UPSESSB TGT PGT Recruitment 2021: यूपी में शिक्षक भर्ती परीक्षा देने के लिए अनिवार्य किया गया आधार

UPSESSB TGT PGT Recruitment 2021 यूपीएसईएसएसबी ने एडेड माध्यमिक कॉलेजों की अब तक की सबसे बड़ी शिक्षक भर्ती परीक्षा में प्रवेशपत्र के साथ आधार को भी अनिवार्य कर दिया है। इसके बिना परीक्षार्थियों को इम्तिहान देने की अनुमति नहीं होगी।

Umesh TiwariWed, 28 Jul 2021 08:03 PM (IST)
शिक्षक भर्ती परीक्षा में प्रवेशपत्र के साथ आधार को भी अनिवार्य कर दिया है।

लखनऊ [राज्य ब्यूरो]। UPSESSB TGT PGT Recruitment 2021: आधार कार्ड अब फर्जी परीक्षार्थियों पर नकेल कसने का सशक्त माध्यम बन गया है। उत्तर प्रदेश के परिषदीय स्कूलों की छात्र संख्या और अन्य सरकारी योजनाओं में सेंधमारी करने वालों की इसी के जरिये पहचान हुई है। यही वजह है कि उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड (यूपीएसईएसएसबी) ने एडेड माध्यमिक कॉलेजों की अब तक की सबसे बड़ी शिक्षक भर्ती परीक्षा में प्रवेशपत्र के साथ आधार को भी अनिवार्य कर दिया है। इसके बिना परीक्षार्थियों को इम्तिहान देने की अनुमति नहीं होगी। पहली बार भर्ती परीक्षा में आधार जरूरी होने का एक कारण यह भी है कि विधानसभा चुनाव सिर पर है और प्रदेश सरकार परीक्षा में गड़बड़ी होने का कलंक नहीं लगने देना चाहती।

उत्तर प्रदेश के 4512 अशासकीय सहायताप्राप्त (एडेड) माध्यमिक कॉलेजों में प्रवक्ता के 2595 (पीजीटी) व प्रशिक्षित स्नातक शिक्षक (टीजीटी) के 12603 पद खाली हैं। माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड पहली बार इतने अधिक पदों के लिए चयन कर रहा है, दावेदार भी करीब 15 लाख हैं। चयन बोर्ड प्रशिक्षित स्नातक शिक्षक की परीक्षा सात व आठ अगस्त और प्रवक्ता की 17 व 18 अगस्त को करा रहा है। 

यह इम्तिहान मंडल मुख्यालयों पर होना था, लेकिन परीक्षार्थियों की संख्या और कोविड-19 की शारीरिक दूरी के नियम की वजह से सभी जिला मुख्यालयों में दो पालियों में कराना पड़ रहा है। इम्तिहान के दौरान कक्ष निरीक्षक तक को मोबाइल लेकर परीक्षा केंद्र पर प्रवेश की अनुमति नहीं है। केवल स्टैटिक मजिस्ट्रेट ही मोबाइल फोन रख सकते हैं। डीएम, एसपी व जिला विद्यालय निरीक्षकों को परीक्षा सकुशल व शांतिपूर्ण कराने के निर्देश दिए गए हैं।

गड़बड़ी का भी है इतिहास : भर्ती परीक्षाओं में गड़बड़ी के मामले सामने आते रहे हैं। 68,500 शिक्षक भर्ती में अभ्यर्थी की कॉपी बदल गई थी तो 69,000 शिक्षक भर्ती में कुछ केंद्रों पर नकल कराने वाले गिरोहों की वजह से वे अभ्यर्थी उम्दा अंक पाने में सफल हो गए, जो पढ़ने में कमजोर थे। इस मामले में कई गिरफ्तारियां हो चुकी हैं और जांच चल रही है। राजकीय माध्यमिक कालेजों की एलटी ग्रेड भर्ती परीक्षा 2018 में पेपर लीक का प्रकरण सामने आया था, जिसमें उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग की तत्कालीन परीक्षा नियंत्रक तक को गिरफ्तार किया गया था। परीक्षाओं के दौरान नकल व शिक्षा के धंधेबाज भी सक्रिय हो जाते हैं, इसीलिए एसटीएफ लगभग हर परीक्षा के पहले जालसाजों को सामने लाती आई है। परीक्षा नियंत्रक नवल किशोर का कहना है कि प्रवेशपत्र पर निर्देश दिए गए हैं अभ्यर्थी उनका अनुपालन करें।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.