एक घंटे ट्राला में फंसकर चालक व क्लीनर की अटकी रही सांस

एक घंटे ट्राला में फंसकर चालक व क्लीनर की अटकी रही सांस
Publish Date:Thu, 29 Oct 2020 09:52 PM (IST) Author: Jagran

जागरण संवाददाता, कानपुर देहात : झांसी से गोरखपुर गिट्टी लेकर जा रहा ट्राला हाईवे पर पहले से खराब ट्राला से टकरा गया। इससे पीछे ट्राला सवार चालक व क्लीनर केबिन में बुरी तरह से फंस गए और जीवन व मौत के लिए संघर्ष करते रहे। दमकल व पुलिस ने करीब एक घंटे की मशक्कत के बाद सरिया व कटर की मदद से दोनों को निकालकर उनकी जान बचाई। इस दौरान ग्रामीणों की भीड़ लगी रही।

महाराजगंज निवासी चालक देवव्रत उर्फ भरत गोरखपुर निवासी कंडक्टर सुरेंद्र के साथ झांसी से ट्राला में गिट्टी लादकर गोरखपुर जा रहा था। बुधवार देररात हाईवे पर माती गांव के पास पहले से खराब खड़े ट्राला से तेज रफ्तार उनका ट्राला टकरा गया। टक्कर इतनी तेज थी कि उनके वाहन की केबिन अंदर धंस गई तो देवव्रत व सुरेंद्र उसके अंदर फंस गए और बुरी तरह से घायल हो गए। घटना रात की होने के कारण सन्नाटे में दुर्घटना को कोई समझ नहीं सका घायल चालक और कंडक्टर केबिन में फंसे करीब आधे घंटे तड़पते रहे। उनकी चीखपुकार पैदल गुजर रहे व्यक्ति ने सुनी तो पास गया और आसपास लोगों को जानकारी दी। जानकारी मिलते ही मौके पर भीड़ लग गई। पीआरवी, लालपुर चौकी प्रभारी अरुण द्विवेदी, फायर ब्रिगेड टीम ने ग्रामीणों की मदद से कंडक्टर बाहर निकालकर जिला अस्पताल भेजने के साथ स्टेयरिग में बुरी तरह से फंसे चालक को निकालने की जद्दोजहद शुरू की। करीब एक घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद चालक को बाहर निकाला और आनन-फानन जिला अस्पताल पहुंचाया। आग लगने की आशंका पर मंगाई दमकल

करीब एक घंटे तक फंसे रहने के दौरान डर था कि कहीं ट्राला में आग न लग जाए। इसके चलते दमकल को मंगाया गया साथ ही एनएचएआइ की क्रेन मंगाई गई। क्रेन आने में देरी होने पर पुलिस ने जेसीबी मंगाई और दोनों ट्राला को हटाने की कोशिश की मगर ट्राला और गिट्टी का वजन अधिक होने के कारण जेसीबी उन्हें हटाना तो दूर हिला तक नहीं सकी। गनीमत रही कि सूझबूझ से चालक को बाहर निकाल लिया गया नहीं जान जा सकती थी।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.