World Breastfeeding Week: लखनऊ में विशेषज्ञों की सलाह, स्तनपान कराने वाली महिलाएं बेझिझक लगवाएं कोरोना वैक्सीन

गर्भवतियों के साथ ही अब स्तनपान कराने वाली महिलाएं भी कोरोना वैक्सीन लगवा सकती हैं। वैक्सीन मां और बच्चे दोनों के लिए ही सुरक्षित है। विशेषज्ञों के अनुसार जो एंटीबॉडी मां बनाती है वो बच्चों को पहुंचता है जो बच्चे के लिए बेहतर ही होता है।

Vikas MishraMon, 02 Aug 2021 07:00 AM (IST)
स्तनपान कराने वाली मां का टीकाकरण प्रसव के बाद कभी भी किया जा सकता है।

लखनऊ, [दुर्गा शर्मा]। गर्भवतियों के साथ ही अब स्तनपान कराने वाली महिलाएं भी कोरोना वैक्सीन लगवा सकती हैं। वैक्सीन मां और बच्चे दोनों के लिए ही सुरक्षित है। विशेषज्ञों के अनुसार जो एंटीबॉडी मां बनाती है, वो बच्चों को पहुंचता है, जो बच्चे के लिए बेहतर ही होता है। एक अगस्त से शुरू हुए विश्व स्तनपान सप्ताह पर दैनिक जागरण के साप्ताहिक अभियान सात दिन, सात भ्रांतियां' के दूसरे दिन स्तनपान कराने वाली महिलाओं के कोरोना वैक्सीनेशन पर विशेषज्ञों से बात की गई। 

भ्रांति: स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए वैक्सीन सुरक्षित नहीं।

एक्सपर्ट सलाह: स्तनपान कराने वाली महिलाएं बेझिझक वैक्सीन लगवाएं।

यह भी जानें

स्तनपान कराने वाली मां का टीकाकरण प्रसव के बाद कभी भी किया जा सकता है। वैक्सीन लेने के बाद अगर बुखार आता है, दर्द और थकान की शिकायत होती है तो भी घबराने की जरूरत नहीं। अगर दो दिन तक भी बुखार न उतरे, तब डाक्टर से मिलें। इस दौरान भी बच्चे को दूध पिलाने में कोई दिक्कत नहीं है। मास्क लगाकर, हाथ साफ करके शिशु को स्तनपान कराती रहें। 

महिला विशेष बूथ की भी व्यवस्थाः गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को ऑन स्पॉट रजिस्ट्रेशन की भी सुविधा दी जा रही। डफरिन अस्पताल के टीकाकरण केंद्र को पिंक बूथ बनाया गया है। सिविल और लोकबंधु अस्पताल में भी महिला विशेष बूथ चल रहे हैं। झलकारी बाई महिला अस्पताल में भी ऑन स्पॉट रजिस्ट्रेशन सुविधा के साथ गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं का टीकाकरण हो रहा। अन्य अस्पतालों में भी टीकाकरण की व्यवस्था है।

विशेषज्ञों की बात

नई गाइडलाइन के अनुसार गर्भवती के साथ ही स्तनपान कराने वाली महिलाएं भी कोरोना वैक्सीन लगवा सकती हैं। इससे मां और बच्चे दोनों को ही किसी तरह का कोई नुकसान नहीं है। वैक्सीन दोनों के लिए ही सुरक्षित है। टीकाकरण से पहले और बाद में भी कोई विशेष एहतियात रखने की भी जरूरत नहीं है। वैक्सीनेशन के लिए स्तनपान कराने वाली महिलाएं आगे भी आ रही हैं। वैक्सीनेशन के बाद अगर बुखार आता है तो भी घबराने की कोई जरूरत नहीं है। अगर बुखार दो दिन तक नहीं उतरे, तब डाक्टर से जरूर मिलें। -मर्सी मैसी रॉस, वैक्सीनेशन इंचार्ज, कलाम सेंटर, केजीएमयू 

विश्व भर में विशेषज्ञों का मानना है कि स्तनपान कराने वाली माताओं का कोविड 19 टीकाकरण जरूरी है। राष्ट्रीय तकनीकी सलाहकार समूह के सुझावों पर स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा स्तनपान कराने वाली मांओं का वैक्सीनेशन शुरू किया गया है। स्तनपान कराने वाली माताओं को टीकाकरण के महत्व को समझाकर वैक्सीनेशन के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए। बेहतर होगा कि गर्भवती एवं उनके परिवारों को कोविड टीकाकरण के बारे में समुचित जानकारी प्रसव के समय/बाद में देकर उन्हेंं एक सही निर्णय लेने के लिए प्रेरित करें। -डा प्रफुल्ल भारद्वाज, स्वास्थ्य अधिकारी, यूनिसेफ, उप्र

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.