कन्नौज: जीका वायरस का मरीज हुआ स्वस्थ, 307 के लिए सैंपल, 100 शैया अस्पताल में बना आइसोलेशन वार्ड

कानपुर के बाद कन्नौज में भी जीका वायरस का एक मरीज मिला था। सोमवार को मरीज की रिपार्ट निगेटिव आई है। स्वास्थ्य विभाग ने सतर्कता दिखाते हुए 13 गांवों में 2851 घरों को सर्वे किया है और 307 सैंपल लिए गए।

Abhishek AgnihotriMon, 15 Nov 2021 06:37 PM (IST)
शासन के निर्देश पर 100 शैया अस्पताल में आइसोलेशन वार्ड तैयार किया गया है।

कन्नौज, जागरण संवाददाता। कपूरापुर गांव में जीका वायरस का मरीज मिला था। सोमवार को फालोअप रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद युवक पूरी तरह स्वस्थ हो चुका है। कपूरापुर समेत 13 गांवों से 307 सैंपल लिए गए थे। इसमें 251 की रिपोर्ट निगेटिव आई है। 56 मरीजों की रिपोर्ट आनी है। 

सीएमओ डाक्टर विनोद कुमार ने बताया कि सदर ब्लाक के कपूरापुर गांव में एक युवक जीका वायरस की चपेट में आ गया था। स्वास्थ्य टीम ने दोबारा सैंपल लेकर लखनऊ भेजा था। फालोअप रिपोर्ट में युवक निगेटिव पाया गया। युवक अब पूरी तरह स्वस्थ हो गया है। 13 गांवों में 2851 घरों का सर्वे किया गया था। कपूरापुर, उदैतापुर, दंदौराखुर्द, दंदौराबुजुर्ग, लीलापुर्वा, मोचीपुर, गुखरू, पट्टी, मधुपुर, उग्गापुर्वा, पहलवागंज, शिखवापुर व मकदूमापुर में 307 मरीजों का सैंपल लिया गया था। इसमें 62 गर्भवती भी शामिल थीं। 251 मरीजों की रिपोर्ट निगेटिव पायी गई। 56 लोगों की रिपोर्ट बाकी है। इसमें 10 लक्षण विहीन है। इन गांवों में स्वास्थ्य टीम व मलेरिया विभाग की टीम रोजाना काम कर रही है। सैंपल व सफाई के लिए जागरूक कर रहे है।

100 शैया अस्पताल में बनाया गया आइसोलेशन वार्ड

जीका वायरस पर पूरी तरह से रोकथाम करने के लिए स्वास्थ्य महकमा सतर्क है। शासन के निर्देश पर सोमवार को नगला दिलू स्थित 100 शैया अस्पताल में पहली मंजिल पर आइसोलेशन वार्ड तैयार किया गया। इसमें छह बेड पर साफ-सुथरे चादर बिछाए गए। इन पर मच्छरदानी  का इंतजाम भी किया गया। पहले यह कक्ष डेंगू के मरीजों के लिए रिजर्व था। वही नोडल अधिकारी ध्यानेंद्र सचान की देखरेख में मरीजों का उपचार होगा। संदेहजनक मरीजों को आइसोलेटेड किया जाएगा। ब्लड व यूरीन के नमूने कानपुर स्थित मेडिकल कालेज में जांच को भेजे जाएंगे। मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने तैयारियों का निरीक्षण किया। आइसोलेशन वार्ड के आसपास साफ-सफाई बेहतर रखने के निर्देश दिए। सीएमएस डा. राजेश कुमार तिवारी ने बताया कि छह बेड पर सभी व्यवस्थाएं दुरुस्त करवा दी गई हैं। मच्छरों के काटने से ये रोग फैलता है। इसलिए मच्छरदानी के इंतजाम भी कराए गए हैं। प्रत्येक बेड पर आक्सीजन सप्लाई का इंतजाम किया गया है। वही साफ सफाई बेहतर रखने को कहा गया है। संदेहजनक मरीज को भर्ती किया जाएगा। 

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.