दिल्ली

उत्तर प्रदेश

पंजाब

बिहार

उत्तराखंड

हरियाणा

झारखण्ड

राजस्थान

जम्मू-कश्मीर

हिमाचल प्रदेश

पश्चिम बंगाल

ओडिशा

महाराष्ट्र

गुजरात

कामचोरी की बात सामने आई तो होगी बर्खास्तगी

कामचोरी की बात सामने आई तो होगी बर्खास्तगी

कुशीनगर के जिलाधिकारी ने समीक्षा बैठक में कहा कि कांटेक्ट ट्रेसिग में गलत आंकड़ों की फीडिग बर्दाश्त नहीं लापरवाह कर्मचारियों का वेतन काटने के दिए निर्देश।

JagranTue, 18 May 2021 11:19 PM (IST)

कुशीनगर : विकास भवन स्थित इंटीग्रेटेड कोविड कमांड एंड कंट्रोल रूम में मंगलवार को हुई समीक्षा बैठक में डीएम एस राजलिगम ने सख्ता लहजा अपनाया और कहा कि किसी भी कर्मचारी की कामचोरी की बात सामने आई तो बर्खास्तगी की कार्रवाई की जाएगी।

जिलाधिकारी ने कांटेक्ट ट्रेसिग में गलत आंकड़ों की फीडिग को लेकर संबंधित कर्मचारियों को फटकार लगाई और कहा कि इस प्रकार की अनियमितता एक प्रकार की चोरी है। इसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। पुन: इस प्रकार की शिकायत मिली तो बर्खास्तगी की कार्यवाही की जाएगी। कुछ केंद्रों पर कांटेक्ट ट्रेसिग शून्य रहने पर भी फटकार लगाई। डीएम ने यहां तक कहा कि यदि काम नहीं करना चाहते हैं तो नौकरी छोड़ दें। इस दौरान अनुपस्थित रहने या कार्य में अनियमितता बरतने वालों का वेतन काटने तथा स्पष्टीकरण देने का आदेश डीएम ने दिया।

नगरपालिका एवं नगर पंचायत के अधिशासी अधिकारियों को सफाई, सैनिटाइजेशन के निर्देश दिए। व्यापक प्रचार प्रसार हेतु पंफलेट, बैनर के माध्यम से लोगों को जागरूक करने को भी कहा गया ताकि संक्रमण को प्रभावी ढंग से रोका जा सका। डीएम ने कहा कि जांच की सारी सुविधाएं जिला अस्पताल में होनी चाहिए। लोगों को कहीं और इसके लिए न जाना पड़े। मुख्य विकास अधिकारी अनुज मलिक, अपर पुलिस अधीक्षक एपी सिंह, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. नरेन्द्र गुप्ता, प्रभारी अपर जिलाधिकारी रामकेश यादव सहित आदि उपस्थित रहे।

गांवों में संक्रमण रोकने को उठाए गए प्रभावी कदम

मंगलवार को कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित प्रेस वार्ता में नोडल अधिकारी पनधारी यादव व डीएम एस राजलिगम ने संयुक्त रूप से कहा कि गांवों में कोरोना संक्रमण पर रोक लगाने को लेकर प्रभावी कदम उठाए गए हैं। निगरानी समितियां पूरी मुस्तैदी से कार्य कर रही हैं। लोगों को जागरूक करने के साथ जांच व दवा की सुविधा दी जा रही है। इस दौरान अधिकारियों ने प्रशासन के कोविड प्रबंधन को लेकर मीडिया कर्मियों से भी फीडबैक लिया।

ग्रामीण क्षेत्र में तेजी से कोरोना संक्रमण के फैलते सवाल पर अधिकारियों ने कहा कि आशा के माध्यम से सूचनाएं एकत्र की जा रही हैं। पांच मई से नौ मई तक डोर टू डोर सर्वे कार्यक्रम चला था। लक्षणयुक्त या संदिग्ध को मेडिकल किट उपलब्ध करवाए जा रहे हैं। इस दौरान जिलाधिकारी ने यह भी बताया कि सेवरही एवं सपहा में आक्सीजन प्लांट लगाया जा रहा है। जनपद में पर्याप्त मात्रा में आक्सीजन की उपलब्धता है। तीसरी लहर एवं बच्चों में संक्रमण के सवाल पर उन्होंने कहा कि आरटीपीसीआर लैब जल्द शुरू होगा। कुछ दिनों में उसे फंक्शनल भी करवा लिया जाएगा। तीसरी लहर की चुनौती का सामना करने की तैयारियां चल रही हैं। नोडल अधिकारी ने बताया कि मैंने कुछ ग्रामीण क्षेत्रों का दौरा किया। गांवों में निगरानी समितियां बनी हैं। आशा एवं आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा गांवों में विजिट कर संदिग्धों को चिन्हित किया जाता है तथा आरआर टीम सभी के जांच करती है। जिलाधिकारी ने बताया कि टीका सुरक्षित है। कुछ लोग संक्रमित हुए हैं, लेकिन इसका सिर्फ माइल्ड इफेक्ट ही होता है। जिला अस्पताल के 13 सचल दल वाहनों के सक्रिय करने के सवाल पर कहा कि अनुमति आ गई है एवं वाहनों को ठीक कराने का काम चल रहा है। जल्द ही इसे सक्रिय कर दिया जाएगा।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.