COVID-19 Vaccination in Lucknow: लखनऊ में 12 सौ स्वास्थ्यकर्मियों को लगेगी वैक्‍सीन की पहली डोज, इन सात लोगों ने साझा की मन की बात

COVID-19 Vaccination in Lucknow: कोरोना वायरस से सीधा मुकाबला करने वाले स्वास्थ्यकर्मी अब सुरक्षित होंगे।

COVID-19 Vaccination in Lucknow कोरोना वायरस से सीधा मुकाबला करने वाले स्वास्थ्यकर्मी अब सुरक्षित होंगे। अस्पतालों में व्यवस्था दुरुस्त सरकार का जताया आभार। ज़िला प्रशासन अलर्ट 30 अफसरों की फौज रहेगी निगरानी। कहीं अफसर कहीं सफाई कर्मी लगवाएंगे पहले टीका।

Publish Date:Sat, 16 Jan 2021 06:00 AM (IST) Author: Divyansh Rastogi

लखनऊ, जेएनएन। COVID-19 Vaccination in Lucknow: कोरोना वायरस से सीधा मुकाबला करने वाले स्वास्थ्यकर्मी अब सुरक्षित होंगे। शनिवार को उन्हें वैक्सीन की पहली डोज लगेगी। राजधानी के 12 अस्पतालों में वैक्सीनेशन प्रोग्राम की लॉन्चिंग होगी। इस दौरान प्रत्येक अस्पताल में एक सत्र स्थल चलेगा। हर साइट पर सौ स्वास्थ्यकर्मियों को वैक्सीन लगेगी। पहले दिन कुल 1200 स्वास्थ्यकर्मियों को वैक्सीन की डोज दी जाएगी। शनिवार को सुबह नौ बजे से वैक्सीनेशन शुरू करने की तैयारी है। इस दौरान स्वास्थ्यकर्मियों, डाटा फीडिंग ऑपरेटर व इमरजेंसी टीम को अलर्ट किया गया है।

ऐसे में कहीं निदेशक-अधीक्षक पहले वैक्सीन लगवाएंगे, तो कहीं सफाई कर्मी को पहली डोज लगेगी। वैक्सीनेशन को लेकर कर्मियों व डॉक्टरों में भरपूर उत्साह है। उन्होंने सभी से वैक्सीनेशन को लेकर अफवाहों से दूर रहने की सलाह दी। उनका कहना है कि सरकार ने हेल्थ वर्करों को प्राथमिकता दी है। ऐसे में सभी कर्मी वैक्सीन लगवाएं। इससे न वो खुद सुरक्षित होंगे, बल्कि दूसरे को भी संक्रमण से बचाएंगे। इनको लगेगी वैक्‍सीन की पहली डोज...

लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान निदेशक डॉ. एके सिंह कहते हैं कि टीकाकरण की लिस्ट में सबसे पहले मेरा नाम आया है। यह मेरे लिए खुशी की बात है। वायरस से सुरक्षा देने वाली डोज शनिवार को मुझे लग जाएगी। इससे डॉक्टर व कर्मचारियों का भी हौसला बढ़ेगा। वैक्सीन को लेकर अफवाहों से दूर रहें। डरने व घबराने की जरूरत नहीं है। सरकार ने पहले हेल्थ वर्करों को टीका के लिए चुना, इसके लिए आभार।

डफरिन प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक डॉ. सुधा वर्मा ने बताया कि अस्पताल की लिस्ट में हमारा नाम पहले नंबर पर है। इसके बाद सफाई कर्मियों का है। मुझमें टीका को लेकर बहुत उत्साह है। स्टाफ के लिए भी अस्पताल में मैंने मोटीवेशनल मीटिंग की। सभी वैक्सीन को लेकर सकारात्मक हैं। इसकी गुणवत्ता को लेकर कोई आशंका नहीं होनी चाहिए। लंबे क्लीनिकल ट्रॉयल के बाद वैक्सीन फील्ड में आई है। इसके लिए देश के वैज्ञानिकों व सरकार का अभार, जिन्होंने स्वदेशी वैक्सीन के लिए बड़ी मेहनत की।

