आइटीआइ लखनऊ में श्रमिकों के प्रवेश की अंतिम तिथि कल, जानिए सीटों की स्थिति

राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान चारबाग में होगा श्रमिकों का प्रवेश।

कारखानों में हाड़तोड़ मेहनत करने वाले श्रमिकों के लिए खुशखबरी है। उनके हुनर को आधुनिकता के रंग में रंगने की कवायद शुरू हो रही है। इसकी जिम्मेदारी राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थाओं को दी गई है जहां उनके काम को नई धार दी जाएगी।

Rafiya NazMon, 19 Apr 2021 08:14 AM (IST)

लखनऊ, जेएनएन। कारखानों में हाड़तोड़ मेहनत करने वाले श्रमिकों के लिए खुशखबरी है। उनके हुनर को आधुनिकता के रंग में रंगने की कवायद शुरू हो रही है। इसकी जिम्मेदारी राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थाओं को दी गई है, जहां उनके काम को नई धार दी जाएगी। चारबाग के राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान के प्रधानाचार्य ओपी सिंह ने बताया कि कारखानों में काम करने वाले श्रमिकों के कार्य को नई दिशा और गुणवत्ता को सुधारने की पहल लखनऊ के राजकीय औद्योगिक संस्थान चारबाग और लखनऊ के राजकीय महिला औद्योगिक संस्थान, गुरु गोविंद सिंह मार्ग पर शुरू होगी। 20 अप्रैल तक प्रवेश लिया जा सकता है। संस्थानों की कुल सीटों का 10 फीसद सीटें उनके लिए आरक्षित हैं। 10 फीसद सीटें इंस्टीटयूट मैनेजमेंट कमेटी के माध्यम से भी जाएंगी। मेरिट व पहले आओ पहले पाओ के आधार पर प्रवेश होगा। 500 रुपये महीना फीस निर्धारित की गई है। 

इन ट्रेडों में होगा प्रवेश: फिटर, विद्युतकार,मशीनिष्ट,मोटर मैकेनिक,आरएसी, इलेक्ट्रानिक्स,ड्राफ्टमैन सिविल, स्वीइंग टेक्नोलॉजी, मैकेनिकल डीजल व विद्युत रंजन ट्रेडों मेें प्रवेश होगा।

एहतियात, भय व दिक्कतों के बीच हुई एनडीए की परीक्षा

लखनऊ: नेशनल डिफेन्स एकेडमी (एनडीए) की परीक्षा रविवार को राजधानी के विभिन्न केंद्रों पर आयोजित हुई। परीक्षा के लिए राजधानी में करीब एक दर्जन से अधिक केंद्र बनाए गए थे। इस दौरान कोरोना संक्रमण से बचाव को लेकर केंद्रो पर खास इंतेजाम रहे, मगर कोरोना संक्रमण का भय परीक्षार्थियों व परीक्षकों में साफ देखने को मिल रहा था। आशियाना स्थित पायनियर मांटेसरी स्कूल की प्रिंसिपल शर्मीला सिंह ने बताया कि परीक्षा के दौरान कोविड को लेकर जारी प्रोटोकॉल का पूरा ध्यान रखा गया।अभ्यर्थियों को उठानी पड़ी परेशानीकोरोना संक्रमण से उपजे हालातो के बीच परीक्षार्थी परीक्षा देने तो पहुंचे, मगर लॉक डाउन होने के कारण उन्हें आवागमन में खासी परेशानी उठानी पड़ी। स्थानीय स्तर सार्वजनिक साधन न चलने के कारण परीक्षार्थियों को रेलवे व बस स्टेशन से केंद्र तक पैदल ही आना जाना पड़ा।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.