यूपी वासियों के लिए मुंबई से हजारों करोड़ का गिफ्ट लेकर लौटे सीएम योगी, कई बड़े समूह करेंगे निवेश

सपनों की नगरी मुंबई से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उम्मीदों की भारी-भरकम पोटली लेकर लौटे हैं।

सपनों की नगरी मुंबई से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उम्मीदों की भारी-भरकम पोटली लेकर लौटे हैं। देश के शीर्ष औद्योगिक समूहों के प्रतिनिधियों के साथ हुई लंबी चर्चा ने वह संभावनाएं बना दी हैं कि निकट भविष्य में उत्तर प्रदेश में हजारों करोड़ का निवेश हो।

Publish Date:Thu, 03 Dec 2020 08:49 PM (IST) Author: Umesh Tiwari

लखनऊ [राज्य ब्यूरो]। सपनों की नगरी मुंबई से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उम्मीदों की भारी-भरकम पोटली लेकर लौटे हैं। देश के शीर्ष औद्योगिक समूहों के प्रतिनिधियों के साथ हुई लंबी चर्चा ने वह संभावनाएं बना दी हैं कि निकट भविष्य में उत्तर प्रदेश में हजारों करोड़ का निवेश हो। डिफेंस कॉरिडोर से लेकर विभिन्न क्षेत्रों में निवेश की इच्छा उद्योगपतियों ने जताई है।

दो दिवसीय दौरे पर मुंबई गए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार और बुधवार को वहां उद्यमियों के साथ बैठक की। यूपी सरकार के मुताबिक उद्यमियों ने यहां निवेश की इच्छा जताने के साथ ही कई सुझाव दिए हैं। सीएम योगी से मुलाकात में टाटा समूह के चेयरमैन एन. चंद्रशेखरन ने इलेक्ट्रॉनिक्स मैन्यूफैक्चरिंग, धार्मिक पर्यटन के स्थानों अयोध्या और प्रयागराज में होटल, पैसेंजर इलेक्ट्रिक व्हीकल और सोलर मैन्यूफैक्चरिंग में निवेश की इच्छा जाहिर की है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उनसे कहा कि जेवर एयरपोर्ट के पास राज्य सरकार का प्रस्तावित इलेक्ट्रॉनिक सिटी एक अच्छा विकल्प है। टाटा ग्रुप के चेयरमैन ने सुझाव दिया कि सोलर एनर्जी के क्षेत्र में बड़ा निवेश तभी संभव है, जब एक गीगावाट या दो गीगावाट की क्षमता पर विचार किया जाए। ऐसे मामले में टाटा समूह राज्य में सोलर प्लांट स्थापित करने पर विचार करेगा।

टाटा के साथ इनके भी प्रस्ताव

हीरानंदानी ग्रुप के चेयरमैन और एमडी डॉ. निरंजन हीरानंदानी ने सुझाव दिया कि मिश्रित भूमि उपयोग वाली टाउनशिप स्थापित करना एक दिलचस्प प्रस्ताव होगा । उसी की क्षमता और व्यावहारिकता समझने के लिए एक अध्ययन किया जाएगा। केकेआर इंडिया एडवाइजर्स प्राईवेट लिमिटेड के पार्टनर और सीईओ संजय नायर ने कृषि आपूर्ति श्रंखला, कोल्ड स्टोरेज, फार्म मशीनीकरण, वेयर हाउसिंग सहित पर्यटन अवसंरचना, वित्त पोषण, अस्पतालों के विकास में निवेश पर चर्चा की। कहा कि सरकार भूमि दे सकती है और निजी क्षेत्र की ओर से शेष विकास किया जा सकता है। सीमेंस इंडस्ट्री सॉफ्टवेयर इंडिया के वाइस प्रेसिडेंट और एमडी सुप्रकाश चौधरी ने कहा कि डिफेंस कॉरिडोर में उत्कृष्टता केंद्र में सीमेंस आरएंडडी सेंटर विकसित करने में रुचि है। आरएंडडी केंद्र का विकास पीपीपी मोड पर किया जाना चाहिए। कंपनी सॉफ्टवेयर के रूप में 80 फीसद इक्विटी दे सकती है। कल्याणी ग्रुप के चेयरमैन बाबा एन. कल्याणी ने मुख्यमंत्री को बताया कि उनका ग्रुप डिफेंस कॉरिडोर के तहत झांसी में रक्षा उत्पादन में निवेश के लिए इच्छुक है। उन्होंने केंद्र की रक्षा उत्पादों के आयात संबंधी नीति संबंधी कुछ सुझाव दिए। यूपीडा के सीईओ अवनीश अवस्थी ने कहा कि उनका प्रस्ताव केंद्र सरकार के विचार के लिए मुख्यमंत्री द्वारा भेज दिया जाएगा। कल्याणी ग्रुप प्रदेश में कौशल विकास केंद्र भी स्थापित करेगा । एल एंड टी ग्रुप के सीईओ और एमडी एसएन सुब्रमण्यम ने कहा कि केंद्र सरकार से प्रस्ताव पर अनुमोदन मिलने के बाद वे झांसी में रक्षा उत्पादन इकाई स्थापित करना चाहते हैं। एल एडं टी ग्रुप अस्पताल और गंगा एक्सप्रेसवे निर्माण में भी भागीदार बनना चाहता है। साथ ही बताया कि स्मार्ट मीटर में सॉफ्टवेयर की जो समस्या थी, उसे ठीक कर लिया गया है। उन्होंने मुख्यमंत्री से प्रोजेक्ट को दोबारा शुरू करने का अनुरोध किया। थॉमस जेफर्सन यूनिवर्सिटी के मोहम्मद अली ने बताया कि जेवर में प्रस्तावित हवाई अड्डे के पास मेडिकल यूनिवर्सिटी स्थापित करने में रुचि है। सेंट्रम कैपिटल लिमिटेड के अधिशासी चेयरमैन जसपाल बिंद्रा ने माइक्रो फाइनेंस क्षेत्र में निवेश की इच्छा जताई। समारा इंडिया एडवाइजर्स के सुमित नारंग ने कहा कि यूपी में रिटेल सेक्टर में निवेश की असीम संभावनाएं हैं। वह प्रदेश के नगर विकास विभाग के संपर्क में हैं, ताकि स्थानीय स्तर पर रिटेल आउटलेट खोल सकें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.