बलरामपुर अस्पताल के डॉ. एके श्रीवास्तव ने बताया कि देश के वैज्ञानिकों का आभार। उनकी कड़ी मेहनत रंग लाई। हमें वैक्सीन को लेकर काफी उत्सुकता है। सभी से अपील है कि वह वैक्सीन की अफवाहों पर ध्यान न दें। यह पूरी तरह सुरक्षित है। वायरस को ब्रेक करने के लिए वैक्सीनेशन अहम है। मैं अस्पताल पहुंचकर पहले वैक्सीन लगवाऊंगा।

एरा मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. एमएमए फरीदी बताती है कि कोविन एप की सूची में मेरा नाम सबसे ऊपर है। इसलिए मैं टीकाकरण के लिए तैयार हूं। मुझे फक्र है कि सरकार ने वैक्सीन के लिए सबसे पहले हेल्थ वर्कर को चुना। वैक्सीन ही एक कोरोना से बचाव का प्रमुख उपाए है। इससे डरने की जरूरत नहीं है। टीकाकरण की तैयारी संस्थान में पूरी कर ली गई है। हमारे यहां सभी वर्कर वैक्सीन लगवाने के लिए तैयार हैं।

बलरामपुर अस्पताल की स्टाफ नर्स गीता देवी कहती हैं कि नर्सों की श्रेणी में टीकाकरण लिस्ट में मेरा नाम सबसे पहले है। इसके लिए घबराने की जरूरत नहीं है। अच्छी बात यह है कि महामारी से निपटने के लिए हमारे वैज्ञानिकों ने वैक्सीन बना ली है। हमें किसी देश पर निर्भर नहीं रहना पड़ा। यह जिदंगी का सुरक्षा कवच है। अफवाहों पर ध्यान न दें, जल्द ही कोरोना की लड़ाई में देश जीतेगा।

डफरिन सफाईकर्मी संगीता बाल्मीकि के मुताबिक, कर्मचारियों की श्रेणी में सबसे पहले टीका मुझे लगेगा। सरकार ने मुझे वैक्सीन लगाने का फैसला किया, यह खुशी की बात है। वैक्सीन को लेकर घबराएं नहीं, सभी डॉक्टर-नर्स भी लगवा रहे हैं। वैक्सीन पूरी तरह सुरक्षित है। डरें नहीं, अफवाह फैलाने वालों से भी सावधान रहें।

डफरिन सफाईकर्मी शिवमती ने बताया कि मुझे हार्ट की समस्या है। बीपी की भी दिक्कत है। ऐसे में संक्रमण का खतरा रहता था। अब वैक्सीन लग जाएगी। इससे कोरोना से बचाव हो सकेगा। जिनका लिस्ट में नाम है, सभी लोग वैक्सीन लगवाएं। अफवाहों पर ध्यान न दें। डरने की जरूरत नहीं है। वैक्सीन से खुद का वायरस से बचाव होगा, बल्कि दूसरे को भी संक्रमण का खतरा मुझसे नहीं रहेगा।

आज यहां होगा टीकाकरण: किंग जॉर्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय (केजीएमयू), संजय गांधी स्नातकोत्तर आयुर्विज्ञान संस्थान (पीजीआइ) लोहिया संस्थान, बलरामपुर अस्पताल, वीरांगना अवंतीबाई अस्पताल में वैक्सीनेशन होगा। चिनहट व माल सीएचसी में भी टीका लगेगा। इसके अलावा निजी अस्पताल में एरा, सहारा, मेदांता व टीएस मिश्रा मेडिकल कॉलेजों में भी आज वैक्सीन लगेगी।

