वार्ड बनाया गया है। इसमें 10 बेड हैं। अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डॉ. अजय शंकर त्रिपाठी के मुताबिक डेंगू मरीजों को दूसरे के साथ भर्ती नहीं किया जा सकता है, क्योंकि यदि साधारण मच्छर ने डेंगू मरीज को काट लिया तो उस मच्छर के संक्रमित होने की संभावना बढ़ जाती है। ऐसी दशा में संक्रमित मच्छर ने दूसरी बीमारी से पीड़ित को काट लिया तो वह भी डेंगू की चपेट में आ सकता है। इसीलिए डेंगू मरीजों को मच्छरदानी में रखने का फैसला किया गया है। 

डेंगू वार्ड तैयार: अस्पताल के निदेशक डॉ. रवींद्र श्रीवास्तव के मुताबिक 20 बेड का डेंगू वार्ड तैयार है। अभी एक भी डेंगू का मरीज भर्ती नहीं है। उन्होंने बताया कि डेंगू वार्ड में सभी बेड पर मच्छरदानी लगाई गई है। जरूरी दवाओं भी अस्पताल में उपलब्ध करा दी गई हैं। बुखार पीड़ित बच्चों के इलाज की पुख्ता व्यवस्था है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.