लक्ष्य 2022 के लिए जी जान से जुटें कार्यकर्ता

कुशीनगर में पं. दीनदयाल उपाध्याय की जयंती की पूर्व संध्या पर आयोजित कार्यक्रम में वक्ताओं ने कहा कि विकास के बल पर फिर बनेगी भाजपा की पूर्ण बहुमत की सरकार सबका साथ सबका विकास के आधार पर हो रहा विकास कार्य।

JagranSat, 25 Sep 2021 12:39 AM (IST)
लक्ष्य 2022 के लिए जी जान से जुटें कार्यकर्ता

कुशीनगर : पडरौना में केन यूनियन के चेयरमैन मृत्युंजय मिश्र ने कहा कि लक्ष्य 2022 के लिए कार्यकर्ता अभी से जी जान से जुट जाएं। योगी सरकार सबका साथ सबका विकास के आधार पर कार्य कर रही है। विकास कार्यों के बल पर फिर से प्रदेश में भाजपा की पूर्ण बहुमत की सरकार बनेगी।

वह पं. दीन दयाल उपाध्याय की जयंती की पूर्व संध्या पर नगर स्थित कैंप कार्यालय में आयोजित बूथ समिति एवं पन्ना प्रमुखों की बैठक को संबोधित कर रहे थे।बैठक को सेक्टर संयोजक कीर्तन तिवारी, पिछड़ा मोर्चा नगर मंडल अध्यक्ष मनीष जायसवाल, सुनील दीक्षित आदि ने भी संबोधित किया। विकास दीक्षित, प्रमोद साहा, गिरीश चंद्र चतुर्वेदी, धीरज पाठक, नवनीत तिवारी आदि मौजूद रहे।

2837 बूथों पर मनाई पं. दीनदयाल उपाध्याय की जयंती

भारतीय जनता पार्टी के मार्गदर्शक पं. दीनदयाल उपाध्याय की 105 वीं जयंती की पूर्व संध्या पर कार्यकर्ताओं ने जिले के सभी 2837 बूथों पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इसमें शक्ति केंद्र प्रमुख, मंडल अध्यक्ष, बूथ अध्यक्ष समेत सभी पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं ने उन्हें श्रद्धा सुमन अर्पित किया।

तमकुहीराज विधानसभा क्षेत्र के बूथ संख्या 401 मठिया श्रीराम में आयोजित कार्यक्रम में जिलाध्यक्ष प्रेमचंद मिश्र ने पंडित दीनदयाल उपाध्याय के चित्र पर फूल चढ़ाया। कहा कि वह दीनदयाल एकात्म मानववाद के पोषक व महान चितक थे। वह कहते थे कि मैं राजनीति के लिए राजनीति में नहीं हूं, राजनीति में संस्कृति का दूत हूं। वह भारत को सामाजिक, राजनीतिक, आर्थिक, शैक्षिक क्षेत्रों में बुलंदियों पर देखना चाहते थे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इन्हीं विचारों को आत्मसात कर देश के अंतिम पायदान पर खड़े प्रत्येक व्यक्ति का जीवन स्तर सुधारने और देश को परम वैभव पर पहुंचाने के लिए संकल्पित हैं। जिला मीडिया प्रभारी विश्वरंजन कुमार आनंद ने बताया कि दीनदयाल उपाध्याय का जन्म 25 सितंबर 1914 को मथुरा जिले के नगला चंद्रभान गांव में हुआ था। छात्र जीवन में आरएसएस के संपर्क में आए और प्रचारक बन गए। जनसंघ की स्थापना के बाद डा. श्यामा प्रसाद मुखर्जी के साथ मिलकर कार्य करने लगे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.