कंपनी बाग चौराहा में गड्ढे में लगने लगी शटरिग

कंपनी बाग चौराहा से रावतपुर जाने वाले रास्ते में सीवर लाइन चोक होने से धंसी थी सड़क।

JagranThu, 23 Sep 2021 01:36 AM (IST)
कंपनी बाग चौराहा में गड्ढे में लगने लगी शटरिग

जागरण संवाददाता, कानपुर: कंपनी बाग चौराहा से रावतपुर जाने वाले रास्ते में सीवर लाइन चोक होने के कारण धंसी सड़क को ठीक करने के लिए नगर निगम ने गड्ढे में शटरिग लगाने शुरू कर दिया है। गड्ढे के कारण आधा रास्ता बंद है। लोगों को आने जाने में दिक्कत हो रही है। दैनिक जागरण ने बुधवार को विलंब हो की खबर प्रकाशित की तो नगर निगम का अमला हरकत में आया। अब दस दिन में निस्तारण कराने की तैयारी की जा रही है।

15 अगस्त को कंपनी बाग चौराहा के पास सड़क धंस गई थी। नगर निगम ने सड़क में भरा गंदा पानी निकालकर निर्माण शुरू कराया तो देखा कि 25 फीट पर सीवर लाइन चोक पड़ी है इसके कारण जल निकासी बंद है और पानी ओवर फ्लो हो रहा है। लेट लतीफी को लेकर दैनिक जागरण ने खबर छापी तो नगर निगम ने बुधवार को तेजी से कार्रवाई शुरू कर दी है। तेजी से मिट्टी धंसने को देखते हुए गड्ढे के चारों तरफ शटरिग लगाई जा रही है। मुख्य अभियंता एसके सिंह ने बताया कि तेजी से कार्य करने के आदेश अभियंता और ठेकेदार को दिए हैं। दस दिन में समस्या का निस्तारण कर दिया जाएगा।

पार्षद ने वाल्व तोड़ा, होगी कार्रवाई : गोविदनगर के कई इलाकों में पिछले पांच दिनों से पानी नहीं पहुंच रहा था। पार्षद ने जलकल अभियंता से जानकारी की तो पता चला कि दीप तिराहा निरालानगर चौकी के बगल में जलनिगम के वाल्व की चुड़ी बहुत कम खोली हैं। इस वजह से पर्याप्त पानी नहीं पहुंच रहा। इस पर बुधवार को पार्षद नवीन पंडित ने समर्थकों के साथ चैंबर का ताला तोड़कर वाल्व की चुड़ियां बढ़ा दी। आरोप लगाया कि जलकल और जलनिगम के आपसी झगड़े में जनता परेशान हो रही थी।

अवर अभियंता अतुल कुमार ने बताया कि गोविदनगर बंधन बैंक के पास बार-बार लीकेज होने की वजह से वाल्व की चुड़ियां कम कर दी थी। मीडिया के माध्यम से जानकारी मिली है कि पार्षद नवीन पंडित ने वाल्व ज्यादा खोल दिया है। गुरुवार को मौके पर जाकर स्थिति देख कर कार्रवाई करने के लिए उच्चाधिकारियों से सिफारिश करेंगे। उन्होंने बताया कि अगर क्षेत्र में पर्याप्त पानी नहीं मिल रहा था तो पार्षद को अवगत कराना चाहिए था।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.