पुलिस की पाबंदियों के बावजूद भी घाटों तक पहुंचे श्रद्धालु

कासगंज संवाद सहयोगी रविवार को पतित पावनी माता गंगा के अवतरण दिवस गंगा दशहरा पर पुलिस के लाख पहरे के बावजूद भी बड़ी संख्या में श्रद्धालु गंगा के घाटों तक पहुंचे।

JagranPublish:Mon, 21 Jun 2021 05:46 AM (IST) Updated:Mon, 21 Jun 2021 05:46 AM (IST)
पुलिस की पाबंदियों के बावजूद भी घाटों तक पहुंचे श्रद्धालु
पुलिस की पाबंदियों के बावजूद भी घाटों तक पहुंचे श्रद्धालु

कासगंज, संवाद सहयोगी : रविवार को पतित पावनी माता गंगा के अवतरण दिवस गंगा दशहरा पर पुलिस के लाख पहरे के बावजूद भी बड़ी संख्या में श्रद्धालु गंगा के घाटों तक पहुंचे। गंगा स्नान कर गंगा मां का दुग्धाभिषेक किया। जरूरतमंदों को दान दिया। कुष्ठ रोगियों को भोजन कराया। हालांकि, पुलिस का सख्ती के चलते पिछले सालों की तुलना में घाटों पर भीड़ कम रही।

धार्मिक मान्यता के अनुसार ज्येष्ठ माह के शुक्ल पक्ष की दशमी को धरती पर मां गंगा का अवतरण हुआ था। मान्यता है कि इस दिन गंगा में स्नान करने से जन्म-जन्मांतर के पापों से मुक्ति मिलती है, लेकिन इस वर्ष कोरोना संक्रमण के चलते गंगा मां के भक्तों पर पुलिस का पहरा रहा। जिले में गंगा स्नान पर रोक लगी थी, लिहाजा घाटों पर भी पुलिस तैनात थी, लेकिन गंगा मैया के भक्त कई किलोमीटर पैदल चले और खेतों और गांवों के रास्तों से सोरों की हरिपदी गंगा, लहरा गंगा घाट, कादरगंज घाट एवं कछला गंगा घाट पर पहुंचे। पुलिस की सख्ती के कारण बहुत से श्रद्धालु घाटों तक नहीं पहुंच सके और बिना गंगा स्नान किए लौटे। सीमाओं पर ही रोके गए वाहन

जिले से लगी बदायूं, अलीगढ़, हाथरस, एटा फर्रुखाबाद जिले की सीमाओं पर शनिवार रात से ही पुलिस का पहरा लगा था। बाहर से आने वाले वाहनों की चेकिग की जा रही थी, वहीं स्नानार्थियों के वाहनों को सीमाओं से लौटाया गया। पुलिस की इस कार्रवाई से अन्य जरूरी कार्यों से आने-जाने वाले चार पहिया वाहन चालकों एवं यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ा। अधिकारी करते रहे निगरानी

स्नानार्थी गंगा घाट तक न पहुंचें और भीड़ न लगे इसके लिए सीमाओं पर पुलिस पिकेट लगाई थी। वहीं, एडीएम एके श्रीवास्तव, एसडीएम ललित कुमार, सीओ सिटी आरके तिवारी एवं सहावर शहबाजपुर घाट पर एसडीएम शिवकुमार सिंह, सीओ शैलेंद्र सिंह परिहार, इंस्पेक्टर राजेश मीणा एवं पटियाली के कादरगंज गंगा घाट पर एसडीएम रवेंद्र कुमार, सीओ डीके पंत निगरानी करते रहे। नहर में ही स्नान कर लौटे श्रद्धालु

जब पुलिस की सख्ती के चलते राजस्थान, मध्यप्रदेश एवं अन्य जिलों के श्रद्धालु गंगा घाट तक न पहुंच सके तो उन्होंने हजारा नहर एवं गोरहा पर ही रुक कर स्नान किया। फीरोजाबाद के नारखी निवासी नरेश ने पुलिस की व्यवस्था पर आक्रोश व्यक्त किया। उसका कहना था कि जब हर जगह भीड़ जा रही है तो गंगा स्नान पर ही रोक क्यों। तमाम श्रद्धालु 15 किलोमीटर पैदल चलकर पहुंचे घाट

कासगंज की ओर से लहरा गंगा घाट जा रहे स्नानार्थियों को यातायात पुलिस ने गोरहा नहर से पहले ही रोक दिया था, लेकिन गंगा मैया के भक्तों ने बारिश में भीगते हुए गोरहा से लहरा तक 15 किलोमीटर की यात्रा पैदल की और घाट पर पहुंचकर गंगा में स्नान किया। गंगा में डूबा युवक लापता

बिसौली के गांव मिठामई निवासी 20 वर्षीय मार्ग चंद्र पुत्र राजेश कुमार परिवार के साथ गंगा स्नान के लिए कछला गंगा घाट के निकट बहोरा नगला पर आया था। जब सभी स्वजन स्नान कर रहे थे कि तभी मार्ग चंद्र गहरे पानी में चला गया और डूब गया। काफी प्रयास के बावजूद भी उसका गंगा में कोई पता नहीं चलौ। ग्रामीण गोताखोर युवक को गंगा में खोज रहे हैं।