स्तानपान कराने वाली महिलाएं लगवा सकती है कोरोना का टीका, जानिए वैक्सीनेशन से जुड़े सवालों के जवाब

लखनऊ के संजय गांधी पीजीआइ के मैटरनल एंड रिप्रोडक्टिव हेल्थ विभाग की प्रो. इंदु लता साहू ने कोविड वैक्सीनेशन से जुड़े सवालों का जवाब दिया। स्तनपान कराने वाली महिलाएं टीका लेती है तो संभव है कि स्तनपान करना शिशु भी कोरोना वायरस के संक्रमण से सुरक्षित रहेगा ।

Rafiya NazThu, 10 Jun 2021 08:22 AM (IST)
महिलाओं में कोरोना वैक्सीन को लेकर काफी मिथक हैं इसे लेकर जानिए एसजीपीजीआइ के प्रो इंदुलता की राय।

लखनऊ, जेएनएन। स्तनपान कराने वाली, गर्भधारण कर चुकी है या योजना बना रही है तो इन्हें कोरोना का टीका लगवाना चाहिए। स्तनपान कराने वाली महिलाएं टीका लेती है तो संभव है कि स्तनपान करना शिशु भी कोरोना वायरस के संक्रमण से सुरक्षित रहेगा। संजय गांधी पीजीआइ के मैटरनल एंड रिप्रोडक्टिव हेल्थ विभाग की प्रो. इंदु लता साहू ने इन सवालों का जवाब दिया।

प्र-जो महिलाएं शिशुओं को स्तनपान करा रही हैं,उनके लिए क्या सलाह है क्या उन्हें टीका लगवाना चाहिए

उत्तर- जवाब हां है।, जिन महिलाओं ने जन्म दिया है और जो अपने बच्चोंको स्तनपान करा रही हैं, वे वैक्सीन ले सकती हैं, जबयह वैक्सीन उपलब्ध हो जाए तो उन्हें यह टीका लगवाना चाहिए। इसमें बिल्कुल भी खतरानहीं है क्योंकि अभी जितने भी टीके लग रहे हैं, उनमें से किसी में भी जीवित वायरस नहीं है। और इसलिए स्तन के दूध के माध्यम से संचरण का कोई खतरा नहीं है। वास्तव में, मां के पास जो एंटीबॉडी होते हैं, स्तन के दूध के माध्यम से बच्चे तक जा सकते हैं और शायद बच्चे की थोड़ी सी रक्षाकरने के लिए ही काम कर सकते हैं। लेकिन बिल्कुल कोई नुकसान नहीं है। यह बहुत सुरक्षित है। और इसलिए स्तनपान कराने वाली महिलाएं निश्चित रूप से वर्तमान में उपलब्ध टीकों को ले सकती हैं।

प्रश्न-पीरियड में हो तो क्या टीका लगवा सकती है

उत्तर-लगवा सकती है क्योंकि वैज्ञानिक रूप से ऐसा कुछ भी नहीं है जो मासिक धर्म वाली महिला को टीका लगवाने के रास्ते में आड़े आए। जानते हैं, वह थोड़ी थकान महसूस कर सकती है, लेकिन अगर वह तारीख है जिस पर आपकी टीकानियुक्ति है और यदि आपके पीरियड्स हैं,तोआगे बढ़ने और टीका लगवाने में कोई समस्या नहीं है।

प्रश्न-हम टीकों और प्रजनन क्षमता और बांझपन के बारे में बहुत सारी गलत सूचना सुनते हैं क्या यह मिथक है

उत्तर- हां,यहएक आम मिथक है। और मुझे यह कहकर शुरू करना चाहिए कि इस चिंता के पीछे कोई वैज्ञानिक प्रमाण या सच्चाई नहीं है कि टीके किसी भी तरह से प्रजनन क्षमता में हस्तक्षेप करते हैं, या तो पुरुषों में या महिलाओं में, क्यों टीके क्या करते हैं वे उस विशेष प्रोटीन या एंटीजन के खिलाफ प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को उत्तेजित करते हैं। वायरस या बैक्टीरिया। तो इस मामले में, कोविड वैक्सीन एंटीबॉडी प्रतिक्रिया और कोरोना वायरस के स्पाइक प्रोटीन के खिलाफ एक सेल मध्यस्थता प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया दोनों को उत्तेजित करता है। इसलिए, ऐसा कोई तरीका नहीं है जिससे वे पुरुषों या महिलाओं में प्रजनन अंगों के कामकाज में हस्तक्षेप कर सकें। इसलिए, मुझे लगता है कि लोग निश्चित हो सकते हैं कि ये टीके किसी भी तरह से प्रजनन क्षमता में हस्तक्षेप नहीं करते हैं।

प्रश्न-क्या गर्भवती हैं या गर्भवती होने की योजना बना रही हैं

उत्तर-गर्भावस्था में टीके के लिए अभी भारत में उपलब्ध टीका नहीं है। जो टीके देश में है उनका अध्ययन नहीं हुआ है। मैसेंजर आरएनए प्लेटफार्म पर बने टीके जैसे फाइजर के आने वाले यह टीका गर्भवती महिलाएं लगवा सकेंगी । टीके के लिए हमने जिन प्लेटफार्मों का उपयोग किया है, वे एमआरएनए प्लेटफॉर्म, निष्क्रिय वायरस या वायरल वेक्टर प्लेटफॉर्म या सबयूनिट प्रोटीन हैं। उनमें से कोई भी जीवित वायरस नहीं है जो शरीर के भीतर गुणा कर सकता है और संभावित रूप से एक समस्या पैदा कर सकता है। इसलिए, मुझे लगता है कि यह महत्वपूर्ण है कि हर देश में गर्भवती होने की योजना बनाने वाली महिलाओं को लाभ बनाम जोखिम के बारे में बताया जाए और अगर वे इसे लेना चाहती हैं तो उन्हें वैक्सीन की पेशकश की जाए।

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.