UPSC 2020 Topper: अरे सुनती हो.. कलेक्टर बनकर देश में चमकी है अपनी ‘जागू’, फतेहपुर के घर में मना जश्न

यूपीएसएसी की सिविल सेवा परीक्षा में महिला वर्ग की टॉपर मूलरूप से फतेहुपर की जागृति अवस्थी के पैतृक गांव नसेनिया में जश्न का माहौल बन गया। ताऊ व चाचा के घर में लोगों की बधाइयों का तांता और मुंह मीठा कराने का सिलसिला जारी है।

Abhishek AgnihotriSat, 25 Sep 2021 10:49 AM (IST)
फतेहपुर के नसेनिया गांव में खुशी का माहौल।

फतेहपुर, जेएनएन। अरे सुनती हो, कलेक्टर बनकर अपनी जागू पूरे देश में चमकी है। शुक्रवार शाम साढ़े पांच जब जागू के आइएएस बनने की खबर उनके ताऊ को मिली तो उनके मुंह से ये बोल फूटे। इसके कुछ देर बाद ही यूपीएसएसी की सिविल सेवा परीक्षा महिला वर्ग में देश की टॉपर जागृति अवस्थी की सफलता पर नसेनिया गांव का हर कोना झूम उठा। लोग उनके घर की ओर दौड़ पड़े, परिजनों को हर कोई बधाई देता दिखाई पड़ा और एक दूसरे का मुंह मीठा करने की होड़ लग गई। कोई जागृति के पिता की यादें ताजा करने लगा तो कुछ लोग बिटिया के बचपन से लेकर अबतक की मेधा की चर्चाओं में मश्गूल हो गए। जिले भर में अलग अलग जगहों पर रिश्तेदारों और परिचितों में भी जश्न का माहौल बना रहा।

संघ लोक सेवा आयोग यूपीएसएसी की सिविल सेवा परीक्षा में महिला वर्ग की टॉपर और ओवरआल रैकिंग में दूसरे नंबर पर रहीं जागृति अवस्थी के पिता इंटरमीडिएट पास करने के बाद बैचलर्स ऑफ होमियोपैथी मेडिकलक एंड सर्जरी की पढ़ाई के लिए मध्य प्रदेश के छतरपुर चले गए थे। वहां पढ़ाई पूरी करने के बाद वह भोपाल के मेडिकल कालेज में बतौर प्रोफेसर तैनात हैं। खजुहा-अमौली रोड स्थित अमौली ब्लाक के नसेनियां गांव के स्व. महावीर प्रसाद अवस्थी बिंदकी के नेहरू इंटर कालेज में शिक्षक थे। इनके चार बेटों में बड़े योगेश चंद्र अवस्थी भरसवां इंटर कालेज में प्रवक्ता रहे, दूसरे केशव चंद अवस्थी जीआइसी प्रयागराज में प्रवक्ता के पद से सेवानिवृत्त हो चुके हैं। तीसरे बेटे डा. सुरेशचंद्र अवस्थी होमयोपैथी मेडिकल कालेज भोपाल में प्रोफेसर हैं, जबकि सबसे छोटे अवधेश अवस्थी नसेनिया गांव में तीन बार प्रधान रह चुके हैँ। डा. सुरेश चंद्र अवस्थी जागृति के पिता हैं, जागृति को प्यार से घर के लोग जागू के नाम से बुलाते हैं। जागृति की मां मधुबाला अवस्थी महिर्षि विद्या मंदिर सीनियर सेकेंडरी स्कूल छतरपुर में खेल शिक्षिका रह चुकी हैं। इसके बाद परिवार भोपाल में शिफ्ट हो गया। दंपती की संतानों में जागृति सबसे बड़ी हैं, जबकि बेटा सुयश अवस्थी ने नीट पास किया है और एमबीबीएस कर रहे हैं।

जागृति ने बताया कि 2017 में मौलाना आजाद नेशनल इंस्ट्टीयूट ऑफ टेक्नालाजी से बीटेक किया, इसके बाद बीएचईएल में बतौर इंजीनियर ज्वाइनिंग की। आइएएस की तैयारी के लिए वह दिल्ली गई, लेकिन तीन माह की तैयारी के दौरान कोरोना संक्रमण शुरू हो गया। इससे उन्हें भोपाल लौटना पड़ा, फिर आनलाइन पढ़ाई करके इस मुकाम को हासिल किया। चचेरे भाई प्रशांत अवस्थी व बहन एकता अवस्थी ने कहा कि जागू की सफलता पर सभी को फख्र है। मौसेरे भाई शिक्षक आदित्य पांडेय ने बताया कि जागृति ने जिले का नाम राेशन किया है और इस उपलब्धि से जिले के लोगों का सिर गर्व से ऊंचा हो गया है। चार हजार की आबादी वाले नसेनिया गांव में जागू को बधाई देने के लिए उसके चाचा पूर्व प्रधान अवधेश के घर पर मेला लगा रहा। रात में दिन जैसा माहौल बन गया। चाची वीणा पाणि अवस्थी, भाई हिमांशु, प्रज्ञांशु ने घर आए सभी लोगों का मुंह मीठा कराया। वर्तमान में फतेहपुर शहर के जयराम नगर में रह रहे सेवानिवृत्त प्रवक्ता ताऊ योगेश चंद्र अवस्थी के आवास पर बधाई देने लोग रात तक पहुंचते रहे, उन्होंने बताया कि जागृति शुरू से ही मेधावी थी।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.