उत्तर प्रदेश दिवस पर सीएम योगी आदित्यनाथ की बड़ी घोषणा, अब प्रतियोगी छात्रों को निश्शुल्क कोचिंग

राजधानी लखनऊ स्थित अवध शिल्पग्राम में आयोजित समारोह को संबोधित करते मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि अभ्युदय कोचिंग में हर जिले के छात्र पढ़ेंगे। सरकार स्कूल-कॉलेज के इन्फ्रास्ट्रक्चर का उपयोग करेगी। आइआइटी यूपीएससी कैट नीट सीडीएस एनडीए सहित सभी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कराने वाले विषय विशेषज्ञ नियुक्त किए जाएंगे।

Publish Date:Sun, 24 Jan 2021 09:35 PM (IST) Author: Umesh Kumar Tiwari

लखनऊ [राज्य ब्यूरो]। कोरोना काल में लगे लॉकडाउन के दौरान दूसरे राज्यों में फंसे प्रतियोगी छात्रों की पीड़ा-परेशानी को समझते हुए योगी सरकार ने बड़ा निर्णय लिया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 71वें उत्तर प्रदेश स्थापना दिवस उद्घाटन समारोह के मंच से घोषणा की कि प्रतियोगी छात्रों को अब कोचिंग के लिए दूसरे राज्यों में जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। प्रदेश सरकार बसंत पंचमी से हर मंडल मुख्यालय पर अभ्युदय नाम से निश्शुल्क कोचिंग शुरू करने जा रही है।

राजधानी लखनऊ स्थित अवध शिल्पग्राम में आयोजित समारोह में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि अभ्युदय कोचिंग में हर जिले के छात्र पढ़ेंगे। सरकार स्कूल-कॉलेज के इन्फ्रास्ट्रक्चर का उपयोग करेगी। आइआइटी, यूपीएससी, कैट, नीट, सीडीएस, एनडीए सहित सभी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कराने वाले विषय विशेषज्ञ नियुक्त किए जाएंगे। आइएएस-आइपीएस अधिकारी भी अपने अनुभव से छात्रों को मार्गदर्शन देंगे। यहां वर्चुअल और फिजिकल पढ़ाई कराई जाएगी।

उत्तर प्रदेश गौरव सम्मान शुरू करने की घोषणा : इसके साथ ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश गौरव सम्मान शुरू करने की भी घोषणा की है। विभिन्न योजनाओं के लाभार्थियों और प्रतिभाओं को सम्मानित करने के साथ ही बोले कि अलग-अलग क्षेत्रों में प्रदेश का नाम रोशन करने वालों को उत्तर प्रदेश गौरव सम्मान भी दिया जाएगा। मुख्य सचिव की अध्यक्षता में गठित समिति नाम चयन करेगी। जल्द ही इस पुरस्कार की शुरुआत राज्यपाल के हाथों से कराई जाएगी।

आर्थिक-सामाजिक सुरक्षा मुहैया कराई : सीएम योगी ने सरकार द्वारा अब तक उपलब्ध कराए गए रोजगार-स्वरोजगार का जिक्र करते हुए कहा कि कोरोना काल में चालीस लाख प्रवासी श्रमिक-कामगार प्रदेश में लौटे, जिनके खाने-रहने का प्रबंध सरकार ने किया। अब सरकार ऐसी व्यवस्था करने जा रही है कि पोर्टल पर पंजीयन कराने वाले यूपी के कामगार-श्रमिक दुनिया में कहीं भी रहते हों, महामारी आने पर उन्हें आर्थिक-सामाजिक सुरक्षा मुहैया कराई जाएगी।

ओडीओपी सहित कई योजनाओं की चर्चा : उपमुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने तमाम योजनाओं पर प्रकाश डाला। स्वागत भाषण में एक जिला एक उत्पाद (ओडीओपी) सहित कई योजनाओं की चर्चा करते हुए एमएसएमई एवं खादी ग्रामोद्योग मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने भरोसा जताया कि ओडीओपी मॉडल पर एक दिन ऑक्सफॉर्ड जैसा विश्वविद्यालय भी शोध करेगा। आभार पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री डॉ. नीलकंठ तिवारी ने जताया।

