55 फीसद स्कूलों में कायाकल्प की स्थिति बदतर, एडी बेसिक ने तैयार कराई मंडल की रिपोर्ट तो सामने आई पूरी हकीकत

ब बेहतर प्रदर्शन न करने वाले बीएसए के खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी

जिले के अलावा फर्रुखाबाद व कानपुर देहात में भी हालात अच्छे नहीं हैं। एडी बेसिक केसी भारती ने यह रिपोर्ट मंडलायुक्त डॉ.राजशेखर को दी है। कहा जा रहा है कि अब बेहतर प्रदर्शन न करने वाले बीएसए के खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी।

Publish Date:Sun, 17 Jan 2021 02:15 PM (IST) Author: Akash Dwivedi

कानपुर, जेएनएन। कोरोना महामारी के चलते अभी परिषदीय व उच्च परिषदीय विद्यालय बंद हैं। ऐसी स्थिति में शासन के अफसर चाहते हैं, कि सभी स्कूलों का कायाकल्प हो जाए। हालांकि जिले की स्थिति इस मामले में बदतर हो गई है। दिसंबर की जो रिपोर्ट एडी बेसिक ने तैयार कराई, उसमें 55 फीसद स्कूलों में कायाकल्प की दशा सबसे खराब निकली। कायाकल्प का जो काम हुआ, वह केवल 45 फीसद स्कूलों में किया गया। जिले के अलावा फर्रुखाबाद व कानपुर देहात में भी हालात अच्छे नहीं हैं। एडी बेसिक केसी भारती ने यह रिपोर्ट मंडलायुक्त डॉ.राजशेखर को दी है। कहा जा रहा है, कि अब बेहतर प्रदर्शन न करने वाले बीएसए के खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी।

14 अलग-अलग बिंदुओं पर होना है काम

स्कूलों में कायाकल्प को लेकर 14 अलग-अलग बिंदुओं पर काम होना है। इनमें स्कूलों में पेयजल व्यवस्था, बेहतर फर्नीचर, स्मार्ट हैंडवॉश मशीन, फर्श व शौचालयों में टाइल्स का निर्माण आदि शामिल है।

सोमवार को बैठक में कसेंगे पेच

एडी बेसिक केसी भारती ने बताया कि मंडल के हर जिले से बीएसए को बैठक में बुलाया गया है। सोमवार को सभी से जानकारी लेंगे, फिर उनके पेंच भी कसे जाएंगे।

एक नजर आंकड़ों पर

जिला                    कुल विद्यालय    कायाकल्प हुआ      फीसद

इटावा                         1443         1242                86.07

औरैया                         1457         956                  65.61

कन्नौज                      1459          931                  63.81

कानपुर                       1791          811                  45.28

फर्रुखाबाद                   1576          699                  44.35

कानपुर देहात               1920         1180                 61.46

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.