CBSE Class 10 Result 2021: प्रयागराज रीजन में 99.19 फीसद पास, 52 जिलों के रिजल्ट में बेटियों का दबदबा

CBSE Class 10 Result 2021 सीबीएसई के प्रयागराज रीजन के 10वीं के रिजल्ट में भी 12वीं की तरह छात्राओं का दबदबा है। रीजन के कुल 52 जिलों का वर्ष 2021 का परिणाम 99.19 प्रतिशत रहा जिसमें छात्राओं के सफलता का प्रतिशत 99.37 है जबकि छात्र 99.09 फीसद सफल हुए हैं।

Umesh TiwariTue, 03 Aug 2021 08:50 PM (IST)
सीबीएसई ने 10वीं का रिजल्ट मंगलवार को घोषित कर दिया है।

प्रयागराज [राज्य ब्यूरो]। सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन (सीबीएसई) ने अपनी पूर्व निर्धारित घोषणा के अनुसार 10वीं का रिजल्ट मंगलवार को घोषित कर दिया है। सीबीएसई बोर्ड के प्रयागराज क्षेत्र (रीजन) के 10वीं के रिजल्ट में भी 12वीं की तरह छात्राओं का दबदबा है। रीजन के कुल 52 जिलों का वर्ष 2021 का परिणाम 99.19 प्रतिशत रहा, जिसमें छात्राओं के सफलता का प्रतिशत 99.37 है, जबकि छात्र 99.09 फीसद सफल हुए हैं। मंगलवार को घोषित परिणाम में छात्राओं से छात्र पीछे रह गए हैं।

सीबीएसई बोर्ड के प्रयागराज क्षेत्र (रीजन) के 52 जिलों में 10वीं के कुल 1971 विद्यालय में 97,023 परीक्षार्थी पंजीकृत थे। बोर्ड के क्षेत्रीय कार्यालय की निदेशक श्वेता अरोड़ा ने 12वीं की तरह पांच प्रमुख जिलों का भी परिणाम जारी किया है। इनमें प्रयागराज, लखनऊ, वाराणसी, कानपुर और गोरखपुर शामिल हैं। इन जिलों में सबसे अधिक रिजल्ट लखनऊ का रहा। यहां 99.64 फीसद छात्र-छात्राएं सफल हुए हैैं। दूसरे स्थान पर रहे गोरखपुर का परिणाम 99.55 फीसद है। तीसरे स्थान पर प्रयागराज रहा, जहां का सफलता प्रतिशत 99.52 प्रतिशत है।

इसी तरह 99.32 फीसद रिजल्ट के साथ कानपुर चौथे और 99.30 फीसद परिणाम के साथ वाराणसी पांचवे स्थान पर रहा। इनमें सिर्फ गोरखपुर में छात्राओं से छात्र आगे रहे। अन्य जिलों में छात्रों को छात्राओं ने पीछे छोड़ दिया है। इसी बोर्ड के प्रयागराज क्षेत्रीय कार्यालय की ओर से जारी किए गए वर्ष 2021 के 12वीं के परिणाम में इन्हीं पांचों जिलों में छात्राएं छात्रों से आगे रही थीं।

जिला : सफल छात्र प्रतिशत : सफल छात्रा प्रतिशत प्रयागराज : 99.40 : 99.70 लखनऊ : 99.58 : 99.73 वाराणसी : 99.17 : 99.51 कानपुर : 99.19 : 99.53 गोरखपुर : 99.66 : 99.36

बता दें कि सीबीएसई के परिणाम में छात्रों ने बिना बोर्ड परीक्षाओं के केवल आंतरिक परीक्षाओं के आधार पर ही बेहतर अंक प्राप्त किए हैं। पूरे देश में परीक्षा के लिए इस साल 21 लाख से अधिक छात्रों ने पंजीकरण कराया था। 20 लाख से अधिक छात्र उत्तीर्ण हुए हैं। उत्तीर्ण प्रतिशत 99.04 रहा। वहीं, बीते साल उत्तीर्ण प्रतिशत 91.46 था। बोर्ड ने 16,639 छात्रों का परिणाम फिलहाल जारी नहीं किया है। सीबीएसई का कहना है कि इन छात्रों का अंक स्कूलों द्वारा समय से नहीं भेजने के चलते ऐसा किया गया है। फिलहाल एक हफ्ते के अंदर इनका परिणाम जारी कर दिया जाएगा। बीते साल की तरह इस साल भी त्रिवेंद्रम जोन टाप पर रहा। त्रिवेंद्रम जोन का पास फीसद 99.99 रहा। दूसरे स्थान पर बेंगलुरू और तीसरे पर चेन्नई रहा।

पोर्टल से डाउनलोड करें प्रमाणपत्र : बोर्ड के अधिकारियों ने बताया कि छात्र अपने सभी संबंधित सर्टिफिकेट मंजूषा पोर्टल के जरिये डाउनलोड कर सकते हैं। वहीं, डिजिलाकर एप और पोर्टल पर भी सभी सर्टिफिकेट डाउनलोड करने की सुविधा है। इस बार विदेशी छात्रों को भी डिजिटल मार्कशीट डाउनलोड करने की सुविधा दी जा रही है। सीबीएसई की तरफ से इस साल भी न मेरिट सूची और न ही विषयवार मेरिट सूची जारी हुई।

इस फार्मूला से जारी हुआ परिणाम : कोरोना महामारी के कारण इस साल परीक्षाएं रद हो गई थीं। बोर्ड ने मूल्यांकन के लिए छात्रों की साल भर ली गई परीक्षाओं के आधार पर परिणाम जारी किया। 100 अंकों की परीक्षा के लिए इस बार स्कूलों ने ही छात्रों का 80 अंकों के लिए मूल्यांकन किया। वहीं, 20 अंक आंतरिक मूल्यांकन के जोड़े गए। बोर्ड ने इन 80 अंकों के लिए यूनिट टेस्ट के 10 अंक, अर्धवार्षिक परीक्षा के 30 अंक और प्री-बोर्ड परीक्षा के 40 अंक के आधार पर स्कूलों को परिणाम जारी करने को कहा था।

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.