सीएम योगी आदित्यनाथ की सख्त हिदायत, सांसदों और विधायकों की न सुनी तो अफसरों पर कार्रवाई तय

सीएम योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को कानपुर मंडल के जिलों के विकास कार्यों की समीक्षा की।
Publish Date:Thu, 24 Sep 2020 10:48 PM (IST) Author: Umesh Tiwari

लखनऊ, जेएनएन। उत्तर प्रदेश के विभन्न मंडलों की अलग-अलग समीक्षा बैठक में स्थानीय मुद्दे भले ही बदलते रहे हों, लेकिन जनप्रतिनिधियों के पूरे सम्मान की हिदायत मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अफसरों को लगातार दे रहे हैं। कानपुर मंडल की समीक्षा बैठक के दौरान उन्होंने यह संदेश सख्त लहजे में देते हुए दो टूक कहा कि सांसद-विधायकों की उपेक्षा करने वाले अधिकारियों पर कार्रवाई तय है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को अपने सरकारी आवास से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से कानपुर मंडल के कानपुर नगर, कानपुर देहात, फर्रुखाबाद, कन्नौज, इटावा और औरैया जिले के विकास कार्यों की समीक्षा की। कानपुर में गंगा किनारे खूबसूरत रिवर फ्रंट की कार्ययोजना के निर्देश देते हुए कहा कि अविरल और निर्मल गंगा के लिए कानपुर एक महत्वपूर्ण पड़ाव है। इस मंडल के बड़े भूभाग से होकर गंगा गुजरती हैं। नमामि गंगे मिशन के तहत हुए कार्यों की उन्होंने सराहना की।

जनप्रतिनिधियों से फीडबैक लेते वक्त बिठूर विधायक अभिजीत सांगा ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को बताया कि मुख्य चिकित्सा अधिकारी विधायकों का ही फोन नहीं उठाते। एमएलसी डॉ.अरुण पाठक ने भी यही शिकायत दोहराई। इस योगी ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि जनप्रतिनिधियों के सतत संपर्क में रहें। सांसदों और विधायकों के फोन कॉल की उपेक्षा कतई न की जाए। अगर किसी अधिकारी के खिलाफ ऐसी शिकायत आती है तो उस पर कार्रवाई जरूर होगी। उन्होंने कहा कि सांसदों-विधायकों की उपेक्षा जनता की उपेक्षा है। इसे स्वीकार नहीं किया जा सकता।

वहीं, जमीन पर अवैध कब्जे की शिकायतों का संज्ञान लेते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि अगर कहीं सरकारी भूमि पर किसी ने अवैध कब्जा किया है तो उससे सख्ती से निपटा जाए और जब से अवैध कब्जा हुआ है, तब से किराया भी वसूला जाए। कानपुर में मेट्रो रेल का काम प्राथमिकता से करने को कहा। मंडलायुक्त डॉ. राज शेखर ने बताया कि कानपुर में कृषि विश्वविद्यालय की 14 हेक्टेयर भूमि मेट्रो डिपो के ली जानी है। विश्वविद्यालय की अनुमति मिल गई है। इस पर मुख्यमंत्री ने जल्द कब्जा लेने की बात कही। साथ ही कन्नौज में ग्रामीण इंजीनियरिंग विभाग में रिक्त इंजीनियर के पद पर तत्काल तैनाती के भी निर्देश दिए। इस दौरान कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही और पंचायतीराज मंत्री भूपेंद्र चौधरी भी उपस्थित थे।

एमएसपी से कम पर खरीद कतई नहीं : इन दिनों किसानों का मुद्दा गरमाया हुआ है। इसे देखते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि पहली अक्टूबर से धान क्रय केंद्र खुल रहे हैं। यह सुनिश्चित किया जाए कि किसी भी कीमत पर न्यूनतम समर्थन मूल्य से कम पर खरीद न हो।

अनलॉक का मतलब निश्चिंतता नहीं : कानपुर मंडल में कोविड की स्थिति को नियंत्रित, लेकिन चिंताजनक बताते हुए अधिकारियों को विशेष ध्यान रखने के निर्देश दिए गए। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि होम आइसोलेशन के प्रोटोकॉल का अक्षरश: पालन कराएं। ट्रेसिंग, टेस्टिंग लगातार जारी रहे। अब अनलॉक है, लेकिन इसका अर्थ निश्चिंतता नहीं है। सतत सतर्कता रखनी होगी।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.