शावकों की सुरक्षा को जंगल छोड़कर आई दो बाघिन

श्वेतांक शंकर उपाध्याय लखीमपुर जंगल की महारानी यानि बाघिन को बाघ से अपने ही बच्चे की सु

JagranTue, 30 Nov 2021 11:06 PM (IST)
शावकों की सुरक्षा को जंगल छोड़कर आई दो बाघिन

श्वेतांक शंकर उपाध्याय, लखीमपुर: जंगल की महारानी यानि बाघिन को बाघ से अपने ही बच्चे की सुरक्षा भारी पड़ रही है। वह इस समय गन्ने के खेतों में दर-दर भटक रही हैं। उत्तर निघासन रेंज का मझरा पूरब और शारदानगर रेंज का पिपरा मरोड़ा व सांडा इलाका दो बाघिनों का नया ठिकाना बन गया है। अब तक वन विभाग व विशेषज्ञों की कांबिग में दोनों जगहों से एक ही बात सामने है। लगातार निगरानी से यह पता चला है कि बाघिन गन्ने के खेतों में छिपकर सिर्फ अपने बच्चे को बाघ के हमले से बचाना चाहती हैं। किसी पर हमला करने का इरादा नहीं है।

यह सही है कि बाघिनों की मौजूदगी से दोनों क्षेत्रों में ग्रामीण डरे हुए हैं, लेकिन विशेषज्ञों का कहना है कि ग्रामीण बस उनसे दूरी बनाए रहें छेड़छाड़ न करें। अधिकारियों का कहना है कि मझरा पूरब और पिपरा मरोड़ा व सांडा गांव के पास गन्ने में छिपी दोनों बाघिन के साथ उनके एक-एक शावक हैं। मझरा पूरब में बाघिन ने गन्ने में घुस आए ग्रामीण को मारा है। इससे पहले बाघिन ने कोई हमला नहीं किया। वहीं दूसरी ओर पिपरा मरोड़ा गांव के पास बाघिन पिछले एक हफ्ते से गन्ने के खेतों में बसेरा बनाए है। खास बात ये कि सात दिनों तक बाघिन ने बेवजह कोई शिकार नहीं किया। मंगलवार को जब उसे भूख महसूस हुई तो नीलगाय को मारा। बाघिनों के इस रवैए से साफ है कि अगर उनसे छेड़छाड़ न हुई तो वह शावकों के बड़े होने के बाद वापस जंगल चली जाएंगी।

------------------------

50 से ज्यादा गांव प्रभावित

गन्ने के खेतों में बाघिनों व उनके शावकों से दोनों जगहों पर करीब 50 से ज्यादा गांव प्रभावित हैं। मझरा पूरब में कैमरों के साथ पिजरा भी लगवाया गया है। सांडा गांव के पास दो कैमरे लगे हैं। दोनों जगहों पर वन विभाग अलर्ट है। ग्रामीणों से झुंड में रहने, अंधेरे से पहले घर आने और सतर्क रहने की अपील की जा रही है।

------------------------

मझरा में हाथी उतारने पर मंथन

डीडी बफरजोन सुंदरेसा का कहना है कि आबादी इलाके में बाघिनों की मौजूदगी से चुनौती बढ़ गई है। फिलहाल आपरेशन में यह ध्यान दिया जा रहा है कि आबादी और बाघिन में किसी को नुकसान न हो। इएलिए मझरा पूरब में हाथी से कांबिग कराने पर मंथन किया जा रहा है। ग्रामीणों को भी चाहिए कि वह सहयोग करें। जिस गन्ने में बाघिन की मौजूदगी हो, वहां फसल की कटाई न करें।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.