पहाड़ों पर तीन दिन से लगातार हो रही बरसात से खतरे के निशान से ऊपर शारदा

लखीमपुरपहाड़ों पर तीन दिनों से हो रही लगातार बरसात के बाद शारदा नदी खतरे के निशान से

JagranWed, 16 Jun 2021 10:17 PM (IST)
पहाड़ों पर तीन दिन से लगातार हो रही बरसात से खतरे के निशान से ऊपर शारदा

लखीमपुर:पहाड़ों पर तीन दिनों से हो रही लगातार बरसात के बाद शारदा नदी खतरे के निशान से 24 सेमी. ऊपर बह रही है।

नदी के उफनाने से उसके किनारे बसे गांवों के लोग आशंकित हैं। उन्हें अपनी फसलों व घरों की चिता सताने लगी है। उधर बनबसा बैराज से 1.30 लाख क्यूसिक पानी छोड़ा गया है। शारदा नदी का जलस्तर धीरे धीरे लगातार बढ रहा है। नदी खतरे के निशान से 24 सेमी ऊपर बह रही है। क्षेत्र में अभी बाढ़ का खतरा नहीं है पर प्रशासन ने सभी तैयारियां पूरी कर ली है। क्षेत्र में तीन दिनों से लगातार हुई बरसात के कारण शारदा नदी का जलस्तर खतरे के निशान से ऊपर पहुंच गया है। नदी का जल स्तर इस समय 154.340 सेमी है। जबकि खतरे का निशान 154.100 सेमी है। नदी के किनारे बसे गांव श्री नगर, आजाद नगर बर्बाद नगर, शाहपुर ढ़किया के नजदीक पानी पहुंच गया है, लेकिन अभी न तो फसलों को कोई नुकसान है और न ही गांवों में पानी घुसा है लेकिन, नदी के किनारे बसे गांवों के ग्रामीणों की धड़कन बढ़ गई है। उनको डर सता रहा है कि हर वर्ष की भांति बाढ़ उनका सबकुछ छीन ले जाएगी। उधर स्थानी प्रशासन ने बाढ़ से निपटने की तैयारी पूरी कर ली हैं। बाढ़ केंद्र व चौकियों की स्थापना कर दी गई है। तहसील कंट्रोल रूम बनाकर उसे एक्टिव कर दिया गया है। वहां पर लेखपाल तैनात कर दिए गए हैं। एसडीएम डॉ. अमरेश कुमार ने बताया कि पलिया तहसील में पांच बाढ़ केंद्र बनाए गए हैं। 12 बाढ़ चौकियां बना कर वहां पर लेखपालों तैनाती कर दी गई है। इसके साथ ही बाढ़ प्रभावितों के लिए दो आश्रय स्थल भी बनाए गए हैं। 46 नावें तैयार करा ली गई है। इसके लिए नाविक भी तैनात कर दिए गे है। 29 गोताखोरों की सूची बनाकर उन्हे सतर्क कर दिया गया है कि किसी भी समय उनकी जरुरत पड़ सकती है। उन्होने बताया कि अभी तक किसी गांव में शारदा का पानी नहीं घुसा है और फसलों को भी कोई नुकसान नहीं पहुंचा है। कुछ जगहों पर बरसात का पानी खेतों में जरुर एकत्र हो गया है और उससे थोड़ा बहुत फसल प्रभावित हो सकती है। एसडीएम ने बताया कि शाहपुर ढ़किया में नदी की धारा को सीधा करने के लिए करीब साढ़े पांच किमी. का चैनल बनाया गया है जिससे नदी की धार उसमे बहे और इधर उधर कटान व बाढ़ से राहत मिल सके। इस चैनल के बनने से शाहपुर ढ़किया के साथ इस पार के गांव पतवारा व चौरी चौरा समेत कई गांव बाढ़ से बच सकते हैं। उन्होने बताया कि हर प्रभावित होने वाले अधिकांश गांवों का दौराकर उनकी भौगोलिक जानकारी कर ली गई है ताकि जरुरत पड़ने पर सही तरीके से मदद पहुंचाई जा सके।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.