मंच पर ये रहे उपस्थित : मंच पर कृषि मंत्री सूर्यप्रताप शाही, पशुपालन मंत्री लक्ष्मीनारायण चौधरी, समाज कल्याण मंत्री रमापति शास्त्री, नगर विकास मंत्री आशुतोष टंडन, उद्यान मंत्री श्रीराम चौहान, जलशक्ति मंत्री डॉ. महेंद्र सिंह, युवा कल्याण एवं खेल मंत्री उपेंद्र तिवारी, महिला एवं बाल विकास मंत्री स्वाति सिंह, कृषि राज्यमंत्री लाखन सिंह राजपूत, सांसद कौशल किशोर, महापौर संयुक्ता भाटिया और मुख्य सचिव आरके तिवारी भी थे।

बदलाव के नए मोड़ पर है यूपी : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि उत्तर प्रदेश बदलाव के नए मोड़ पर है। अब इसे दंगों और अपराध के लिए नहीं, बल्कि कानून व्यवस्था के लिए जाना जाता है। अपराध पर नियंत्रण के यूपी के मॉडल दूसरे राज्य लागू करने के लिए उत्सुक हैं। उन्होंने कहा कि हमने खानदानी और पेशेवर अपराधियों पर भी लगाम कसी है। यही वजह है कि निवेशक आ रहे हैं। उन्होंने प्रयागराज कुंभ की सफलता का जिक्र करते हुए पूर्व की सरकारों पर बिना नाम लिए निशाना भी साधा।

स्थापना दिवस के आकर्षण

कैलाश खेर द्वारा गाया गया उत्तर प्रदेश का गीत लांच हुआ। इनवेस्ट इंडिया स्ट्रेटजिक इनवेस्ट रिसर्च यूनिट की मिशिका नैय्यर द्वारा तैयार ओडीओपी की सफलता पर रिपोर्ट का लोकार्पण हुआ। तकनीक के सहारे उद्यमिता को प्रोत्साहित करने के लिए एमएसएमई विभाग के उद्यम सारथी एप का लोकार्पण किया गया। एमएसएमई विभाग की ओर से अपर मुख्य सचिव नवनीत सहगल ने भारतीय स्टेट बैंक और इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ पैकेजिंग के साथ एमओयू साइन किया। डिजाइनर मनीष त्रिपाठी द्वारा बनाया गया विश्व का सबसे बड़ा खादी मास्क लोकार्पित किया गया। मुख्यमंत्री ने प्रदेश के 1,43,929 छात्रों के खातों में समाज कल्याण विभाग की कुल 39 करोड़ रुपये की छात्रवृृत्ति ट्रांसफर की। रानी लक्ष्मीबाई, झलकारी बाई, सुभद्रा कुमारी चौहान, महादेवी वर्मा सहित प्रदेश का नाम रोशन करने वाली महिलाओं को नमन करते हुए संस्कृति विभाग की प्रस्तुति। नारी सशक्तिकरण और मिशन शक्ति के तहत छात्रों ने जूडो, ताइक्वांडो आदि का प्रदर्शन किया।

इन्हें मिले पुरस्कार और टूलकिट 

रानी लक्ष्मीबाई पुरस्कार (प्रत्येक को तीन लाख 11 हजार रुपये, प्रमाण पत्र और रानी लक्ष्मीबाई की कांस्य प्रतिमा)

वंदना कटारिया : हॉकी : मेरठ प्रियंका : एथलेटिक्स : मेरठ स्वर्णिमा जायसवाल : हैंडबॉल : लखनऊ हिमानी सिंह : शूटिंग : अलीगढ़ साक्षी जौहरी : वुशू : मेरठ विमला सिंह : वेटरन वर्ग एथलेटिक्स : लखनऊ ज्योति : दिव्यांग वर्ग तीरंदाजी : मुजफ्फरनगर आकांक्षा चौधरी : दिव्यांग वर्ग शूटिंग : बिजनौर

