संगीतमय राम बरात में जमकर झूमे शहजादपुरवासी

संगीतमय राम बरात में जमकर झूमे शहजादपुरवासी
Publish Date:Fri, 23 Oct 2020 12:41 AM (IST) Author: Jagran

संवाद सूत्र, टेंढ़ीमोड़ : पुरुषोत्तम श्रीराम और माता सीता का विवाहोत्सव शहजादपुर गांव में प्राचीन श्रीराम लीला कमेटी के सौजन्य से मनाया गया। सभी नेगचार के साथ शहजादपुर रामलीला भवन से हनुमान घाट तक डीजे की धुन में भव्य संगीतमय बरात निकाली।

बुधवार की शाम शहजादपुर के हनुमान घाट में पारंपरिक तरीके से ग्रामीण कलाकरों के अभिनय के माध्यम से दशरथ के चारो पुत्रों राम, लक्ष्मण, भरत, शत्रुघन के विवाह की लीला का मंचन किया गया। राम विवाह मंचन के बाद चारों बहनों की विदाई की लीला भी बहुत भावुक रही। राम विवाह के अवसर पर मंडप पूजन के क्रम में श्री गणेश पूजन, कलश पूजन, दूल्हा सरकार तेल, उपटन, बुलउवा, द्वारचार, मंगलगीत, विवाह और विदाई जैसी मुख्य रश्म निभाई गई, जिसे देख हनुमान घाट पर उपस्थित दर्शक भावविभोर हो उठे। कार्यक्रम के अंत मे प्राचीन श्रीराम लीला कमेटी शहजादपुर के अध्यक्ष रामप्रकाश त्रिपाठी ने शहजादपुर सहित सभी क्षेत्रवासियों से शेष सीताहरण की लीला से राजतिलक तक के कार्यक्रम में कोविड-19 की गाइडलाइन के अनुसार व कोरोना से बचाव हेतु दो गज की शारीरिक दूरी के नियमों का पालन करते हुए मेले में आने व रामलीला का आनंद लेने की अपील की। शिव धनुष टूटते ही सीता ने राम के गले डाली दी जयमाला

संसू नारा : सिराथू विकास खंड क्षेत्र के नारा बाजार में आयोजित होने वाली रामलीला की शुरुआत गुरुवार को मुकुट पूजन के साथ शुरु हुई। इसमें पहले धनुष यज्ञ, सीता स्वयंवर, परशुराम लक्ष्मण संवाद का मंचन किया गया।

नारा बाजार में रामलीला की शुरुआत नवरात्रि की षष्ठी तिथि से होती है। गुरुवार को रामलीला की शुरुआत होने से पहले रामलीला कमेटी के अध्यक्ष अमन त्रिपाठी ने विधि विधान से वैदिक मंत्रोच्चार की ध्वनि के साथ मुकुट पूजन किया। महाराज जनक द्वारा की गई प्रतिज्ञा के अनुसार शिव धनुष उठाने वाले के साथ सीता का विवाह किया जाएगा। इसके लिए रंगशाला में धनुष यज्ञ का आयोजन किया गया। इसमें बड़ी दूर-दूर से आए राजा महराजा पहुंचे। यज्ञशाला में राम और लक्ष्मण गुरु विश्वामित्र के साथ पहुंचे। इस दौरान मौजूद सभी राजाओं ने धनुष उठाने का प्रयास किया, लेकिन हिला भी न सके। मुनिवर विश्वामित्र की आज्ञा पाकर राम ने शिव धनुष उठाया। इस दौरान वह टूट गया। इसके बाद जगत जननी मां सीता ने भगवान राम के गले में जयमाला डाल दी। इसके बाद विवाह कार्यक्रम हुआ। सीता विवाह का प्रसंग देख कर बैठे दर्शक भाव विभोर हो गए।परशुराम लक्ष्मण संवाद का मंचन हुआ। मेला व रामलीला कार्यक्रम स्थगित

संसू, बारा : कौशांबी विकास खंड क्षेत्र के बाबा का पूरा गांव स्थित प्राचीन कुटी के राम-जानकी मंदिर में इस बार कोरोना संक्रमण को देखते हुए रामलीला व मेला कार्यक्रम स्थगित कर दिया है। यह जानकारी देते हुए कुटी के महंगत श्रीश्री 1008 बाबा जय रामदास जी महाराज ने बताया कि दशहरा मेला को भी टाल दिया गया है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.