COVID Lockdown in UP: यूपी में कंपलीट लॉकडाउन अभी नहीं, CM योगी आदित्यनाथ का सख्ती बढाने का निर्देश

सीएम योगी आदित्यनाथ ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से बढ़ते कोरोना संक्रमण को लेकर टीम-11 के साथ समीक्षा की।

COVID Lockdown in UPरोज संक्रमण के नए केस रिकॉर्ड संख्या में बढ़ते देख संभावना था कि दिल्ली की तरह उत्तर प्रदेश में भी लॉकडाउन लग सकता है मगर सीएम योगी आदित्यनाथ ने साफ कर दिया है कि यूपी में पूर्ण लॉकडाउन नहीं लगेगा।

Dharmendra PandeyMon, 19 Apr 2021 04:09 PM (IST)

लखनऊ, जेएनए। उत्तर प्रदेश में रोज बढ़ते कोरोना वायरस के नए संक्रमण के बाद भी फिलहाल मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कंपलीट लॉकडाउन के पक्ष में नहीं हैं। सोमवार को टीम-11 के साथ समीक्षा बैठक में इसका संकेत दे दिया है। सीएम योगी आदित्यनाथ का निर्देश है कि ऑक्सीजन की उपलब्धता बढ़ाने के साथ कोविड प्रोटोकॉल का उल्लंघन करने वालों के साथ सख्ती करें।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने साफ कर दिया है कि उत्तर प्रदेश पूर्ण लॉकडाउन नहीं लगेगा। रोज संक्रमण के नए केस रिकॉर्ड संख्या में बढ़ते देख संभावना था कि दिल्ली की तरह उत्तर प्रदेश में भी लॉकडाउन लग सकता है, मगर सीएम योगी आदित्यनाथ ने साफ कर दिया है कि यूपी में पूर्ण लॉकडाउन नहीं लगेगा। उत्तर प्रदेश में वीकेंड लॉकडाउन के साथ ही 25 से अधिक शहरों में रात आठ बजे से नाइट कर्फ्यू पहले से ही लग रहा है। सरकार ने साफ कर दिया है कि वैश्विक महामारी संकट में कोरोना के खिलाफ लड़ाई में राज्य की कोरोना पीड़ित जनता और उनके परिजनों के साथ किसी प्रकार की लूट और कालाबाजारी बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से बढ़ते कोरोना संक्रमण को लेकर टीम-11 के साथ समीक्षा की। उन्होंने अधिकारियों से कोरोना के हालातों की प्रदेश की पूरी रिपोर्ट ली। इसके बाद उन्होंने टेस्टिंग, ट्रैकिंग और टीकाकरण की रफ्तार बढ़ाने पर जोर दिया। मुख्यमंत्री ने मास्क न पहनने वालों से सख्ती से निपटने के निर्देश दिए, जो लोग मास्क न पहनने पर दूसरी बार पकड़े जाएं, उनकी फोटो सार्वजनिक करने और 10 हजार रुपए का जुर्माना वसूलने के भी निर्देश दिए हैं। सीएम योगी आदित्यनाथ ने इस दौरान साफ किया कि पूर्ण लॉकडाउन नहीं लगेगा, मगर सख्ती पूरी रहेगी। सैनिटाइजेशन के लिए वीकेंड कफ्र्यू लागू हो सकता है।

जीवनरक्षक दवाओं की कोई कमी नहीं: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है क‍ि जीवनरक्षक दवाओं की कोई कमी नहीं है। रेमडेस‍िविर सहित किसी भी प्रकार के दवाई की कोई किल्लत नहीं है। सभी जिलों में इनकी उपलब्धता सुनिश्चित रखी जाए। इस कार्य में किसी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। रेमडेस‍िविर के 20,000 से 30,000 बॉयल आज यानी सोमवार को ही प्रदेश को प्राप्त हो जाएंगे। आने वाले तीन दिनों के भीतर रेमडेस‍िविर की नई खेप भी प्राप्त हो रही है। इनका वितरण पारदर्शितापूर्ण ढंग से किया है। सभी आपूर्तिकर्ताओं से संवाद स्थापित कर प्रदेश की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए मांग प्रेषित करें।

समीक्षा बैठक में जारी दिशा-निर्देश

 1- रेमेडेसिवर आदि दवाओं की कालाबाज़ारी करने वालों पर गैंगस्टर, एनएसए लगाया जाए।

2- रेमेडेसिवर सहित अन्य दवाओं की कोई कमी नहीं है, सभी जिलों उपलब्धता सुनिश्चित रखी जाए।

3- रेमेडेसिवर के 20000 से 30000 वायल आज प्रदेश को प्राप्त होंगे।

4- प्रदेश में ऑक्सीजन के उत्पादन करने वाले सभी औद्योगिक इकाइयों से सम्पर्क साधकर समन्वय बनाकर ऑक्सीजन की आपूर्ति करायें। मंत्री मॉनिटरिंग करें।

5- DRDO की सहायता से अगले 2,3 दिनों में 220 सिलिंडर वाला ऑक्सीजन प्लांट स्थापित हो जायेगा।

6- बलरामपुर हॉस्पिटल में 225 बेड क्रियाशील हैं इसे बढ़ाकर 700 किया जाए,चिकित्सा शिक्षा मंत्री सुनिश्चित करें।

7- 100 बेड वाले अस्पतालों में ऑक्सीजन प्लांट लगाए जायें, विधायक निधि का इस्तेमाल करें।

8- मास्क के अनिवार्य उपयोग को सख्ती से लागू कराया जाए, दूसरी बार पकड़े गए लोगों से 10000 रुपए जुर्माना लिया जाए, उनकी फोटो सार्वजनिक हो।

9- प्रदेश में प्रतिदिन 2 लाख टेस्ट हो रहें, इन्हें और विस्तार दिया जाए।

10- लखनऊ, बनारस,प्रयागराज, जैसे अतिप्रभावित जिलों में कोविड मरीजों के लिए बेड्स की मौजूदा संख्या को दोगना किया जाए।

11- कोविड टेस्टिंग के लिये इच्छुक नई लैब्स को शासन से सहयोग किया जाए, क़्वालिटी से कोई समझौता न किया जाए।

उन्होंने सभी व्यवस्थाओं को मजबूत करने के निर्देश दिए। इसके साथ ही सरकार रविवार के साथ अब शनिवार को भी लॉकडाउन का आदेश जारी कर सकती है। इस दौरान 48 घंटे सभी के घर से बाहर निकलने पर पाबंदी रहेगी। आपातकालीन सेवाओं को छोड़कर सभी बाजार और दफ्तर बंद रहेंगे। 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.