लक्ष्मण पुरस्कार (प्रत्येक को तीन लाख 11 हजार रुपये, प्रमाण पत्र और लक्ष्मण की कांस्य प्रतिमा)

नितिन तोमर : कबड्डी : बागपत पुनीत कुमार : रोइंग : मुजफ्फरनगर गौरव बालियान : कुश्ती : मुजफ्फरनगर सूरज यादव : वुशू : वाराणसी राजकुमार : वेटरन वर्ग कुश्ती : गाजियाबाद कुलदीप कुमार : वेटरन वर्ग एथलेटिक्स : मेरठ वरुण सिंह भाटी : दिव्यांग वर्ग एथलेटिक्स : गौतमबुद्धनगर सचिन चौधरी : दिव्यांग वर्ग पावर लिफ्टिंग : मेरठ अबू हुबैदा : दिव्यांग वर्ग बैडमिंटन : लखनऊ आकाश : दिव्यांग वर्ग शूटिंग : बागपत

राज्यस्तरीय विवेकानंद यूथ अवार्ड (व्यक्तिगत श्रेणी) (प्रत्येक को पचास हजार रुपये, प्रमाण पत्र और स्वामी विवेकानंद की प्रतिमा)

सागर कसाना, गाजियाबाद इशिका बंसल, आगरा श्रीकृष्ण पांडेय, गोरखपुर कलीम अतहर, पीलीभीत केतन मोर, झांसी शुभम मिश्रा, लखनऊ प्रवीण कुमार गुप्ता, अंबेडकरनगर अजीत कुमार, लखनऊ अंकित मौर्य, लखनऊ रविकांत मिश्रा, फतेहपुर

राज्यस्तरीय विवेकानंद यूथ अवार्ड (मंगल दल श्रेणी) (प्रथम को एक लाख रुपये, द्वितीय को पचास हजार रुपये, तृतीय को पच्चीस हजार रुपये, प्रमाण पत्र और स्वामी विवेकानंद की प्रतिमा)

प्रथम : युवक मंगल दल, भाऊपुर चौखंडी, वाराणसी द्वितीय : युवक मंगल दल, केहुनिया, देवरिया तृतीय : युवक मंगल दल, दामोदरपुर, इटावा प्रथम : महिला मंगल दल, मरूई, वाराणसी द्वितीय : महिला मंगल दल, पांडेयपुर, देवरिया तृतीय : महिला मंगल दल, नाजरपुर खुर्द, अमरोहा

कृषक पुरस्कार

अमरेंद्र प्रताप सिंह : स्ट्रॉबैरी की व्यावसायिक खेती : बाराबंकी डॉ. कामिनी सिंह : सहजन की खेती एवं प्रसंस्करण : लखनऊ अनिरुद्ध यादव : प्राकृतिक खेती : बहराइच हरियाली किसान समृद्धि प्रोड्यूसर कंपनी : भदोही 

गोकुल पुरस्कार

वरुण सिंह : लखीमपुर खीरी धीरेंद्र सिंह : गोरखपुर

नंदबाबा पुरस्कार

हरेंद्र सिंह : मथुरा

विश्वकर्मा श्रम सम्मान टूलकिट

शकुंतला गौतम : दर्जी : लखनऊ राजकुमारी : कुम्हार : लखनऊ राहुल कुमार : टोकरी बुनकर : लखनऊ शिवनाथ ठाकुर : नाई : लखनऊ रंजीत शर्मा : बढ़ई : लखनऊ

ओडीओपी टूलकिट

चुन्नी देवी : चिकनकारी : लखनऊ सलमान : जरी जरदोजी : लखनऊ

राज्यस्तरीय माटी कला पुरस्कार

प्रथम : गुलाब चंद प्रजापति : गोरखपुर द्वितीय : बैजनाथ प्रजापति : आजमगढ़ तृतीय : दीपक कुमार : बिजनौर

 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.