top menutop menutop menu

पुत्र को बिना मास्क रोका तो भड़के विधायक

कासगंज, जागरण संवाददाता: बिना मास्क कार लेकर गुजर रहे विधायक के पुत्र को रोकने पर सदर विधायक भड़क उठे। सीओ और विधायक के बीच कहासुनी हुई तो सीओ ने वाहन चेकिग बंद करा दी। यह मामला शहर में चर्चा का विषय बना हुआ है। इसके फोटो और वीडियो भी वायरल हुए हैं।

रविवार को दोपहर लगभग 12 बजे सदर विधायक देवेंद्र राजपूत के पुत्र यशवीर सिंह राजपूत अपने दो साथियों के साथ कार से विकासखंड कार्यालय जा रहे थे। सोरों गेट चौकी पर सीओ के नेतृत्व में वाहन चेकिग अभियान चल रहा था। पुलिस ऑफिस के इंस्पेक्टर रणजीत सिंह ने चेकिग के लिए विधायक पुत्र की गाड़ी को भी रोक लिया और उनसे मास्क न लगाने पर जुर्माना देने की बात कही। इसी बात को लेकर विधायक पुत्र ने अपना परिचय दिया तो इंस्पेक्टर ने सीओ सदर आरके तिवारी से बात करने कहा जो मौके पर मौजूद थे। पुत्र ने सीओ से बात न कर पिता को फोन लगा दिया। विधायक देवेंद्र राजपूत कुछ ही देर में वहां पहुंच गए और फिर पुत्र को रोके जाने को लेकर उन्होंने आक्रोश जताया। सीओ ने नियमानुसार चालान की बात कही तो वह उखड़ गए। दोनों के बीच कहासुनी हो गई। सीओ ने तत्काल वाहन चेकिग बंद करा दी। सीओ और विधायक फिर वहां से चले गए।

-----------------------

पुत्र को विधायक समझ किया नमस्कार

जब इंस्पेक्टर रणजीत सिंह ने विधायक लिखे वाहन को रोका तो उसमें से विधायक पुत्र यशवीर सिंह गाड़ी से उतरे तो इंस्पेक्टर ने हाथ जोड़कर विधायक जी कहकर उनका अभिवादन किया और पूछा कि आप ही विधायक हैं। यह वीडियो जब वायरल हुआ तो शहर भर में चर्चा रही।

----------------

- शायद विधायक को वाहन चेकिग रास नहीं आई। उनके पुत्र से सिर्फ नियमानुसार जुर्माना भरने को कहा गया था। इसी बात को लेकर विधायक नाराज हुए हैं। वाहन चेकिग को तेज धूप के कारण स्थगित कर दिया गया था। आरके तिवारी, सीओ

------------------

- पुत्र पर मास्क था। वाहन चलाते समय मास्क लगाना नियम में नहीं है। पुलिस चेकिग के दौरान पारदर्शिता नहीं बरतती है। कुछ वाहनों को पकड़ चालान करती है तो कुछ को छोड़ देती है। दोष पूर्ण चेकिग का विरोध था। कोई भी अनर्गल बात नहीं हुई है। - देवेंद्र राजपूत, सदर विधायक

---------------------

यह मामला संज्ञान में नहीं आया है। सीओ सदर से बात कर मामले की जानकारी लेंगे। वैसे यदि जुर्माने की बात थी तो विधायक पुत्र को भुगतना चाहिए। - सुशील घुले, एसपी

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.