भाजपा नेता को झांसा देकर हड़पी रकम, रिश्तेदार ने ताना तमंचा

मेरठ की भाजपा नेता पूजा बंसल से हुई लाखों रुपये की ठगी।

JagranSat, 24 Jul 2021 01:52 AM (IST)
भाजपा नेता को झांसा देकर हड़पी रकम, रिश्तेदार ने ताना तमंचा

जागरण संवाददाता, कानपुर : मेरठ की भाजपा नेता पूजा बंसल को पार्टी में ऊंचा पद, उनके पति को ओडिशा में तेल का काम कराने और सरकारी ठेके दिलाने का झांसा देकर सचेंडी के इटारा गांव के शातिर ने लाखों रुपये हड़प लिए। यही नहीं, जब वह आरोपित के घर पैसे वापस मांगने आई तो उसके एक रिश्तेदार ने तमंचा तानकर जान से मारने की धमकी दी। पुलिस ने आरोपित को पकड़ने के बावजूद छोड़ दिया। शुक्रवार को उन्होंने प्रेसवार्ता में यह जानकारी दी। उन्होंने एसपी आउटर से शिकायत करके कार्रवाई की मांग की है।

भाजपा महिला मोर्चा की पिछले वर्ष कार्यकारिणी सदस्य रहीं पूजा बंसल ने बताया कि सचेंडी निवासी एक शख्स से उनकी मुलाकात वर्ष 2015 में भाजपा के राष्ट्रीय कार्यालय में हुई थी। उससे फोन पर बातचीत होने लगी। एक बार वह मेरठ आया तो वहां के डीएम ने आरोपित के पैर छुए थे। 2019-20 में आरोपित ने भाजपा में उच्च पद दिलाने के नाम पर 25 लाख रुपये ले लिए थे। कहा था कि वह कपड़ा कारोबारी पति सचिन बंसल को सरकारी ठेके दिलाएगा। आरोपित ने खुद को राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ का राष्ट्रीय स्तर का पदाधिकारी बताया था। समय बीत जाने के बाद भी जब आरोपित ने वादा पूरा नहीं किया तो रकम वापस मांगी। इस पर उन्हें टरकाने लगा। पता चला कि वह जालसाज है। 40 से ज्यादा कार्यकताओं से रकम हड़प चुका है। मंगलवार को पूजा अपने पति व सहयोगियों के साथ आरोपित के घर पहुंचीं। आरोप है कि उन्हें देख आरोपित के घरवालों ने उसे भगा दिया। उसकी पत्नी ने दरवाजा भी नहीं खोला। आरोपित के एक रिश्तेदार ने साथियों के साथ आकर अभद्रता की और तमंचा तानकर जान से मारने की धमकी दी। ग्रामीण आए तो आरोपित भाग निकला। इसके बाद पुलिस पहुंची और तमंचा तानने वाले को थाने लाई। आरोप है कि कुछ देर बाद आरोपित को पुलिस ने छोड़ दिया। तब उन्होंने एसपी आउटर अष्टभुजा प्रसाद सिंह से शिकायत की, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। राम मंदिर निर्माण के नाम पर भी ले चुका है रकम

पूजा ने बताया कि आरोपित ने उनसे कहा था कि वह जल्द ही पार्टी में प्रदेश संगठन मंत्री व राष्ट्रीय सहसंगठन मंत्री बनने वाला है। इसके बाद वह किसी को भी भाजपा में उच्च पद दिला देगा। कहा कि अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए चंदा एकत्रित करने की जिम्मेदारी उसे ही सौंपी गई है। इसके बाद आरोपित ने राम मंदिर निर्माण, पार्टी फंड व आरएसएस के कल्याणार्थ के नाम पर करोड़ों रुपये हड़पे। सरकारी विभाग में नौकरी दिलाने का झांसा देकर एक अधिवक्ता संजीता सिंह से पांच लाख रुपये, दीप गुप्ता से 10 लाख और प्रमोद कुमार से पांच लाख रुपये लिए थे। घर में मिले लेटरहेड, पत्नी ने दिखाई रजिस्ट्री

पुलिस आरोपित के घर पहुंची तो वहां भाजपा के साथ ही बसपा के भी लेटरहेड मिले। पार्टी सदस्यता की रसीदें भी बोरियों में भरी मिलीं। आरोपित की पत्नी व भाई ने घर में पैसे न होने की बात कही और 25 जमीनों की रजिस्ट्री व इकरारनामा दिखाते हुए कहा कि इन्हें बेचकर रकम लौटाएंगी। पीड़िता ने आरोपित की संपत्तियों की जांच कराने की भी मांग की है। पूजा के मुताबिक, ग्राम प्रधान सुमित शुक्ला ने भी बताया है कि आरोपित एक नटवरलाल है। वह गांव के लोगों से नौकरी दिलाने व एडमिशन के नाम पर भी लाखों रुपये वसूल चुका है। बोले भाजपा पदाधिकारी

प्रदेश महिला मोर्चा की उपाध्यक्ष रीता शास्त्री ने कहा कि उन्हें भी कई वर्ष पूर्व आरोपित ने पद दिलाने का प्रलोभन दिया था। जब उन्होंने और पदाधिकारियों से पूछताछ की तो पता चला कि वह धोखेबाज है। आरएसएस के प्रांत प्रचार प्रमुख डा. अनुपम ने कहा कि वह आरोपित को नहीं जानते हैं। संघ किसी भी संगठन में किसी भी व्यक्ति को कोई भी पद दिलाने की बात नहीं कहता है। वहीं, भाजपा कानपुर-बुंदेलखंड क्षेत्र के अध्यक्ष मानवेंद्र सिंह ने कहा कि जानकारी मिली है। पुलिस अपना काम कर रही है। इसमें पार्टी का कोई लेनादेना नहीं है। भाजपा की महिला नेता की ओर से दिए गए प्रार्थना पत्र की जांच सीओ सदर सुशील दुबे को सौंपी गई है। मामला धोखाधड़ी से संबंधित है। जांच रिपोर्ट आने के बाद कार्रवाई की जाएगी।

- आदित्य शुक्ल, एएसपी कानपुर आउटर।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.