रक्षा क्षेत्र में लखनऊ को बुलंदी तक पहुंचा गए जनरल रावत, गोपनीय वार कांफ्रेंस में हिस्सा लेने आए थे ट्रेन से

Bipin Rawat Death News भारतीय सेना के सेनाध्यक्ष बनने के बाद जनरल बिपिन रावत लखनऊ स्थित 11 गोरखा राइफल्स रेजीमेंटल सेंटर के कर्नल कमांडेंट बन गए थे। यहां रेजीमेंटल सेंटर की स्थापना की हीरक जयंती समारोह और पुनर्मिलन समारोह में जनरल बिपिन रावत शामिल हुए थे।

Anurag GuptaWed, 08 Dec 2021 06:56 PM (IST)
डिफेंस एक्सपो से लेकर एशिया के सबसे बड़े मेडिकल अभ्यास का कराया था आयोजन।

लखनऊ, [निशांत यादव]। Bipin Rawat Death News: सेनाध्यक्ष बनने से लेकर देश के पहले सीडीएस तक का सफर तय करते हुए जनरल बिपिन रावत का लखनऊ से एक खास लगाव हो गया। जिस 5/11 गोरखा राइफल्स में उनको कमीशन मिली। उस बटालियन के जवानों से मिलने जनरल बिपिन रावत अक्सर लखनऊ आते रहे। लखनऊ में पहली बार डिफेंस एक्सपो का आयोजन हुआ तो इसके पीछे भी जनरल रावत की अहम भूमिका रही। जनरल रावत ने ही एशिया की सबसे बड़ी मेडिकल एक्सरसाइज मार्च 2019 में लखनऊ में करायी। जनरल बिपिन रावत खुद इस एक्सरसाइज का नेतृत्व करने के लिए लखनऊ आए थे।

भारतीय सेना के सेनाध्यक्ष बनने के बाद जनरल बिपिन रावत लखनऊ स्थित 11 गोरखा राइफल्स रेजीमेंटल सेंटर के कर्नल कमांडेंट बन गए थे। यहां रेजीमेंटल सेंटर की स्थापना की हीरक जयंती समारोह और पुनर्मिलन समारोह में जनरल बिपिन रावत शामिल हुए थे। देश के पहले सीडीएस बनने के बाद उन्होंने 11 गोरखा राइफल्स रेजीमेंटल सेंटर के कर्नल कमांडेंट का पद छोड़ दिया। जनरल बिपिन रावत सेनाध्यक्ष बनने के बाद नौ अप्रैल 2018 को लखनऊ आए। यहां चीन की चुनौतियों से निपटने के लिए मध्य कमान मुख्यालय में ही वार गेम कांफ्रेंस में हिस्सा लिया था। कांफ्रेंस को इतना गोपनीय रखा गया था कि जनरल रावत अपना विशेष विमान छोड़कर पदमावत एक्सप्रेस से दिल्ली से एक मिलिट्री सैलून में सवार होकर लखनऊ आ गए थे।

इस कांफ्रेंस में पूर्वोत्तर राज्यों में चीन और कश्मीर की सुरक्षा का एक मास्टर प्लान बनाया गया। इसकी समीक्षा करने सेनाध्यक्ष जनरल रावत एक बार फिर से 25 व 26 मई 2018 को लखनऊ आए। जनरल रावत ने ही मध्य कमान मुख्यालय को और पुख्ता करने के लिए सेंट्रल थिएटर कमांड बनाने का खाका तैयार किया। वायुसेना के साथ बेहतर तालमेल के कारण बीकेटी वायुसेना स्टेशन को अपग्रेड किया जा सका। जबकि मेमौरा वायुसेना स्टेशन में ड्रोन व विदेशी हमलाें को विफल करने के लिए आधुनिक उपकरण लगाए थे। वायुसेना ने पिछले दिनों पूर्वांचल एक्सप्रेस पर जो विमानों की लैंडिंग की। उसकी तैयारियां भी मध्य वायुकमान मुख्यालय ने जनरल बिपिन रावत के नेतृत्व में पूरी की थी।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.