पुलिस सुरक्षा में कोल्ड चेन प्वाइंट पहुंची वैक्सीन: डिस्ट्रिक्ट इम्युनाइजेशन ऑफिसर डॉ. एमके सिंह के मुताबिक, शहर में 21 कोल्ड चेन प्वाइंट बनाए गए हैं। पहले दिन टीकाकरण के लिए अभी नौ कोल्ड चेन प्वाइंट पर वैक्सीन भेजी गई है। यह कोल्ड चेन प्वाइंट छितवापुर, एनके रोड, इंदिरानगर, चिनहट, सरोजनीनगर, मोहनलालगंज, सिल्वरजुबली, सेवा सदन, माल सीएचसी हैं। इन पर तीन वैक्सीन वाहन से दोपहर 12 बजे वैक्सीन भेजी गई। इस दौरान पुलिस के तीन वाहन की फ्लीट भी शामिल रही। टीकाकरण में चयनित जिन अस्पतालों में कोल्ड चेन प्वाइंट नहीं हैं, वहां सुबह आठ बजे वैक्सीन करियर बॉक्स से निश्चित तापमान में भेजी जाएगी। इसमें कंडीशन आइसपैक के बीच वायल रखे जाएंगे।

 

हर सेंटर को मिलेगी वैक्सीन की 110 डोज: डॉ. एमके सिंह के मुताबिक वैक्सीन हाथ में लगेगी। यह इंट्रामस्कुलर वैक्सीन है। इसकी 0.5 एमएल डोज दी जाएगी। ऐसे में एक वायल से दस लोगों को डोज लग जाएगी। प्रति सेंटर 100 स्वास्थ्यकर्मियों को वैक्सीन लगेगी। ऐसे में 10 वायल की जरूरत होगी, मगर एक वायल अतिरिक्त दिया जाएगा। प्रत्येक सेंटर को 110 डोज वैक्सीन मिलेगी।

पीएम बढ़ाएंगे कोरोना योद्धाओं का हौसला: सभी 12 सेंटरों पर वैक्सीनेशन का लाइव सेशन होगा। इसमें पीएम का लाइव संबोधन होगा। सिर्फ केजीएमयू में बोथ-वे सिस्टम होगा। शेष में लाभार्थी न सिर्फ पीएम को सुन सकेंगे, बल्कि उनसे बात भी कर सकेंगे। चर्चा है कि पीएम कोरोना योद्धाओं से बात कर उनका हौसला बढ़ाएंगे। इसको लेकर केजीएमयू में तैयारी कर ली गई। चिकित्सा शिक्षा मंत्री सुरेश खन्ना ने कलाम सेंटर स्थित लाइव सेशन हॉल व सत्र स्थल की तैयारियों को दुरुस्त रखने के निर्देश दिए हैं।

स्टोरेज सेंटर किले में तब्दील: ऐशबाग स्थित जनपदीय वैक्सीनेशन स्टोरेज सेंटर किले में तब्दील कर दिया गया है। यहां 30 से अधिक सुरक्षाकर्मी तैनात हैं। वैक्सीन की सुरक्षा के लिए 24 घंटे का पहरा चलेगा। सीसीटीवी कैमरे भी चप्पे-चप्पे पर लगे हैं। इसके अलावा वैक्सीन की कोल्ड चेन मेंटेन रखने के लिए रियल टाइम ऑनलाइन मॉनीटरिंग की जा रही है। कोल्ड चेन प्वाइंट पर भी सुरक्षा घेरा मजबूत कर दिया गया है। 

ज़िला प्रशासन अलर्ट, 30 अफसरों की फौज करेगी निगरानी: कोरोना टीकाकरण अभियान शुरू करने के लिए जिला प्रशासन ने भी कमर कस ली है। डीएम ने सभी अफसरों को अलर्ट कर दिया है। वहीं वैक्सीनेशन सेंटरों को इंट्रीग्रेटेड कोविड कंट्रोल एंड कमांड सेंटर से कनेक्ट कर दिया है। सभी को हर दो घंटे में सूचनाएं देना अनिवार्य कर दिया गया है। डीएम अभिषेक कुमार ने बताया कि सभी 12 केंद्रों की लाइव फीड के द्वारा मॉनिटरिंग की जाएगी। 11 केंद्रों पर वन वे कम्युनिकेशन व केजीएमयू में टू-वे कम्युनिकेशन होगा। वैक्सीन सेंटरों को इंट्रीग्रेटेड कोविड कंट्रोल एंड कमांड सेंटर से जोड़ दिया गया है। सेंटरों पर वैक्सीनेशन प्रक्रिया की निगरानी के लिए 24 सेक्टर मजिस्ट्रेट व 6 जोनल मजिस्ट्रेट तैनात रहेंगे।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.