आयुष्मान से खुलेंगी हाथ-पैर की बंद नसें, शुरू होगी धमनी ग्राफ्टिंग Lucknow News

लखनऊ [संदीप पांडेय]। अब तक की सबसे बड़ी स्वास्थ्य योजना आयुष्मान से अब हाथ-पैर की बंद नसें में भी खुलेंगी। वहीं, मरीज घुटने के पास ब्लॉक धमनी की ग्राफ्टिंग भी करा सकेंगे। इसके लिए 50 हजार रुपये तय किए गए हैं। साथ ही इलाज में अड़चन बने कम शुल्क के करीब 500 पैकेज की दरें भी बढऩे जा रही हैं।

प्रधानमंत्री आरोग्य योजना (आयुष्मान भारत) के सोमवार को एक वर्ष पूरे हो गए। उधर, वर्षभर चली योजना पर दिल्ली में पिछले दिनों मंथन हुआ था। गवर्निंग बॉडी की बैठक में सभी प्रदेशों से आयुष्मान योजना के नोडल अफसर शामिल हुए। इसमें कई पैकेज में कम शुल्क से बीमारियों के इलाज में अड़चन का मसला भी उठा। इनके शुल्क सरकारी आयुर्विज्ञान संस्थान की दरों से भी कम थे। इसे देखते हुए ही वर्षभर बाद लगभग 500 के करीब पैकेज के शुल्क संशोधन पर फैसला हुआ। इसमें 130 पैकेज के शुल्क बढ़ोतरी की लिस्ट प्रदेशों को 10 दिन पहले भेज दी गई है। अब इन पैकेज के शुल्कों का राज्य के अस्पतालों की दरों से क्रॉस मैचिंग की जा रही है। उम्मीद है कि एक माह के अंदर शुल्क बढ़ोतरी के सभी नए पैकेज लागू हो जाएंगे। 

पेरीफेरल आर्टियल सर्जरी फ्री

दिल से अंगों में रक्त पहुंचने वाली धमनी में ब्लॉकेज हो रही है। खासकर हाथ-पैर की नसों के बंद होने की समस्या आम हो रही है। वहीं, घुटने के पास नस बंद होने से प्रोस्थेटिक, सिंथेटिक ग्राफ्ट लगाना पड़ता है। इन बीमारियों के निदान के लिए पेरीफेरल आर्टियल सर्जरी भी मुफ्त होगी। इसके लिए 50 हजार रुपये तय किए गए हैं।

वॉल्व के इलाज का पैकेज डबल 

वयस्कों में बलून पल्मोनरी व एओटिक वाल्वोटमी का पैकेज बढ़ाकर 25 से 37 हजार किया जाएगा। बच्चों में इस प्रोसीजर के लिए 56 हजार रुपये मिलेंगे। इसके अलावा बलून डायलेटेशन ऑफ कॉर्टिकेशन ऑफ एओटा के प्रोसीजर का वयस्क में 25 हजार रुपये का पैकेज था। अब नए में 52 हजार रुपये मिलेंगे। वहीं, बच्चे के मामले में यह पैकेज 71,600 रुपये का होगा।

यह भी जानें

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.