CM योगी आदित्यनाथ बोले-शुरू कर दी है थर्ड वेव से निपटने की तैयारी, जिलों में बनेंगे पीडियाट्रिक ICU

भारत सरकार के सहयोग से हमने मिशन मोड में काम किया

Corona Virus Third Strain सीएम योगी आदित्यनाथ ने थर्ड वेव को लेकर कहा कि कोविड-19 की थर्ड वेव में अधिक संख्या में बच्चों के चपेट में आने की आशंका व्यक्त की जा रही है। उत्तर प्रदेश में थर्ड वेव से भी निपटने की तैयारी हो रही है।

Dharmendra PandeySun, 16 May 2021 03:44 PM (IST)

लखनऊ, जेएनएन। वैश्विक महामारी कोरोना वायरस संक्रमण के कई चरण में हमला करने के कारण बड़ी संख्या में लोगों को प्रभावित करने के बीच में उत्तर प्रदेश में ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आगे की तैयारी होने लगती है। उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस संमक्रण की थर्ड वेव से भी निपटने की तैयारी हो रही है।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने थर्ड वेव को लेकर कहा कि कोविड-19 की थर्ड वेव में अधिक संख्या में बच्चों के चपेट में आने की आशंका व्यक्त की जा रही है। उन्होंने कहा कि इसी कारण हमने हर एक जनपद के साथ ही सभी मेडिकल कॉलेज में पीडियाट्रिक आइसीयू तैयार करने के लिए कहा है। चारों तरफ से कोविड-19 की दूसरी लहर के बाद तीसरी लहर आने की आशंका भी व्यक्त की जा रही है। उन्होंने कहा कि इसके साथ ही हमने थर्ड वेव पर अंकुश लगाने के लिए अभी से अपनी कार्य योजना बनानी शुरू कर दी है। उत्तर प्रदेश सरकार ने हर जिले में प्रशासन को महिलाओं और बच्चों के लिए डेडिकेटेड हॉस्पिटल अभी से तैयार करने के निर्देश दिए हैं। इसके साथ ही साथ 102 की 2,200 एंबुलेंस इमरजेंसी के दौरान महिलाओं और बच्चों के लिए डेडिकेट की गई हैं। अभी भी प्रदेश में कोविड-19 मरीजों के लिए 1,500 डेडिकेटेड एंबुलेंस तैनात की गई हैं।

350 एडवांस लाइफ सपोर्ट एंबुलेंस : मुख्यमंत्री ने कहा कि इसके साथ ही अभी भी हमारे पास 350 एडवांस लाइफ सपोर्ट एंबुलेंस भी हैं, जिनका उपयोग कोविड-19 के संक्रमण के दौर मे किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में निगरानी समितियां भी काफी एक्टिव हैं। निगरानी समितियां गांवों में कोविड-19 लक्षणयुक्त या संदिग्ध संक्रमितों को मेडिसिन किट उपलब्ध कराती हैं। ऐसे संक्रमित या फिर संदिग्धों की सूची इंट्रीगेटेड कोविड कमांड कंट्रोल सेंटर को उपलब्ध कराई जाती है और फिर रैपिड रिस्पांस टीम संबंधित इलाकों में जाकर कोविड टेस्ट करती है।

ग्रामीण इलाकों में संक्रमण से निपटने के लिए व्यापक रणनीति: सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हमने ग्रामीण इलाकों में संक्रमण से निपटने के लिए व्यापक रणनीति 02 मई से ही प्रारंभ कर दी थी। इसके लिए हर ग्राम पंचायत में निगरानी समितियां बनाई गई हैं। यह सभी स्क्रीनिंग समितियां 97,000 राजस्व गांवों को केंद्र में रखकर स्क्रीनिंग का काम कर रही हैं।

वैक्सीनेशन पर फोकस: सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हमारी सरकार ने प्रदेश में 18 से 44 आयु वर्ग के लोगों का वैक्सीनेशन एक मई से शुरू किया था। जहां पर अधिक एक्टिव केस थे, ऐसे सात जिलों में पहले चरण में 18 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों का वैक्सीनेशन किया गया। इसके बाद 11 और जिलों को जोड़ा गया। दूसरे चरण में प्रदेश के सभी नगर निगमों को जोड़ा गया। सोमवार से पांच और जिलों में 18 वर्ष से अधिक लोगों के लिए वैक्सीनेशन का काम होगा। इस तरह प्रदेश के 23 जिलों में 18 से 44 वर्ष आयु वर्ग के लोगों के लिए कोरोना वायरस का टीकाकरण होगा। कल से तीसरे चरण की वैक्सीनेशन ड्राइव में नगर निगमों के साथ-साथ सभी कमिश्नरी मुख्यालयों में 18 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के लिए टीकाकरण प्रारंभ होगा। कल से 23 जनपदों में वैक्सीनेशन की कार्यवाही आगे बढ़ेगी।

ट्रेस, टेस्ट एंड ट्रीट का एग्रेसिव कैंपेन: मुख्यमंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार सरकार 45 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के हर व्यक्ति को मुफ्त में वैक्सीन उपलब्ध करा रही है। इसके साथ प्रदेश सरकार 18 से 44 आयु वर्ग के प्रत्येक युवा को नि:शुल्क वैक्सीन उपलब्ध करा रही है। प्रदेश में अब तक वैक्सीन की 1.50 करोड़ डोज लगाई जा चुकी हैं। इसके साथ ही प्रदेश में अब तक 4.50 करोड़ कोविड टेस्ट हो गए हैं। राज्य में लेवल- 2 एवं लेवल-3 के संक्रमितों के लिए 80,000 बेड्स मौजूद हैं। जहां पर कोरोना पॉजिटिव को उपचार की सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है। उन्होंने कहा कि दो मार्च, 2020 को जब प्रदेश में पहला केस आया था, तब हमारे पास न टेस्ट की क्षमता थी और न कोई आइसोलेशन बेड था, जहां उपचार करा सकें। इसके बाद भारत सरकार के सहयोग से हमने मिशन मोड में काम किया। हम अपने सभी जनप्रतिनिधियों, प्रशासनिक तंत्र एवं सभी संगठनों के साथ मिलकर आज प्रतिदिन 2.50 लाख टेस्ट कर रहे हैं। हमारी सरकार ने कोविड-19 की दूसरी वेव को नियंत्रित करने के लिए ट्रेस, टेस्ट एंड ट्रीट का एग्रेसिव कैंपेन पूरे प्रदेश में चलाया और आज उसका परिणाम हम सबके सामने है। बीती 27 अप्रैल को गौतमबुद्ध नगर में दस हजार से ज्यादा पॉजिटिव केस आए थे, और आज 400 से कम हैं। 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.